मनगढ़ंत खबरें लिखने वाले पत्रकारों की पोल खोलेंगी प्रीति जिंटा

अभिनेत्री से प्रोड्यूसर बनी प्रीति जिंटा एक ऐसी किताब लिख रही हैं जिसमें वे उन पत्रकारों को एक्सपोज करने जा रही हैं, जो सनसनी फैलाने के लिए मनगढ़ंत समाचार, आलेख या इंटरव्यू लिखते हैं। प्रीति अपनी इस किताब का तीस प्रतिशत हिस्सा लिख चुकी हैं। उनका इरादा है कि अगले साल के मध्य तक यह किताब पाठकों के हाथों में आ जाए।

प्रीति ने बताया है कि वे लंदन के एक बड़े प्रकाशक के साथ जल्द ही इस किताब के लिए अनुबंध करने जा रही हैं। प्रीति का मानना है कि बॉलीवुड के स्टार्स के बारे में बिना किसी ठोस जानकारी के कुछ भी लिख दिया जाता है। यह चटपटा लेखन भले ही पत्र, पत्रिका या पत्रकार को सुर्खियों में ला देता है, परंतु इससे स्टार्स को गहरी भावनात्मक ठेस पहुंचती है। आमतौर पर एक्टर अपने ऊपर लिखी गई झूठी खबर पर कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं करते, लेकिन इससे उन्हें भारी मानसिक आघात पहुंचता है। गॉसिप और नकारात्मक स्टोरी पढ़ कर लोग अदाकारों के बारे में गलत राय बना लेते हैं, जिसका उनके निजी जीवन पर प्रतिकूल असर पड़ता है।

प्रीति जिंटा ने अपने साथ हुई एक घटना का उदाहरण भी दिया। फिल्म 'कल हो ना हो' की शूटिंग के दौरान उनका नाम डेनमार्क के प्रिंस से जोड़ दिया गया था। तब एक अखबार ने खबर छापी थी कि वे प्रीति जिंटा से मिलने के लिए सेट पर भी गए थे। यह पूरी तरह मनगढ़ंत खबर थी, इससे उन्हें और उनके माता-पिता को काफी दुख पहुंचा था।

प्रीति का साफ कहना है कि वे इस किताब को बदले की भावना में नहीं लिख रही हैं, लेकिन वे इस पीत पत्रकारिता को एक्सपोज करना चाहती हैं। इसके लिए उन्होंने काफी तैयारी की है। उन्होंने न केवल तमाम अखबारों और पत्रिकाओं की कटिंग रखी हैं, बल्कि इसके शिकार कई लोगों से बात भी की है। प्रीति का यह भी कहना है कि पीत पत्रकारिता का शिकार लगभग सारे ही टॉप के एक्टरों को होना पड़ता है, परंतु आश्चर्य की बात यह है कि आज तक किसी ने इसे गंभीरतापूर्वक नहीं लिया है। अपनी इस किताब को प्रीति एक नई पहल बता रही हैं, हालांकि उनका कहना है कि उनकी यह किताब काफी रुचिकर होगी। प्रीति ने इस बात का भी रहस्योघाटन किया है कि जब से उनके द्वारा लिखी जा रही किताब का पता उनके साथी कलाकारों को हुआ है, कई ने उनसे संपर्क साधा है और अपनी आपबीती बताई है। प्रीति की यह पहली किताब होगी, लेकिन वे बीबीसी के लिए काफी समय तक लेखन कार्य कर चुकी हैं।

साभार- अमर उजाला.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *