मीडिया पर हमला हुआ, उपसंपादक अरेस्‍ट, फिर भी खबर नहीं

पंकज कुमार झा : ओडिशा से Samanwaya Nanda जी बता रहे हैं कि ओडिया अखबार समाज में एक फोटो छपने के कारण एक समुदाय विशेष के लोगों ने अखबार के कटक, बालेश्वर व राउरकेला कार्यालय में भारी तोडफोड की है । इन लोगों ने एक बालेश्वर जिले में अखबार के प्रेस को आग लगा दिया है । अखबार प्रबंधन के अनुसार इसमें पांच करोड रुपये की संपत्ति को नुकसान हुआ है ।

अखबार ने इस फोटो के लिए पहले पृष्ठ पर क्षमायाचना की है। पुलिस ने इस मामले में अखबार के एक उपसंपादक को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि पुलिस अब तक मीडिया कार्यालय पर हमले के आरोपियों के खिलाफ किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की है। दुर्भाग्य की बात है कि इन लोगों ने स्वतंत्रता सेनानी पंडित गोपबंधु दास की प्रतिमूर्ति तक को तोड़ दिया है।

आआपा के कौशांबी दफ्तर पर एक हिन्दुवादी संगठन के कुछ लोगों द्वारा किये गए प्रदर्शन और हल्की-फुल्की तोड़फोड़ पर महात्मा गांधी याद आ जाने वाले चोट्टे-लुच्चे-उचक्के कथित राष्ट्रीय मीडिया के लिए ये खबर किसी काम की नहीं है. 'वो बुराई करें हम भलाई करें' गा कर रोने वाले घडियालों को, दुकानदारों को इतनी बड़ी खबर से कोई लेना-देना नहीं है. मीडिया पर ही हमला हुआ है लेकिन फिर भी चुप रहने वाले को जी भर लानत-मलानत कीजिये. आप कहते रहिये मुझे बदतमीज़. मैं तो कहूँगा ही कि चोट्टे कहीं के, बेहूदे कहीं के.

पत्रकार पंकज कुमार झा के एफबी वॉल से साभार.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *