मुझे लगता है कि अरविंद केजरीवाल को सरकार बना लेनी चाहिए

Dilnawaz Pasha : कल अरविंद केजरीवाल दिल्ली के उपराज्यपाल से मिल रहे हैं. मुझे लगता है कि अरविंद केजरीवाल को सरकार बना लेनी चाहिए.
 
1. सरकार बनाने से उन्हें अपने विचारों को अमली जामा पहनाने का मौक़ा मिलेगा. अरविंद के बारे में यह आम धारणा बनाने की कोशिश की जा रही है कि वे सिर्फ़ बोलते ही हैं, कुछ करने की चुनौती लेने से बचना चाहते हैं.
 
2. दिल्ली की जनता ने आम आदमी पार्टी को बदलाव के लिए वोट किया है. यदि बीजेपी सरकार नहीं बना रही है तो आम आदमी पार्टी को सरकार बनाने का जोख़िम उठाते हुए दिल्ली में बदालव की शुरूआत करनी चाहिए.
 
3. अरविंद की सरकार अल्पमत में भले ही रहेगी लेकिन भारतीय जनता पार्टी या कांग्रेस उनकी सरकार को गिराने का जोख़िम नहीं उठाएंगी वो भी तब जब लोकसभा चुनाव होने वाले हों. अरविंद की 'ईमानदार' सरकार को गिराने वाली पार्टी जनता की नज़रों में विलेन बनने का ख़तरा नहीं उठाएगी.
 
4. अरविंद को आगे बढ़ने से रोकने का विपक्षी पार्टियों के पास सबसे कारगरहथियार यह साबित हो सकता है कि वे उन्हें 'निकम्मा' साबित कर दें. अरविंद
पर सवाल उठाने का विपक्षी दलों को मौक़ा तभी मिल सकता है जब उनकी सरकार सत्ता में आए और काम करे. अरविंद बेहतर काम करके इस मौक़े को भी विपक्षियों से छीन सकते हैं.
 
5. अभी तक अरविंद केजरीवाल का राजनीतिक व्यक्तित्व सिर्फ़ भाषणों और जनसभाओं तक ही सिमटा रहा है. जनता अब काम देखना चाहती है और काम करने के लिए सत्ता में आना ज़रूरी है।
 
इसलिए मुझे लगता है कि कल अरविंद केजरीवाल उपराज्यपाल की ओर से सरकार बनाने के न्यौते को स्वीकार करेंगे और दिल्ली में तेज़ी से काम कर देशभर में अपनी राजनीतिक ज़मीन तैयार करेंगे.
 
बीबीसी में कार्यरत दिलनवाज पाशा के फेसबुक वाल से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *