किसने भेजे थे काजमी की पत्‍नी के खाते में 19 लाख रुपये?

: दिल्‍ली पुलिस को पत्रकार की पत्‍नी पर भी संदेह : नई दिल्ली : इजरायली राजनयिक कार बम विस्फोट मामले में गिरफ्तार पत्रकार मोहम्मद अहमद काजमी (50) की पत्‍‌नी जहां आरा भी संदेह के घेरे में आ गई हैं। उनके बैंक खाते में ईरान से 18,78,500 रुपये आने का खुलासा दिल्ली पुलिस की जांच में हुआ है। काजमी के खाते में 3.80 लाख रुपये आए हैं। पुलिस ने विदेशों से मिली इस रकम की जांच के लिए प्रवर्तन निदेशालय को पत्र लिखा है।

पुलिस आयुक्त बीके गुप्ता ने पहली बार आधिकारिक तौर पर बयान दिया कि मोहम्मद अहमद काजमी ने न सिर्फ विस्फोट मामले में अहम भूमिका निभाई, बल्कि हमलावरों को सभी तरह की मदद भी मुहैया कराई थी। विस्फोट मामले में शामिल सैयद अली मेहंदी अनसदर, मोहम्मद रजा अबुल कासमी तथा हौसंग अफसार ईरानी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने रेड कार्नर नोटिस जारी करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। दिल्ली पुलिस आयुक्त बीके गुप्ता ने पत्रकार वार्ता में खुलासा किया कि 2011 में दो बार तेहरान यात्रा के दौरान काजमी ने सैयद अली मेहंदी अनसदर तथा मोहम्मद रजा अबुल कासमी से मुलाकात की थी। दोनों ने उसे जरूरत पड़ने पर भारत में अपने सहयोगियों की मदद करने को कहा था। इसकी एवज में काजमी को 5500 डॉलर भी मिले थे। इसके बाद सैयद अली तथा मोहम्मद रजा दो बार भारत आए। यहां काजमी ने अपनी आल्टो कार में उनके साथ इजरायली दूतावास की रेकी की। इजरायली दूतावास की गाडि़यां तथा उनके आने-जाने के रास्तों की सभी जानकारियां जुटाई गई। आयुक्त के अनुसार पुलिस के पास काजमी के इन लोगों से संबंध होने के पुख्ता सबूत हैं।

उन्होंने बताया कि सैयद अली की वापसी का एयर टिकट काजमी ने ही बुक कराया था। पुलिस ने संबंधित ट्रैवल एजेंट से वह सभी दस्तावेज बरामद कर लिए हैं। आयुक्त के अनुसार 13 फरवरी को औरंगजेब रोड पर इजरायली राजनयिक की कार पर हुए हमले के बाद डीसीपी अशोक चांद तथा एडिशनल डीसीपी संजीव यादव की टीम जांच में लगी थी। बैंकाक विस्फोट मामले में मलेशिया से गिरफ्तार हमले के मास्टर माइंड मसूद सेदाघाट जादेह की गिरफ्तारी के बाद जांच में पता चला कि वह अफसार ईरानी नामक युवक के संपर्क में था। हौसंग की लोकेशन 13 फरवरी को दिल्ली में थी। इलेक्ट्रानिक सर्विलांस में पता चला कि अफसार व भारतीय पत्रकार काजमी के संबंध हैं। इस आधार पर 6 मार्च को दिल्ली पुलिस ने काजमी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस आयुक्त के अनुसार उनके पास ईरानी नागरिक अफसार व काजमी के बीच टेलीफोन पर हुई बातचीत के सबूत भी हैं।

पुलिस आयुक्त के अनुसार सैयद अली व मोहम्मद रजा के तेहरान लौटने के बाद दिल्ली आया अफसार ईरानी से काजमी की मुलाकात हुई। ईरानी के साथ एक बार फिर काजमी ने इजरायली दूतावास की रेकी की। इस बार दोनों अफसार ईरानी द्वारा करोलबाग से सेंकड हैंड में खरीदी गई स्कूटी पर सवार होकर घूमे थे। स्कूटी पर घूमने का मकसद किसी को शक न होने देना था। इस दौरान अफसार ईरानी व काजमी में इजरायली राजनयिक को स्टिकी बम से निशाना बनाने पर भी चर्चा हुई थी। इसके बाद ईरानी ने जरूरत पड़ने पर लेने की बात कहकर वह स्कूटी काजमी के घर छोड़ दी थी। पुलिस ने करोलबाग के उस दोपहिया वाहन के डीलर के यहां से स्कूटी की खरीद संबंधी दस्तावेज बरामद कर लिए हैं।

पुलिस को छापे के दौरान काजमी के घर से 1250 डॉलर भी बरामद हुए हैं। यह उसी रकम का हिस्सा थे जो काजमी को तेहरान में दी गई थी। पुलिस ने वह अल्टो कार भी जब्त कर ली है जिससे सैयद अली व मोहम्मद रजा के साथ काजमी ने इजरायली दूतावास की रेकी की थी। काजमी से बरामद दो मोबाइल फोन में एक में ईरानी सिमकार्ड प्रयोग हो रहा था। पुलिस आयुक्त ने बताया कि बैंकाक ब्लास्ट मामले में गिरफ्तार ईरानी नागरिक मोरादी सईद, मोहम्मद खजाई तथा मसूद सेदाघाटजादेह से बैंकाक में चल रही पूछताछ में सामने आए तथ्यों पर भी हमारी नजर है। इस संबंध में बैंकाक पुलिस से भी मदद मांगी जा रही है। साभार : जागरण

 

 
 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *