जागरण में बंपर छंटनी (40) : प्रमोद को छल करके बाहर का रास्‍ता दिखाया प्रबंधन ने

दैनिक जागरण के पत्रकारों की नौकरी सुबह है तो शाम को नहीं। किसी पत्रकार को पता नहीं कि किसका पत्ता कब कटने वाला है। कर्मचारियों को बाहर करने के लिए प्रबंधन नित नए फार्मूले अपना रहा है। इस बार जमशेदपुर दैनिक जागरण से छंटनी करते हुए प्रमोद कुमार की बली ले ली गई है। पहले प्रमोद का सिलिगुड़ी ट्रांसफर किया गया था, लेकिन बाद में प्रमोद की सिलिगुड़ी में ज्वाइनिंग लेने से इनकार कर दिया गया। जब सिलिगुड़ी ने ज्वाइनिंग नहीं ली तो प्रमोद ने वापस जमशेदपुर में दरवाजा खटखटाया, लेकिन यहां उन्हें दो टुक जवाब मिला कि आपके सभी कागजात सिलिगुड़ी चले गए हैं अब आप वहीं संपर्क करें, हम कुछ नहीं कर सकते। 

 
प्रमोद ने सिलिगुड़ी में ज्वाइनिंग नहीं लिए जाने की वजह जाननी चाही तो कहा गया कि आपने आने में  देर कर दी। प्रबंधन ने जिस दिन ट्रांसफर किया था उस समय रिपोर्टिंग करनी थी, हफ्ते भर से कंपनी इंतजार करती रही, अब आपकी जगह  भर दी गई है। प्रमोद के साथ जागरण के छल भरे रवैये को देखते हुए अब ज्‍यादतर लोग जागरण समूह के ही सत्‍यानाश हो जाने की कामना करने लगे हैं। दैनिक जागरण में अब पढ़े लिखे पत्रकारों की कद्र नहीं। प्रमोद ने जागरण के अंतर समूह प्रतियोगिता में पुरस्कार जीता था। 


Related News-jagran chhatni

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *