सुबह गैंगरेप करने वालों को भूल कहीं और जुट जाएगा मीडिया

 

संसद से लेकर सड़क तक लोग तुमसे हमदर्दी जता रहे हैं… अस्पताल आकर खुद यूपीए चेयरपर्सन ने तुम्हारा हालचाल जाना…टीवी, रेडियो, अखबार सब तुम्हारी ही बातें कर रहे हैं… फेसबुक तो तुम्हारे हमदर्दों के आंसुओं से बुरी तरह से भीग गया है… लेकिन ये बताते हुए मुझे दुख हो रहा है कि तुम्हारे ये सारे हमदर्द कल सुबह छह बजे से अचानक गायब हो जाएंगे…. फांसी, नपुंसकता, हैवानियत, दरिंदगी और पुलिस रिफॉर्म जैसे शब्दों के स्थान पर गोधरा, राष्ट्रवाद, 2014, एसआईटी, दिल्ली की गद्दी और छप्पन इंच के सीने का अनहद नाद होगा…पढ़ी-लिखी लड़की हो समझती ही होगी…. प्राथमिकता का जो मामला है.
 
(रजनीकांत सिंह सहारा समय के चैनल हेड हैं। ये पोस्ट उन्होंने फेसबुक पर लगायी है।)
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *