अन्ना की जीत की खुशी में ये कैसा डांस!

बिहार के कटिहार जिले में अन्ना की जीत की खुशी में ”जश्न -ए-आज़ादी” नामक एक प्रोग्राम रखा गया. कटिहार के राजेंद्र स्टेडियम में आयोजित इस जीत उत्सव में जिला प्रशासन के अफसरों की मौजूदगी में कुछ ऐसा हो गया कि लोगबाग सोचने को मजबूर हो गए. आखिर ये कैसा जश्न-ए-आज़ादी है. मंच पर तो अन्ना के फोटो, बैनर और राष्ट्रीय ध्वज आदि थे. पर जब प्रोग्राम आगे बढ़ा तो कोलकाता से आई एक महिला कलाकार कम कपड़ों में उत्तेजक फिल्मी गानों पर उत्तेजक नृत्य करने लगी.

लोग इस भड़कीले नाच-गाने के प्रोग्राम और जश्न-ए-आजादी के बीच तालमेल नहीं बिठा पा रहे थे. कार्यक्रम की शुरुआत में अफसरों की मौजूदगी में तिरंगे को लेकर देश भक्ति के गीत गाए गए. पर बाद में जो कुछ हुआ वह देश भक्ति तो कतई नहीं था. अफसरों और अन्य मेहमानों के लिए आयोजकों ने जश्न ए आजादी के प्रोग्राम में लजीज व्यंजन, मदिरा, डांस… हर तरह की व्यवस्था कर रखी थी.

कटिहार के मीडियावाले भी मौके का फायदा उठाने में नहीं चूके. सब लोग नाच-गाने का लुत्फ उठाने में लगे रहे. किसी ने टिप्पणी की कि क्या आधुनिक जमाने में यही राष्ट्रभक्ति है. अगर यही सब करना था तो अन्ना के नाम और तस्वीर का इस्तेमाल क्यों किया गया और क्यों कार्यक्रम का नाम जश्न ए आजादी रखा गया. आयोजन के कुछ वीडियोज को देखें और खुद ही आप बताएं कि क्या ऐसा प्रोग्राम किया जाना उचित था. वीडियो नंबर एक, दो और तीन पर या उनके नीचे दी गई तस्वीरों पर क्लिक करें…

वीडियो नंबर एक

((इसमें कार्यक्रम शुरू होने के दौरान का माहौल है. सब कुछ अच्छा और राष्ट्र भक्ति में डूबा लग रहा था. मंच पर अफसर भी मौजूद हैं.))

वीडियो नंबर दो

((अन्ना के पोस्टर सजे मंच पर आइटम सांग शुरू, भड़कीले नृत्य ने लोगों को राष्ट्रभक्ति की नई परिभाषा सीखने पर मजबूर कर दिया.))

वीडियो नंबर तीन

((भारत माता और अन्ना के पोस्टर वाले मंच पर नृत्य का कार्यक्रम देर तक चलता रहा. कहीं से कोई विरोध की आवाज नहीं उठी.))

Comments on “अन्ना की जीत की खुशी में ये कैसा डांस!

  • ramjeet gupta says:

    vakai ???? agar is tarah ki ghatana hai to vaha maujud sabhi logo par rastrdroh ka mukadama darj hona chahiye aur tatkaal prbhav se vaha ke SP aur SDM ko nilambit kiya jana chahiye !!!!! aur vaha ke patrkaaro ko Patrkarita ka sahi paath padhana chahiye ……

    Reply
  • Santosh Gupta says:

    Ye Anna ki jeet ka dance nahi hai…. ye to katihar samaj ke kuch thekedaaron ka entertainment programme hai jinhe ye bhi nahi maloom hai ki “Gandhi wadi” ka matlab kya hai? Sabhi par notice honi chahiye…..

    Reply
  • Santosh Gupta says:

    Actually Ye Programme samaj ke kuch thekedaaron dwara kiya gaya jinhe ye bhi nahi maalum ke jashn e aazadi kya hoti hai? unper nitice ho jani chahiye… Iski aawaz Anna tak pahunchni hi chahiye!

    Reply
  • Prince kumar singh says:

    ye jeet ki jasn nahi dukho ka wo shor hai jo aane she pahle itna garajata hai
    ki inshan ki budhi nast ho jaati hai;ishki shuchana sirf anna ko hi nahi pure desh ko honi chahiye taki log jaage aur kam se kam apne bharat mata aur tirange ki maan bachhe shath hi shath un officers pe bhi kadi karwai honi chahiye jo waha programm ka maja le rahe the apne tirange ki ijat ko gulam karke

    Reply
  • yesvat ji , jo aapne dikhaya hai …meri samajh me anna ke sur me sur milane vale jyadatar logo ki aisi hi chavi hogi ,,jo desh bhakti ko ayyashi ki tarah mahne hai ,,, sher hai — dukh me bhi sharab !! sukh me bhi sharab !!!! anna ji jit me bhi sharab !!!! anna ke haar me bhi sharab !!!! aur ayyasi kate hai ye log …!!

    Reply
  • samaj ke kuch thekedaaron dwara kiya gaya jinhe ye bhi nahi maalum ke jashn e aazadi kya hoti hai

    k c jha (kalam ki jeet) 8800510332

    Reply
  • aap log pura visual keu nhi dekhe ..visual ka jo bold foteg hai woh dikhaya gya hai…pahle aap log puri jankari le lo usk baad media walo ya kisi par iljam lagao…..logo k bich wrong mseg dene se pahle puri jankari lele..jha tak rhi baat parshshan ki to aapne sp ka byet ko nhi show kiya………….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *