इन्होंने तो जगजीत सिंह को जीते जी मार दिया

आईबीएन7 के डिप्टी एडिटर समीर चटर्जी ने फेसबुक पर जगजीत सिंह के निधन की सूचना डाल दी है. और, लोगों ने कमेंट करके जगजीत सिंह के गुजरने पर श्रद्धांजलि व्यक्त करने का काम शुरू कर दिया है. समीर ने फेसबुक पर जगजीत के गुजरने की सूचना साढ़े चार घंटे पहले ही डाल दी. मुंबई और दिल्ली के मीडिया के वरिष्ठों का कहना है कि अभी तक कोई मेडिकल और न्यूज बुलेटिन ऐसा जारी नहीं हुआ है जिसमें जगजीत के गुजरने की जानकारी दी गई हो.

समीर ने ऐसा क्यों किया, समीर के पास जानकारी कहां से आई, और अगर आ भी गई तो अस्पताल के डिक्लेयर करने से पहले उन्हें खुद एनाउंस करने की क्या जल्दी थी… कई सारे सवालों के जवाब वही जानें, फिलहाल आप समीर चटर्जी के अपडेट को नीचे देख सकते हैं और नीचे की तस्वीर पर क्लिक करके उनके फेसबुक प्रोफाइल पर पहुंच सकते हैं. अभी अभी मिली एक जानकारी के मुताबिक आज जगजीत सिंह से मिलने बाबा रामदेव और गुलाम अली पहुंचे थे. दोनों ने मीडिया से बातचीत में जगजीत के बेहतर होते स्वास्थ्य के बारे में चर्चा की. मुंबई के वरिष्ठ पत्रकार अजय ब्रह्मात्मज ने बताया कि जगजीत सिंह की हालत क्रिटिकल जरूर थी पर ताजी सूचना जो अस्पताल की तरफ से मिल रही है, उसके मुताबिक जगजीत जी की स्थिति में सुधार आ रहा है….

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “इन्होंने तो जगजीत सिंह को जीते जी मार दिया

  • bahut jaldi thi inko …maut ko bhi breaking bana dala wo bhi galat…aakhir ibn 7 khabar har kimat par jo chalata hai

    so sad for mr editror

    Reply
  • कुमार समीर says:

    सामाजिक व्यवस्था डगमगाती कब है ? जवाब कई तरह के होंगे लेकिन सब का सार होगा नकारात्मक सोच । मसलन फलां की कमीज हमसे सफेद क्यों। इस होड में हमने क्या कुछ खोया है यह किसी से छिपी नहीं है। सामाजिक व्यवस्था छिन्न्-भिन्न हो चुकी है। किस तरह की गला काट प्रतिस्पर्धा चल पडी है वह सामने है। सामाजिक संरचना को संजोने में मदद करने वाला मीडिया भी इससे अछूता नहीं है। वह भटक सा गया है। आये दिन पहले खबर परोसने की चक्कर में गलतियां हो रही है। समीर चटर्जी ने भी बस यही गलती की है। इस लिहाज से देखें तो उनकी यह गलती बहुत बडी नहीं है लेकिन पत्रकारिता के लिहाज से देखें तो यह अक्षम्य है। इससे ज्यादा क्या कहूं। लगाम किस पर लगाने के लिए कहूं जब लगाम लगाने वाला ही इस तरह की बातों को हल्के में ले रहा है। यानी मुंसिफ ही कातिल तो डर काहे का।

    Reply
  • Rajendra Sharma says:

    Khabar se pahle khud pahunchne ki hodh hi patrkaron ki kamzori hai. kisi ne kuch kaha aur use sabse pahle brdcast karne ki kosis hi patrkaron ke liye gale ka fanda ban jati hai. Samirji channel par to voh nahin kar sake par apne majboot sutron ko darshane ke liye unhonne patrkar sulabh vyavhar ka parichay hi diya hai. ya fir ho sakta hai ki shaam ko somras ke prabhav mein yah update matlab badupdate kiya gaya ho. jai ramjiki

    Reply
  • Amar Jeet Singh says:

    Every body wants to be the “first” and “exclusive” News breaker in electronic media. To verify the facts and correctness of the news and seeking point of viwe of all concerned take “Time’, which no one has because then it will not be “The First”. But i feel its a good omen as the false spread of death news increase longivity of the concerned person. May Jag Jeet Singh longer heathier and singing soulfull songs of life abd be with us.

    Reply
  • Manjeet Singh says:

    Ab samjha…IBN7 khabar breaking news flash kar ke palat kyun jata hai…Jab bade aadhikari aise honge to neeche waale kaise honge!!!!

    Reply
  • Bina khabar ko jaane istarh ki news break karna yahi dikhata hai ki ye khabar har kimat par denge par satya hai ki nahi wo aap log samajh le…

    Reply
  • rajesh sapra says:

    aaj aisa lag raha hai jaise mere sharir se atma nikal gayi , kyon ki aisi roohaniyat, aisi mriduvani aisa shant savbhav , mere pass shabad nahi hai mere pyare jagjeet singh ji ke liye kyon ke jagjit ka matlab hai jis ne jag ko jeet liya, bhagwan kare agle janam me main jagjit singh ji ka beta banu

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *