एनयूजे के राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी में पत्रकारों के दुख गिनाए गए

नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स इंडिया की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक उज्‍जैन में प्रारंभ हुई। इस बैठक का उद्घाटन विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के उपकुलपति डाक्टर टीआर थापक ने किया। जबकि अध्यक्षता यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रज्ञानंद चौधरी ने की। इस बैठक के प्रथम दिन उद्घाटन सत्र में पत्रकारों की समस्याओं पर चर्चा की गई।

बैठक को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि थापक ने पत्रकारों द्वारा किए गए कल्याणकारी कार्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि पत्रकार समाज का अहम हिस्सा हैं और उनके द्वारा जनहित के मुद्दे उठाए जाते हैं। वहीं, प्रज्ञानंद चौधरी ने कहा कि एनयूजे देश का सबसे बड़ा संगठन है। जिसके द्वारा समय-समय पर पत्रकारों से जुड़ी समस्याओं को उठाया जाता है। यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव रासबिहारी ने संगठन की गतिविधियों की जानकारी दी। इस बैठक का आयोजन जर्नलिस्ट्स यूनियन ऑफ मध्य प्रदेश द्वारा किया गया। यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष सुरेश शर्मा ने आभार जताया। बैठक के दूसरे सत्र में यूनियन की सांगठनिक गतिविधियों पर चर्चा की गई। सभी राज्यों के प्रतिनिधियों ने अपने-अपने राज्यों की रिपोर्ट प्रस्तुत की। हरियाणा की ओर से यूनियन के प्रदेशाध्यक्ष एवं राष्ट्रीय सचिव संजय राठी ने प्रदेश की गतिविधियों के बारे में बताया। प्रेस रिलीज

Comments on “एनयूजे के राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी में पत्रकारों के दुख गिनाए गए

  • “NUJ” kab tak dukh ginaoge kab tak rona rowoge. tum patrakaron se bada napunsak parnee to is dhra par dusra koi nahee hai. sanvidakarmee bhe apne hak ke leye. aandolan karte hai.. patrakaron ne kabhi kiya. yad karke batiyega. mai aapse mafhi man longa..patrakar sangthan ke padadhikariyno netagiree karne ke alawa koch sakaratmak kariye nahe to apnee dum jaha jagah mell dal lijiye.

    Reply
  • NATIONAL UNION OF JOURNALIST IS SUNK SHIP. MOST OF ITS STATE UNITS HAVE DESERTED THE UNION AS THIS HAS BECOME A CONGLOMERATION OF NON JOURNALIST AND THOSE WHO HAVE VESTED INTERESTS. OFFICIALLY THIS THE UNION TO STRUGGLE FOR WORKING JOURNALISTS BUT MOST OF ITS MEMBERS ARE EITHER FAKE OR NON JOURNAILISTS. IN UTTARAKHAND ALL WEEKLY PAPERS ARE MEMBERS OF THIS UNION AND THESE WEEKLY PAPERS ARE PRINTED FOR ONLY FILES SO THAT ADEVERTISEMENTS ARE EXTRACTED FROM GOVERNMENT DEPARTMENTS . NUJ LEADER OF UTTARAKHAND OWNS AT LEAST 8 OR 9 SUCH WEEKLY PAPERS. IT IS ALL BECAUSE HE CAN PLEASE OR ENTERTAIN CENTRAL LEADERSHIP BY ANY MEANS. A LEADER FROM HARIDWAR IS PROFFESSIONAL RACKETEER. HE HAS CAPACITY TO ORGANISE SAMMELANS OR CONFERENCES OF ANY SIZE. HE MAKES MONEY BY ARRANGING SUCH CONFERENCES.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *