उत्तराखंड में मुश्किल में है मीडिया

: बड़े अखबारों के सरकार ने विज्ञापन के बल पर खरीदा, छोटे-मझोले अखबारों के वितरण पर कई प्रतिबंध, परवाना की व्यंग्य किताब पर भी लगी पाबंदी : उत्तराखंड में मीडिया की हालत बेहद खराब है. पत्रकार से नेता बने और अब मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठे डा. रमेश पोखरियाल निशंक ने ऐसी राजनीति की है कि बड़े अखबार वाले सत्ता व सरकार को लेकर चुप्पी साधे हैं या फिर गुणगान में लगे हैं. कुछ छोटे-मोटे अखबार हैं जो समय समय पर निशंक के खिलाफ खबरें छापते रहते हैं लेकिन उसका इन्हें खामियाजा भुगतना पड़ रहा है. या तो उन्हें अप्रत्यक्ष तरीके से धमकियां मिलने लगती हैं, या फिर उन्हें लालच देकर फुसलाया जाता है या फिर उनके अखबार की इंट्री सचिवालय समेत उन समस्त जगहों पर बैन कर दी जाती है जहां सत्ता प्रतिष्ठान से जुड़े अधिकारी मंत्री बैठते हैं.

देहरादून से कुछ लोगों ने भड़ास4मीडिया के पास मेल भेजकर कई जानकारियां भेजी हैं. मसलन, कुछ ऐसे अखबार जो निशंक के लाभ व धमकी में नहीं फंसे हैं, उनका वितरण सेक्रेट्रियेट में बैन करा दिया गया है. इनमें कुछ शाम के भी अखबार हैं. इन छोटे व मझोले अखबारों पर कई दिनों से पाबंदी लगी हुई है. देहरादून के पत्रकार संगठन व पत्रकार नेता मौन साधे हैं. बड़े अखबार निशंक के खिलाफ जाने की हिम्मत नहीं कर पा रहे क्योंकि उन्हें मोटे विज्ञापन देकर निशंक ने अपना गुलाम बना लिया है. एक अन्य सूचना के मुताबिक निशंक के उपर प्रकाशित एक व्यंग्य पुस्तक का वितरण रोक दिया गया है.

एक मेल के जरिए आई सूचना के मुताबिक दून रत्न प्रताप सिंह परवाना द्वारा लिखित व्यंग्य पुस्तक ‘पराजय के रहस्य’ पर अघोषित तौर पर पाबंदी लगा दी गई है. मेल भेजने वाले ने इस किताब के कवर को भी भेजा है जिसमें निशंक नामक योद्धा को कई घोटालों से लहूलुहान दिखाया गया है. एक अन्य मेल में कहा गया है कि निशंक भले ही सीएम बन गए हों लेकिन उनकी मानसिकता अब भी क्षुद्र व अलोकतांत्रिक है. वे पत्रकारों के बीच घटिया राजनीति कर रहे हैं. अपने खिलाफ न कोई खबर देखना चाहते हैं और न किसी के मुंह से एक वाक्य सुनना चाहते हैं. विरोधियों की आवाज दबाने के लिए वे पुलिस प्रशासन का भरपूर इस्तेमाल कर रहे हैं. प्रलोभन व धमकी, ये दो ऐसे हथियार हैं, जिसके बल पर निशंक उत्तराखंड की मीडिया से निपटने में रात दिन एक किए हुए हैं. ऐसा उत्तराखंड में कभी नहीं हुआ. जनता त्राहि त्राहि कर रही है और निशंक खुद को व अपनी कुर्सी को महिमामंडित कराने में लगे हुए हैं.

अगर आप उत्तराखंड में रहते हैं और मीडिया जगत में सक्रिय हैं तो देहरादून के हालात के बारे में ताजी व सच्ची जानकारी भड़ास4मीडिया के पास bhadas4media@gmail.com पर मेल करके भेजें ताकि इस राज्य में मीडिया पर कायम अघोषित आपातकाल से संबंधित तथ्यों का खुलासा किया जा सके.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “उत्तराखंड में मुश्किल में है मीडिया

  • [b]Han ab Hindustan ki baari hai :[/b] Hindustan ke Dehradun edition me jo kuch chal rah hai usse to lagta hai vastav me ab Hindustan ki baari hai. Resident editor Dinesh Pathak ki agyanta se akhbar cntents less ho raha hai. Akhbar par sarkar ke gungaan ke aarop lag rahe hain. Launching ke ek saal tak dikhne wale tevar puri tarh se gayab hai. Residen editor Dinesh Pathak c.m ke saath helicopter me ghoom rahe hain. Iski jhlak khabron me dikh rahi hai. Aapda prabandhan me fail sarkar ka gungaan akhbaar kar raha hai. Political khabron me pakshpaat saaf najar aa raha hai. Aam pathak is baat ko bolne laga hai. Khabron ki importance ko nahi samjha ja rahai hai. Story repeat ho rahi hain. Magazine me kai baar chap chuki story or internet se purani story chaapi ja rahi hain. Do Took padhne se pathak bhrmit ho rahe hain. Dinesh Juyal ke samya do took akhbaar ki jaan hota tha.
    Log field me kam kar rahe reporter ko pooch rahe hain ki kahan hai all is well in uttarakhand me. Ye bottem khabar Residen editor Dinesh Pathak ne likhi thi. Iska asar circulation par dekh raha hai. Hill region me to readers ki sankhya me kaafi giravat hai. Dehradun haridwar me bhj yahi haal hain. Rishikesh se sabhi or Roorkie se 80 perrcen log chod chuke hain. reporter chod ke ja chuke hain. Apne jin ladlon ko Resident editor Dinesh Pathak yahan laye hain unke character ko lekar kai baar sawal uth chuken hain.
    Halat ye hai ki launching ke or usse pahle se akhbaar se jude reporter dusre akhbaar me jugaar laga rahe hain. Management tak bhi ye baat pahoonch chuki hai. Jald kuch nahi huwa to Hindustan ki baari ate der nahi lagegi.

    [b]Ye Hindustan ko kya ho gaya :[/b] Hindustan ke Uttrakhand Editon ke resident editor Dinesh Pathak ne Rishikesh me apni dream team tainat ki hai. Is team ke member pahle Dainik Jagran me kai kaarnamo ko anjam de chuke hain. Inke karan kai baar Jagran ko shrmsaar hona pada. Bahrhaal Pathak sahib ki dream team ab Hindustan ko shramsaar kar rahi hai. 28 October ko Raiwala ke ek school me ladki ke saath chedchad hui. Sabhi akhbaron ne ise likha. Magar Hindustan ne is ghatna ko tapovan ka bata diya. Raiwala or tapovan ke beech 20 km ki duri hai. Tapovan tehri District or Raiwala Dehradun ka hissa hai. Charcha hai ki aisa khaas karan se kiya gaya. Log iske liye Hindustan ke circulation department se sampark kar rhe hain. Karan editorial team ke ek ek member ke character ko log khub jante hain. Sabke muhn se ek hi baat nikal rahi hai ki aakhir Hindustan ko kya ho gaya. Kaas ye dream team sabhi station par tainat ho jaye to kaha ja sakta hai ki ab Hindustan ki baari hai.

    Reply
  • rakesh dandriyal says:

    this man has no idea to run state, He is playing with the sentiments of Pahari people as well as BJP. we are seeing him last two years, what is his achievement,

    thanks

    Reply
  • ashish pratap singh says:

    dehradoon me ramesh pokhrial ne apne add ke bal per vaha ke patrakaro ko apne kabu me kar liya hai ab vaha ke patrakar bhi chief minister ke badai karne ne thak nahi rahe hai. unhone uttrakhand me tv news channel aur bade akhbaro ko add dekar apni kahi hui baato ko chapva dete hai

    Reply
  • hamam mai sab nagaay hai ….koi nisink ki tatti kha raha hai to koi lakoo kay vigapan lay raha hai abhi aug month mai pioner ko 8 lakh ka sarkari bhugtan kiya gaya hai aa sab jantaa ka pass hai nisink sarkar kyo iski bander bata kar rahi hai

    Reply
  • manoj kukreti says:

    Ye vahi Doon Ratna (?) parwana hain na jinhone kuchh he mah pahle Nishank ka gungan karti 1 C D nikali thi. Usme to bahut bhav vibhor hokar ye Nishank ki prashashti me gana ga rahe hain. Ab kya ho gaya inko? Paisa nahi mila ya kisi aur ke hath bik gaye. Aise beiman aur bikau logon ki taraphdari ap na he karen to achha. yad rakhen kharidne ki koshish use he ki jati hai jo bazar me bikne ko khada ho. Ap log us C D ko sunkar andaja lagaiye ki ye parvanaji akhir cheej kya hain ?

    Reply
  • kumarkalpit says:

    parwna ji yah koi nai baat nahi hai.aapatkallme indira gandhi ne loktantra ka gala ghonta tha aaj patrkar se neta bane nishank kar rahen hai.inme sach ka samna karne ki himmt nahi hai.jab ne press par hamla bola tha to bhajpai (tab ka janshandh) gala far-far kar virodh kar raha tha ab chup ? hai. tajub hai ki patrkar sangthan ke muh par tala laga hua hai.ek bhe padadhikari ka comment nahi aaya

    Reply
  • mini sharma says:

    Yeh india Hai Jee… Yaha Jo Jitna Bada Ghotala Karta hai. Utna Bada Neta Hota Hai..Jab Bade Bade Neta hee Ghotale pe Ghotale Karte phir Rahe hai aur unmai Sharam Naam Kee Koe Cheej Nahee hai too Nishank jee Peeche kyu Rahe…..[b][/b]

    Reply
  • VISHAL CHOUDHARY, HARIDWAR says:

    NISHANK HINDUSTAN KE SABSE BHRAST MUKHYAMANTRI HAI | AAJ KURSI HAI TO TAKAT BHI KAL SADAK PAR HONGE OR KEEDE KI TARAH RENG RHE HONGE . TAB NISHANK KO KOI PANI PILANE WALA NAHI MILEGA .KYONKI JAISI KARNI VAISI BHARNI. UTTRAKHAND ME YAH AALAM HAI KI JAGAH JAGAH PTRAKAR PIT RHE HAI TO NETA BHI . BADAMASH BEKHOF GHUM RHE HAI TO POLISH SARKAR KI KATHPUTLI BANI HAI | HARIDWAR ME BHAJPA KARYAKARTA APHARAN KAR HATYA KAR DETE HAI TO BAHJPA NETA UNHE BACHANE KE LIYE THANE ME HANGAMA KARTE HAI . KAHIN BADE CHEHRE BENAKAB NA HO JAYE, TO HARIDWAR KE JWALAPUR ME DUKAN ME AAG LAGNE KI KAVREJ KARTE PATRAKARO KI PITAI HO JATI HAI, PATRAKAR MUKADMA DARJ KARWA BHI DETE HAI LEKIN AAROPIYO KE KHILAF KARYAWAHI NAHI HOTI KYONKO VE BHAJPAI HAI. YAHI NAHI HAALAT BAD SE BADTAR HAI . AGAR NAHI SAMJHE TO UTTARAKHAND ME AA KAR KOI BHI DEKH SAKTA HAI YAHAN HO RAHA HAI BHRASTACHAR KA NANGA NACH. HO BHI KYO NA NISHAK JO HAI……………………….

    Reply
  • Bhuwan Pandey says:

    ye sahi baat h aajkal kumoun m b aisa hi chal raha akhbaar badne k badle din partin Ghat raha h. logo ka viswas uthta chala ja raha h jo phle log news free m bhejte the ab unhone b news bhejni chod di h kyu ki akhbaar m sachai nahi lg rah h sb paise kamane m mast h.

    Reply
  • Deepak Agrawal, Agra says:

    chief minister Ramesh pokhriyal ke bare me jo sun raha hun, us per yakeen nahi hota. Neshank jb hmare daur me patrkarita karte the, to aise nahi the.sayad satta or paise ke bhukh ne unhe aisa bna dia hoga, bhagwan unhe sadbudhy de……
    unhe pta hona chahie ki satta ka nsha jayada din tak nahi rehta hai.akher me unhe sadak per hi ana hai.;[b][/b]

    Reply
  • girish kumar pal says:

    kuch salo se main uttrakand ki yatra kar raha hun wahan ki bhogollik stithi ko dekhkar lagata ki wahan abhi vikas jo hua wo unt k muhan m jire k saman hain eses main cm par jyada kam karne ka dayitva pahale se hi jyada hai ese main jb ki wo kudh ek patakar raha ho to phir cm sahab ka ye kritya puri tarah se anuchit hi hai

    Reply
  • PARWANA JI UNPADH AUR JAANE MANE BLACK MAILER HAI. OWH DOON RATNA KAISE HO GAYE. AGAR ILLETRATE(ASHIKSHIT) LOG PATRAKARITA KARNE LAGENGE TO PATRAKARITA KA KHUDA HI MALIK KAI. PARWANA JI KABHI BLACKMAILING KE LIYE TO KABHI PAISE AINTHANE KE LIYE IS TARAH KI BETUKI KITABEN LIKHATE RAHTE HAIN. YE WAHI PARWANA HAIN JINHONE INDIRA HRIDAYESH KI TAAEEF ME KITAB LIKH DAALI THI. INDIRAJI KO KON NAHI JANTA. INDIRA HRIDAYESH AUR NISHANK MEIN KOYI FARK NAHIN HAI. DONO HI CHOR HAIN AUR PARWANA MAHCHOR HAI.

    Reply
  • RAVINDRA AAZAD says:

    परवाना जी अनपढ़ ही नहीं उनमें हर किश्म के ऐब हैं। उन्हें दून रत्न कहना दून और रत्न दोनो की गरिमा गिराना है। इस पत्रकार को अक्षरज्ञान तक नहीं है। और दूरों से लिखाता है। लिखाता भी उनसे है जो कि दारू के लिये तरसते हैं। मान कि देहरादून की पत्रकारिता में गिरावट आ गयी है। कुछ लोग गिर गये हैं। मगर परवाना से नीचे कोई नहीं गिर सकता। वह तो साक्षात कीचड़ हैं इसलिये इज्जतदार लोग डर जाते हैं। ब्लैकमेलिंग के लिये परवानाजी कभी कभार चार पन्ने का अखबार निकाल लेते हैं। जब दारू का खर्च पूरा नहीं होता है तो फिर भाण्डगिरी वाली या फिर ब्लैकमेलिंग के लिये बेतुकान्त कविता की किताब छाप देते हैं।पुराने पत्रकार बताते हैं कि परवानाजी कभी रोडवेजे स्टेशन के पास चाय की ठेली चलाते थे। कभी देहरादून में नरेन्द्र जैन सबसे बड़े उद्योगपति होते थे। पुराने पत्रकारों का कहना है कि परवाना जैन को ब्लैकमेल करने के लिये सफेदपोश डाकू के शीषक से ऐसी ही घटिया किताब छापते थे। जैसे ही पैसे खतम होते तो परवाना पांच दस कापी उस किताब की छाप देते थे। उसके बाद तो उनको इस कमाई का चस्का ही लग गया। यही नहीं वह पैसये कमाने के लिये नेताओं का गुणगान करने वाली किताबे भी छाप देते हैं। इससे पहले उन्होंने इन्दिरा हिरदेश पर भी लौह महिला के नाम से किता छापी और मोटी रकम कमाई। वह बेतुकान्त काव्य के महाकवि हैं। किसी जमाने में वह सड़क पर यह धन्धा उनका दशकों स ेचल रहा है। वह वास्तव में पत्रकारिता पर कलंक ही हैं। चरित्र भी ऐसा कि बुढ़ापे का भी खयाल नहीं रहता। चूंकि स्कूल का कभी दरवाजा देखा नहीं और ज्ञान अर्जन के लिये शब्द नहीं सीखे तो बातें भी वैसी ही करते हैं। इज्जतदार लोग उनसे बात करने से भी कतराते हैं क्योंकि उनके मुंह से बात-बात पर भद्दी गालियां निकलती हैं। अश्लीलता उनके चरित्र में भरी पड़ी है।एक बार प्रेस क्लब के अध्यक्ष भी बन गये मगर क्लब के सदस्य उनको झेल नहीं पाये और फिर निकाल दिये गये। अनपढ़ तो दून दर्पण के सम्पादक जी बासु साहब भी थे मगर वह पढ़े लिखों से अच्छे पत्रकार होते थे।ऐसे व्यक्ति के कारनामों पर अगर निशंक अंकुश लगाते हैं तो उनके कुछ पाप अवश्य ही धुल जायेंगे। कृपया इतने बड़े भड़ास के मंच पर इतने छोटे आदमी का महिमा मण्डन तो बन्द कर दें।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *