भड़ास4मीडिया के बारे में प्रदीप संगम अपने ब्लाग पर जो लिख गए…

स्व. प्रदीप संगम: आजकल के हिंदी अखबारों में तीन बातें प्राथमिकता से बाहर हो गयी हैं… मेहनत व काबलियत की सही पूछ और आकलन, उपयोगिता के अनुसार प्रतिभा का सही सदुपयोग और काम के मुताबिक़ बिना किसी भेदभाव के उपयुक्त भुगतान. इन तीन चीज़ों का अभाव ही हिंदी पत्रकारिता का मटियामेट कर रहा है :

प्रदीप संगम अचानक ऐसे चले जाएंगे, यकीन नहीं हो रहा

[caption id="attachment_20529" align="alignleft" width="168"]स्व. प्रदीप संगमस्व. प्रदीप संगम[/caption]अपनी एक आनलाइन प्रोफाइल में पत्रकार प्रदीप संगम ने खुद के बारे में लिखा है- ”working for human rights, world peace, media rights, public intrest issues. member National union of journalists India, age- 50 yrs. active in journalism since 30 yrs. Occupation- Assitant Editor, Hindustan Media VL.”

जनार्दन को जूता दिखाने वाले शिक्षक सुनील कुमार की असली जिंदगी

[caption id="attachment_20527" align="alignleft" width="89"]योगेंद्र सिंह शेखावतयोगेंद्र सिंह शेखावत[/caption]तारीख 6 जून, 2011. आज जब ढलती दोपहर को मैं देश के तेजी से बदलते घटनाक्रम पर पल-पल जानकारी लेते हुए न्यूज़ पर पकड़ बनाये हुए था तो उस समय जनमर्दन द्विवेदी की प्रेस कांफ्रेंस का टेलीकास्ट किया जा रहा था। अचानक एक शख्स अपना जूता लेते हुए द्विवेदी पर चढ़ाई करता हुआ दिखाई पड़ा।