Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

डीबी माल से मजदूर गिरा, भास्कर में खबर नहीं

: क्या ऐसा होता है निष्पक्ष अखबार? : साथियों, दिनांक 23 जुलाई 2010 को एमपी नगर, भोपाल स्थित एक मॉल से गिरकर एक मजदूर अत्यन्त गंभीर रूप से घायल हो गया। राजधानी के सभी अखबारों ने इस प्रमुख खबर को प्रकाशित किया क्योंकि इससे पहले भी इस माल में चार बार घटी दुर्घटना में चार व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। यह चौथी घटना प्रमुखता से सभी अखबारों द्वारा प्रकाशित की गई। केवल एक सबसे पुराने और स्वयंभू नम्बर 1 अखबार को छोड़कर।

<p style="text-align: justify;">:<strong> क्या ऐसा होता है निष्पक्ष अखबार?</strong> : साथियों, दिनांक 23 जुलाई 2010 को एमपी नगर, भोपाल स्थित एक मॉल से गिरकर एक मजदूर अत्यन्त गंभीर रूप से घायल हो गया। राजधानी के सभी अखबारों ने इस प्रमुख खबर को प्रकाशित किया क्योंकि इससे पहले भी इस माल में चार बार घटी दुर्घटना में चार व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। यह चौथी घटना प्रमुखता से सभी अखबारों द्वारा प्रकाशित की गई। केवल एक सबसे पुराने और स्वयंभू नम्बर 1 अखबार को छोड़कर।</p> <p>

: क्या ऐसा होता है निष्पक्ष अखबार? : साथियों, दिनांक 23 जुलाई 2010 को एमपी नगर, भोपाल स्थित एक मॉल से गिरकर एक मजदूर अत्यन्त गंभीर रूप से घायल हो गया। राजधानी के सभी अखबारों ने इस प्रमुख खबर को प्रकाशित किया क्योंकि इससे पहले भी इस माल में चार बार घटी दुर्घटना में चार व्यक्तियों की मौत हो चुकी है। यह चौथी घटना प्रमुखता से सभी अखबारों द्वारा प्रकाशित की गई। केवल एक सबसे पुराने और स्वयंभू नम्बर 1 अखबार को छोड़कर।

गधे या बकरी के मर जाने की खबर यह अखबार जगह भरने के लिए छाप देता है लेकिन यह गम्भीर मानवीय दुर्घटना इस अखबार ने नजरअंदाज की, क्यों? क्योंकि करोड़ों की लागत से बनने वाला यह मॉल इसी अखबार के मालिक द्वारा बनाया जा रहा है। यह तो छोटी सी बानगी भर है इस अखबार द्वारा प्रतिदिन खबरों को अपने नफे-नुकसान के अनुसार तोड़ मरोड़ कर छापा या दबाया जाता है।

अपने हित की खबरें गढने में इस अखबार से चतुर कोई नहीं है। प्रशासन से सॉठ-गॉठ कर कई एकड़ जमीन पर तरह-तरह के धन्धे इस अखबार द्वारा चलाए जा रहे हैं और बदले में इनका साथ देने वाले राजनेताओं और अधिकारियों को अखबार के माध्यम से उपकृत किया जाता है एवं साथ नहीं देने वालों पर अखबार में भड़ास निकाली जाती है। एक उदाहरण हाल ही में पीपली लाईव फिल्म का है।

किस तरह आमिर खान की इस फिल्म को विवाद का रूप देकर इस अखबार ने बड़े-बड़े किस्से अखबार के फ्रन्ट पेज पर छापे जबकि हकीकत यह है कि चूंकि आमिर खान इस अखबार के एक अभियान के ब्राण्ड एम्बेसडर बने थे इसलिए उनकी फिल्म की पब्लिसिटी के लिए यह सारा खेल रचा गया। दोस्तों, तय आपको करना है! अखबार के माध्यम से अपना उल्लू साधने वाले लोगों की सच्चाई आपके सामने है।

भोपाल से एक पत्रकार साथी की चिट्ठी पर आधारित. पत्र में पत्रकार साथी ने अखबार का नाम नहीं लिखा है. हम बता दें कि वह अखबार दैनिक भास्कर है और उसके माल का नाम डीबी माल है. -एडिटर

Click to comment

0 Comments

  1. Rajesh Saxena

    July 25, 2010 at 8:18 pm

    Bhaskar ke malik desh main patrkarita ki hatya karne walon main sabse aage hain. inki upri chamak damak ke peeche puri duniya ki gandgi aur sarandh chipi hai. kabhi bhagwan nyay karega. hum sabhi ko us din ka intzaar hai.
    Rajesh Saxena
    [email protected]

  2. jitendra singh

    July 25, 2010 at 11:04 am

    sirf bhaskar hi nahi naiduniya…..prabhat kiran…or ab agniban ne bhi is mamle me record khada kiya he …….. patrika ki khabar dokhe ka dhanda panjon pharma indore bhi paid news he or yahi khabar ke aropi log ek taraf bhaskar se 1 carore ki vigyapan deil kar chuke he

  3. P. Tiwari

    July 25, 2010 at 12:33 pm

    Bhaskar apne phayde k liye kuch bhi kar sakta he. Apne kaam nikalvane k liye aisi khabre Chapna is akhabar k liye aam bat ho gayi he. Ye Akhabar puri tereh se professional ho chuka he. Is Akhabar se sacchi patrikarita ki ummid karna ab bemani he.

  4. arvindo

    July 25, 2010 at 4:01 pm

    yashwantji aapko bhaskar ke virodhiyo se kamishan milata hai kya. jyadatar aap bhaskar ke khilaph likhate rahate ho. app jis city me rahate hai waha ke sare akhabar dekh lo, koi na koi khabar sabane miss kiya hoga.

  5. nikki

    July 25, 2010 at 4:58 pm

    bhaskar ki haqikat saare samajhdar log jaante hain , aaj akhbar ka itihaas kisi se chhupa nahin hai, suncity gwalior ki lease ke baare mein bhi sab jaante hain, shivpuri ka jameen ghotala bhi

  6. vikasshukla

    July 27, 2010 at 2:24 pm

    kisi ke virodh mein aisi batein likhna achha nahi hai
    Bhaskar ek achha samachar patra hai
    aisi khabron ne kiye bhaskar ki burai an karein to achha rahega

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

टीवी

विनोद कापड़ी-साक्षी जोशी की निजी तस्वीरें व निजी मेल इनकी मेल आईडी हैक करके पब्लिक डोमेन में डालने व प्रकाशित करने के प्रकरण में...

हलचल

: घोटाले में भागीदार रहे परवेज अहमद, जयंतो भट्टाचार्या और रितु वर्मा भी प्रेस क्लब से सस्पेंड : प्रेस क्लब आफ इंडिया के महासचिव...

प्रिंट

एचटी के सीईओ राजीव वर्मा के नए साल के संदेश को प्रकाशित करने के साथ मैंने अपनी जो टिप्पणी लिखी, उससे कुछ लोग आहत...

Advertisement