Connect with us

Hi, what are you looking for?

प्रिंट

हर्यश्‍व बने हिन्‍दुस्‍तानी, छोड़ा डीएलए

डीएलए, मेरठ में पिछले आठ महीने से सिटी इंचार्ज रहे हर्यश्‍व सिंह ने डीएलए को बाय बोल दिया है. अब अपनी नई पारी हिन्‍दुस्‍तान मेरठ के साथ शुरू कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि डीएलए से लगातार लोगों के छोड़कर जाने और कोई नई नियुक्ति नहीं होने से मैनपावर की कमी से तंग आकर हर्यश्‍व ने डीएलए छोड़ा है. दिसंबर 2009 में दैनिक जागरण छोड़कर डीएलए के सिटी इंचार्ज के तौर पर आए हर्यश्‍व के बारे में कयास लगाए जा रहे था कि वह वापस दैनिक जागरण जा रहे हैं, लेकिन उन्‍होंने हिन्‍दुस्‍तान ज्‍वाइन कर सब अटकलों पर विराम लगा दिया.

<p style="text-align: justify;">डीएलए, मेरठ में पिछले आठ महीने से सिटी इंचार्ज रहे हर्यश्‍व सिंह ने डीएलए को बाय बोल दिया है. अब अपनी नई पारी हिन्‍दुस्‍तान मेरठ के साथ शुरू कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि डीएलए से लगातार लोगों के छोड़कर जाने और कोई नई नियुक्ति नहीं होने से मैनपावर की कमी से तंग आकर हर्यश्‍व ने डीएलए छोड़ा है. दिसंबर 2009 में दैनिक जागरण छोड़कर डीएलए के सिटी इंचार्ज के तौर पर आए हर्यश्‍व के बारे में कयास लगाए जा रहे था कि वह वापस दैनिक जागरण जा रहे हैं, लेकिन उन्‍होंने हिन्‍दुस्‍तान ज्‍वाइन कर सब अटकलों पर विराम लगा दिया.</p>

डीएलए, मेरठ में पिछले आठ महीने से सिटी इंचार्ज रहे हर्यश्‍व सिंह ने डीएलए को बाय बोल दिया है. अब अपनी नई पारी हिन्‍दुस्‍तान मेरठ के साथ शुरू कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि डीएलए से लगातार लोगों के छोड़कर जाने और कोई नई नियुक्ति नहीं होने से मैनपावर की कमी से तंग आकर हर्यश्‍व ने डीएलए छोड़ा है. दिसंबर 2009 में दैनिक जागरण छोड़कर डीएलए के सिटी इंचार्ज के तौर पर आए हर्यश्‍व के बारे में कयास लगाए जा रहे था कि वह वापस दैनिक जागरण जा रहे हैं, लेकिन उन्‍होंने हिन्‍दुस्‍तान ज्‍वाइन कर सब अटकलों पर विराम लगा दिया.

वह डीएलए से करीब दस दिन से छुट्टी पर चल रहे थे. हर्यश्‍व हिन्‍दुस्‍तान में फ्रंट पेज डेस्‍क पर काम करेंगे. गौरतलब है कि पुष्‍पेंद्र शर्मा के हिन्‍दुस्‍तान मेरठ के स्‍थानीय संपादक बनने के बाद यह पहली नियुक्ति है. हर्यश्‍व सिंह ‘सज्‍जन’ डीएलए से पहले दैनिक जागरण मेरठ और अमर उजाला मेरठ में भी रह चुके हैं. उधर, डीएलए, मेरठ में हर्यश्‍व के जाने के बाद डेस्‍क की जिम्‍मेदारी हरेंद्र सिंह मोरल को दी गई है. रिपोर्टिंग टीम को खुद संपादकीय प्रभारी सुनील छइयां आपरेट करेंगे. कुछ लोग मान रहे थे कि हर्यश्‍व के जाने के बाद अरविंद शर्मा को बड़ी जिम्‍मेदारी मिल सकती है. लेकिन ऐन मौके पर हरेंद्र बाजी मार  ली. हरेंद्र डीएलए में संपादकीय प्रभारी सुनील छइयां और हर्यश्‍व दोनों के निकट रहे हैं.

Click to comment

0 Comments

  1. अमित गर्ग. जयपुर. राजस्थान.

    September 6, 2010 at 1:45 pm

    आदमी मरने के बाद कुछ नहीं सोचता,
    आदमी मरने के बाद कुछ नहीं बोलता,
    कुछ नहीं सोचने और कुछ नहीं बोलने पर,
    आदमी मर जाता है…

  2. amit garg

    September 6, 2010 at 6:43 pm

    harendra ke liye ye badhiya moka hai vo ek pratibha saali patrakar hain. vo dla ki jimmedari bhadiya nibhayenge. badhai hoooooooooooooooo

  3. shiva

    September 6, 2010 at 6:44 pm

    harendra aur sajjan dono ko badhai..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Advertisement

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

Uncategorized

मीडिया से जुड़ी सूचनाओं, खबरों, विश्लेषण, बहस के लिए मीडिया जगत में सबसे विश्वसनीय और चर्चित नाम है भड़ास4मीडिया. कम अवधि में इस पोर्टल...

हलचल

[caption id="attachment_15260" align="alignleft"]बी4एम की मोबाइल सेवा की शुरुआत करते पत्रकार जरनैल सिंह.[/caption]मीडिया की खबरों का पर्याय बन चुका भड़ास4मीडिया (बी4एम) अब नए चरण में...

Uncategorized

भड़ास4मीडिया का मकसद किसी भी मीडियाकर्मी या मीडिया संस्थान को नुकसान पहुंचाना कतई नहीं है। हम मीडिया के अंदर की गतिविधियों और हलचल-हालचाल को...

Advertisement