लीजेंडन्यूज.इन पर क्यों नहीं गई आपकी नज़र

महोदय यशवंत जी, आपने 21 अगस्त को नेटवर्क6 के बारे में लिखा, लोगों ने शुभकामनायें भी दी, नेटवर्क6 की हौसलाअफजाई भी की। बहुत अच्छा। इसी तरन्नुम में एक और न्यूज पोर्टल है जो शायद आपकी निगाहों से बचा हुआ है, या यूं कहें कि उसे अपने लिए किसी प्रचार की जरूरत ही नहीं पड़ी, वह जिनके लिए लिखता है वो धन्ना सेठ नहीं आमजन होते हैं। एक खूबी और है इस पोर्टल की।

जितनी बेबाकी से प्रशासन के खिलाफ लिखता है, उतना ही नेता और धन्नासेठों की पोल खोलने किए प्रसि़द्ध है। नेटवर्क6 से भी एक कदम आगे की सोच रखने वाला ये न्यूजपोर्टल www.legendnews.in लीजेण्डन्यूज.इन है. ये तो शायद आपको पता हो कि इस पोर्टल के संचालक ने पूरे 12 वर्ष तक कृष्ण की पावन नगरी ‘मथुरा’ से ईवनिंग डेली निकाला और अपनी खबरों के दम पर प्रशासन की नाक में दम करके रखा।

इसी के चलते स्थानीय पत्रकारों की डग्गेमारी व छीछालेदरी प्रवृत्ति से भी बराबर लोहा लिया। इसीलिए ज्यादातर मीडियाकर्मी जो कि मूलतः पत्रकार नहीं थे, लीजेण्ड न्यूज को धराशायी करने के लिए जुटे रहे मगर जज्बा तो देखिये कि लीजेण्ड की टीम ने एक नहीं, दस कदम आगे रखते हुये एक साल पहले ही सीधे वेब वर्ल्ड में प्रवेश कर लिया और इस तरह लीजेण्ड न्यूज एक पोर्टल के रूप में हमें और भी तेजी से चमकता हुआ दिखा।

चूंकि मेरा कार्यक्षेत्र कभी मीडिया नहीं रहा शायद इसीलिए मैं पारदर्शी तौर पर इतना कुछ जान पाया। लीजेण्ड की टीम में से कुछ एक को जानता हूं इसीलिए इतनी बेबाकी से बता सका। हालांकि ऐसे लोगों की अब भी कमी नहीं है जो लीजेण्ड से ईर्ष्या रखते हैं, खासकर मीडियाकर्मी । फिर भी लीजेण्ड ने जैसे इवनिंग डेली को एक मुकाम दिया, आशा है उसका वेब पोर्टल भी लोगों को अपनी निर्भीक शैली से परिचित कराता रहेगा। आप चाहें तो इसे भी देख सकते हैं। इसके चीफ एडिटर सुरेंद्र चतुर्वेदी हैं।

पलाश सिंह

मथुरा

Comments on “लीजेंडन्यूज.इन पर क्यों नहीं गई आपकी नज़र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *