दो अखबारों के दो वरिष्ठ उप संपादकों का मीडिया से तौबा

दैनिक जागरण, मेरठ में कई वर्षों से कार्यरत सीनियर सब एडिटर मणि भूषण ने इस्तीफा दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने संस्थान में अपनी वर्तमान स्थिति से असंतुष्ट होकर यह कदम उठाया है. उनके इस्तीफे पर प्रबंधन ने अभी फैसला नहीं लिया है. मणि अमर उजाला में भी काम कर चुके हैं. सूत्रों का कहना है कि मणिभूषण मीडिया लाइन को ही छोड़ने का मन बना चुके हैं. प्रबंधन उनके इस्तीफे पर एक-दो दिनों के अंदर अंतिम फैसला लेगा.

एक अन्य जानकारी के मुताबिक दैनिक भास्कर, भोपाल के सीनियर सब एडिटर अनिल पांडेय ने भी प्रबंधन को इस्तीफे का नोटिस थमा दिया है. अनिल मीडिया को गुडबाय बोलकर अपने परिवार द्वारा संचालित एनजीओ में काम करने की तैयारी कर चुके हैं. वे भास्कर से पहले पत्रिका और वेबदुनिया में भी काम कर चुके हैं. अनिल का कहना है कि वे मीडिया में लंबे समय से काम करने के बाद अब बदलाव चाहते हैं, इसलिए परिवार के लोगों द्वारा संचालित एनजीओ के काम को आगे बढ़ाने का फैसला लिया है.

Comments on “दो अखबारों के दो वरिष्ठ उप संपादकों का मीडिया से तौबा

  • sandip thakur says:

    media ke jo halat hoti ja rahi hai aur isme jis tarah ke log ate ja rahe hai us-se upaj rahe halat me ek true journalist ke ley kuch apna karne ya pustani kaam-kaaj ko apnane ke alawa koi dusra rasta nahi bachta dikh raha hai.newspaper aur chanel me itne dirty rajniti ho gaye hai ke sahi,sacche aur imandar adami ko kaam karna mushkil ho gaya hai,noukari karna aasan hai. kuyki ajkal media me noukari kaam aur kabeliat ke aadhr per nahi bulki kis aadhar per ho rahi hai,sab jante hai.

    Reply
  • Rizwan Chanchal lucknow says:

    Akhbar prabandhan ke upekcha ka sikar hona aur fir usse nata torna fir kisi doosare akhbar se jurna yeh silsila purana hai but meadia se hi nata tor dena yeh immpossible hota hai kahne ko bhale hi hum kah de ki goodby karne ki than li hai but iska keeda hi aisa hai ki jisse jud gaya door hone ka nam hi nahi leta maine bhi dainik jagran jab chora tha to yahee socha ki line hi badal du kuch dino bad fir swatantra bharat se jud gaya use bhi chorna hi pada ek bar fir line badalne ki sochi but possible nahi hua aaz naukari to nahi but akhbar jaroor nikal raha hun .mai ye janta hun ki yeh bhi aisa nasa hai jo utare nahi utarta jise lag gaya use lag gaya .

    Reply
  • ravinder kumar saini says:

    that’s good sir, is guter se jitni jaldi ho sake nikal lena chaye…. socity mai itna kudaa nahi hai jitna media ne faila rakha hai…. mai bhe 5 saal se is line mai hu abhi young hu…. per jitna gaand isme dekha aisa kahi bhe nahi dekha…

    Reply
  • नारायण सिंह भदौरिया says:

    यशवंत जी अनिल पांडेय ने दिल्‍ली में हिंदुस्‍तान में सब एडिटर पद पर ज्‍वाइन किया है। आपको पूरी खबर गलत दी गई। अनिल ने मीडीया से तौबा नहीं किया है और न ही अलविदा। उसने भास्‍कर में यह खबर फैला रखी थी कि उसे वेबदुनिया से सहायक संपादक का ऑफर मिला हुआ है और वह इंदौर जा रहा है। लेकिन वह गया है हिंदुस्‍तान दिल्‍ली। यह पक्‍की खबर है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *