हरीश पाठक, अब सुधर जाइए

राष्ट्रीय सहारा, पटना में स्थानीय संपादक द्वारा डांटे जाने के बाद अत्यधिक तनाव के चलते अचानक एक जर्नलिस्ट के बेहोश होने की घटना के बारे में कई नए तथ्य पता चले हैं. भड़ास4मीडिया की जांच से खुलासा हुआ है कि इस घटनाक्रम के लिए पूरी तरह जिम्मेदार स्थानीय संपादक हरीश पाठक हैं. संतोष चंदन, जो कुछ महीने पहले तक दिल्ली में सहारा समय न्यूज चैनल के हिस्से हुआ करते थे, अपनी मर्जी से पटना गए और अपनी मर्जी से टीवी की बजाय प्रिंट को चुनकर उसके हिस्से बने. ऐसा पत्रकारीय समझ और बेहतर काम करने की इच्छा-तमन्ना-भावना के कारण.

रिपोर्टरों की मीटिंग के दौरान बेहोश हुए संतोष

राष्ट्रीय सहारा, पटना से सूचना है कि दो महीने पहले दिल्ली से ट्रांसफर होकर पटना गए डिप्टी चीफ रिपोर्टर संतोष चंदन सुबह रिपोर्टरों के साथ मीटिंग के वक्त अचानक बेहोश होकर गिर पड़े. उन्हें तत्काल एंबुलेंस से अस्पताल ले जाया गया. उनकी हालत सुधर रही है. सूत्रों का कहना है कि स्थानीय संपादक हरीश पाठक के डांटने के कारण संतोष चंदन बेहोश हुए. जबकि कुछ अन्य लोगों के मुताबिक संतोष को खराब स्वास्थ्य की वजह से अचानक बेहोश हो गए. इस बारे में स्थानीय संपादक हरीश पाठक का कहना है कि मीटिंग की शुरुआत ही हुई थी कि संतोष की तबीयत बिगड़ गई.