BHADAS4मीडिया>>

आम्रपाली शर्मा ने मुंबई मिरर ज्‍वाइन किया

सिनेमा और इंटरटेनमेंट से जुड़ी पत्रकार आम्रपाली शर्मा ने फिर टाइम्‍स ऑफ इंडिया ग्रुप से जुड़ गई हैं. उन्‍होंने इस ग्रुप का अखबार 'मुंबई मिरर' ज्‍वाइन किया है. इससे पहले आम्रपाली इसी ग्रुप के इंटरटेनमेंट चैनल जूम में इनपुट हेड थी, परन्‍तु तीन महीने पहले उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया था. 'मुंबई मिरर' में भी उन्‍हें इंटरटेनमेंट सेक्‍शन की जिम्‍मेदारी दी गई है. आम्रपाली इस ग्रुप के पहले लहरें टीवी, आईबीएन7, स्‍टार न्‍यूज तथा आजतक जैसे संस्‍थानों से जुड़ी रही हैं. इस संदर्भ में संपर्क किए जाने पर उन्‍होंने 'मुंबई मिरर' ज्‍वाइन करने की पुष्टि की.


भोगवादी जीवन से उबे आदमी की आवारगी (भाग छह)

Category: भड़ास4मीडिया

‘मुझे प्यार, पैसा या नाम मत दो, अगर कुछ दे सकते हो तो सत्य दो। (मैकेंडलेस के पास मिली हेनरी डेविड थोरो की किताब लाइफ इन दी वुड्स में यह पंक्ति जिस पृष्ठ पर था, उसके ऊपर में मैकेंडलेस ने बड़े अक्षरों में लिखा था ‘सत्य’)। क्योंकि बच्चे निश्छल होते हैं  इसलिए उन्हें न्याय से प्यार होता है, और चुंकि  हममें से अधिकांश दुष्ट  और कपटी होते हैं, इसलिए हमें दया की जरूरत होती है। -जी के चेस्टरटन।

 

उस वक्त अचानक सबकुछ बदल जाता है। हमारी आवाज और नैतिक  सोच। समझ में नहीं आता  कि क्या सोचा जाय और किसकी  बात सुनी जाय। अचानक ऐस


प्रभात खबर ने गया से शुरू किया अपना 10वां संस्‍करण

Category: प्रिंट

महातीर्थ गया से प्रभात खबर आज (21 अक्तूबर, 2011) से प्रकाशित होने लगा है. महात्मा बुद्ध की इस धरती, जहां से दुनिया को ज्ञान की रोशनी मिली, यहां से प्रकाशन शुरू करने वाला प्रभात खबर पहला दैनिक अखबार है. इसी के साथ प्रभात खबर बिहार का भी पहला ऐसा दैनिक अखबार हो गया है जो राज्‍य के चार शहरों, पटना, मुजफ्फरपुर, भागलपुर और गया से प्रकाशित हो रहा है.

झारखंड के चार शहरों (रांची, जमशेदपुर, धनबाद व देवघर) से प्रकाशित होने वाला प्रभात खबर अकेला अखबार पहले से है. प्रभात खबर को पूर्वी भारत (बिहार, झारखंड व बंगाल) के सब


कथाकार स्वयं प्रकाश को कथाक्रम सम्मान की घोषणा

Category: सम्मान

लखनऊ : वरिष्ठ कथाकार स्वयं प्रकाश को वर्ष 2011 के प्रतिष्ठित ‘आनंद सागर कथाक्रम सम्मान’ से नवाजा जाएगा। कथाक्रम के संयोजक शैलेन्द्र सागर ने बताया कि स्वयं प्रकाश को यह पुरस्कार आगामी 12-13 नवम्बर को आयोजित होने वाले ‘कथाक्रम-2011’ कार्यक्रम के मौके पर प्रदान किया जाएगा। यह निर्णय ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त प्रख्यात लेखक श्रीलाल शुक्ल की अध्यक्षता वाली कथाक्रम सम्मान समिति द्वारा लिया गया है।

कथा लेखन के क्षेत्र में उत्


विज्ञापन कम, एमपी के रीजनल चैनलों का निकल रहा दम

Category: टीवी

मध्य प्रदेश में स्थानीय समाचार चैनल तो हैं, लेकिन बेहाल हैं। दरअसल स्थानीय खबरों को ही अपनी खासियत मानने वाले इन चैनलों को नामी ब्रांड के मुहर वाले क्षेत्रीय खबरिया चैनलों से जबरदस्त टक्कर मिल रही है। नतीजा, उनकी माली हालत खस्ता हो रही है।

राजधानी भोपाल में इस वक्त 3 चैनल स्थानीय खबरें दर्शकों तक पहुंचाते हैं। इंदौर में इनकी संख्या 5 है। ये चैनल जाहिर तौर पर स्थानीय केबल नेटवर्क के दम पर चलते हैं। इनमें अपने-अपने शहरों की खबरें ज्यादा दिखती हैं। भोपाल के प्रमुख स्थानीय चैनल बीटीवी के समाचा


जो बाजार के आलोचक हैं, उन्हें कोई संपादक नहीं बनाना चाहता

Category: इंटरव्यू

विमल कुमार

: इंटरव्यू : कवि और पत्रकार विमल कुमार : एसपी ने कम विवेकवान और भक्त शिष्यों की फौज खड़ी की, जिनमें से कई आज चैनल हेड हैं : मैं तब यह नहीं जानता था कि मीडिया का इतना पतन हो जाएगा और वह भी सत्ता-विमर्श का एक हिस्सा बन जाएगा : उर्मिलेश और नीलाभ मिश्र, दोनों मुझसे आज भी योग्य हैं : अज्ञेय जी ने शब्दों की गरिमा को, रघुवीर सहाय ने जनता की संवेदना को और राजेंद्र माथुर ने संपादक पद की गरिमा को बचाए रखा :


9 दिसंबर 1960 को ब


गरीबी, बेरोजगारी, स्‍वास्‍थ्‍य जैसी वास्‍तविक खबरें मीडिया से गायब हैं : काटजू

Category: कहिन

प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के नवनियुक्‍त चेयरमैन जस्टिस एम काटजू बीते दस अक्‍टूबर को मीडिया से मुलाकात की थी. इस दौरान उन्‍हों ने मीडियाकर्मियों से चौथे खम्‍भे के बारे में ढेर सारी बातें कीं. कई सुझाव दिए, कई बातें रखी, मीडियाकर्मियों की बातें भी सुनीं. जस्टिस काटजू ने पत्रकारों की जिम्‍मेदारी पर भी काफी कुछ सुझाव दिए, विचार रखे. इन्‍हीं सुझावों-विचारों को 'द हिंदू' ने अपने यहां प्रकाशित किया है.

उसी से साभार लेकर जस्टिस काटजू का वक्‍तव्‍य यहां प्रकाशित किया जा रहा है.

Justice Katju interacts with mediapersons

Keep media out of lokpal purview, says Editors Guild

Category: हलचल

The Editors Guild of India on Friday favoured keeping the media out of the purview of the proposed anti-corruption watchdog, the Lokpal. A three-member team of the apex body of editors, which appeared before the parliamentary panel examining the Lokpal bill, stated that media in the country was broadly a "private body" and could not be covered by the anti-corruption watchdog.

The Guild was represented by its president TN Ninan, general secretary Coomi Kapoor and treasurer Suresh Bafna in the meeting with the parliamentary standing committee on law and justice.

Many MPs cutting across party lines, including those in the committee, have been demanding bringing the media and NGOs under the ambit of the proposed Lokpal.

In the meeting, some members are understood to have told the Guild representatives that there is no demand to bring the "news content" under the Lokpal, but only the "business content", since media houses also buy assets likes land for their infrastructure.

Committee chairman Abhishek Singhvi is learnt to have stated that the Guild members put across their views "clearly and proactively."

As many as 21 other organisa


डाक्‍टरों की लापरवाही से पत्रकार के मासूम पुत्र की मौत

Category: दुख-दर्द

भगवान माने जाने डाक्‍टरों की लापरवाही ने एक मासूम की जान ले ली. टीवी टुड़े ग्रुप चैनल तेज के एसोसिएट ईपी प्रणव रावल के पांच साल का बच्‍चा डाक्‍टरों की गलत इलाज के चलते  असयम काल के गाल में समा गया. रावल ने अपने पुत्र को तबीयत खराब होने पर इंदिरापुरम, गाजियाबाद के एक अस्‍पताल में भर्ती कराया था. डाक्‍टरों ने मासूम को टाइफाइड बताकर इलाज शुरू कर दिया, जिससे बच्‍चे की हालत बिगड़ गई.

इधर, जांच में यह बात सामने आई कि बच्‍चे को टाइफाइड नहीं बल्कि डेंगू हुआ था. गलत दवाओं के असर बच्‍चे के कई अंगों पर विपरी


भोगवादी जीवन से उबे आदमी की आवारगी (भाग छह)

Category: साहित्य

‘मुझे प्यार, पैसा या नाम मत दो, अगर कुछ दे सकते हो तो सत्य दो। (मैकेंडलेस के पास मिली हेनरी डेविड थोरो की किताब लाइफ इन दी वुड्स में यह पंक्ति जिस पृष्ठ पर था, उसके ऊपर में मैकेंडलेस ने बड़े अक्षरों में लिखा था ‘सत्य’)। क्योंकि बच्चे निश्छल होते हैं  इसलिए उन्हें न्याय से प्यार होता है, और चुंकि  हममें से अधिकांश दुष्ट  और कपटी होते हैं, इसलिए हमें दया की जरूरत होती है। -जी के चेस्टरटन।

 

उस वक्त अचानक सबकुछ बदल जाता है। हमारी आवाज और नैतिक  सोच। समझ में नहीं आता  कि क्या सोचा जाय और किसकी  बात सुनी जाय। अचानक ऐस


लोकमत समाचार का उत्कृष्ट साहित्य वार्षिकी ‘दीप भव’, लोकार्पण 22 को दिल्ली में

Category: आयोजन

महाराष्ट्र के प्रतिष्ठित समाचार पत्र समूह लोकमत मीडिया लिमिेटेड के हिंदी दैनिक लोकमत समाचार द्वारा प्रकाशित कला साहित्य वार्षिकी दीप भव-2011 का लोकार्पण 22 अक्टूबर को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के मल्टीपरपस हॉल में शाम 6.30 बजे होगा। लोकार्पण करेंगे प्रख्यात साहित्यकार कृष्णकुमार। कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे कवि और श्रेष्ठ आलोचक अशोक वाजपेयी।

कार्यक्रम में ‘हमारी स्थिति’ विषय पर परिचर्चा भी होगी। परिचर्चा में प्रख्यात नृत्यांगना सोनल मानसिंह, वरिष्ठ चित्रकार जतिन दास, वरिष्ठ रंगकर्मी कीर्


एक शार्टफिल्म : सुसाइड करने का नया तरीका- मीडिया ज्वाइन कर लो

Category: वेब-सिनेमा

सुसाइड.... एक शॉर्ट फिल्म है, जिसे हम मीडियाकर्मियों ने मीडिया में अपने अनुभवों के आधार पर बनाया है। हममें से सभी कुछ ना कुछ ख़्वाब या कुछ मक़सद को लेकर इस क्षेत्र में आते हैं। जब आप कॉलेज में पढ़ते हैं तो वो दुनिया और आदर्श अलग होते हैं, और जब आप फील्ड में उतरते हैं तो ये दुनिया अलग ही होती है। जो आप पढ़कर-सीखकर आते हैं, प्रैक्टिकल करते हुए उन सब बातों के मायने बदल जाते हैं।

याद है... जब कॉलेज में मासकॉम की पहली क्लास थी तो टीचर ने पूछा, "आप मीडिया में क्यों आए?" सबसे ज्यादा जवाब यही था, "मैं समाज के लिए कुछ करना चाहत


रामप्रकाश त्रिपाठी बने हिन्‍दुस्‍थान समाचार के नेशनल हेड

Category: आवाजाही

: दीपक गोस्‍वामी खबर भारती से जुड़े : नई दिल्‍ली : आरएसएस की समाचार एजेंसी हिन्‍दुस्‍थान समाचार में नेशनल हेड के तौर पर रामप्रकाश त्रिपाठी के ज्‍वाइन कर लेने की खबर है। श्री त्रिपाठी अब तक दैनिक जागरण के कानपुर स्थित यूपी डेस्‍क में बतौर मुख्‍य उपसम्‍पादक के पद पर कार्य कर रहे थे। हालांकि उनके इस्‍तीफे की अब तक पुष्टि नहीं हो पायी है। लेकिन बताते हैं कि वे कानपुर से मुक्‍त होकर दिल्‍ली में नया कार्यभार सम्‍भालने पहुंच रहे हैं।

पिछले करीब दो दशकों से अमर उजाला और दैनिक जागरण में अपनी स


अखंड हिमाचल को अब नहीं छाप रहा दैनिक भास्‍कर

Category: कानाफूसी

हिमाचल प्रदेश के सुंदरनगर से छपने वाले अखबार अखंड हिमाचल, जो चंडीगढ़ में दैनिक भास्कर की प्रेस से छपवाया जा रहा था, को भास्कर प्रबंधन ने वित्तीय गड़बडि़यों के चलते छापना बंद कर दिया है. पता चला है कि अंखड हिमाचल के प्रबंधकों ने प्रिंटिग की एवज में जो चेक भास्कर को दिया वह बाउंस हो गया. बाद में भास्‍कर की ओर से रितेश बंसल को सुंदरनगर भेजा गया. तब जाकर वसूली हो पाई.

हालात यह रहे कि इन सब दिक्‍कतों के चलते अखबार छापने में भी मुश्किलें आईं. बाद में अंखड हिमाचल को मोहाली के जगजीत प्रेस में छपवाने का इं


थानाध्‍यक्ष ने ग्रामीणों पर चढ़ाई जीप, भड़के लोग, फूंका थाना, बिगड़ा माहौल, फायरिंग, पांच घायल

Category: पॉवर-पुलिस

वैसे भी जिस बंदे के बदन पर खाकी होती है, उसके हाव-भाव-ताव सब अलग होते हैं. जनता उनके लिए कीड़े-मकोड़े से ज्‍यादा नहीं होती. खाकी बदन पर चढ़ते ही ये खुद को कानून से ऊपर समझने लगते हैं और आईपीसी की धाराओं को अपनी रखैल. जब जैसा चाहा वैसा किया, फिर कानून की कमजोरी का फायदा उठाते हुए बच निकले. आज गाजीपुर जिले के बिरना थाने क्षेत्र में हुई घटना भी ऐसे ही एक पुलिस वाले की गुंडई तथा कानून से खुद को ऊपर समझने की मानसिकता का परिचायक है.

इस दारोगा का नाम है रणजीत राय. युवा है, जोश है, पर होश में कभी नहीं रहता है. यह खुद को दंबग का सल