‘शूद्रों का प्राचीनतम इतिहास’ और ‘गदर जारी रहेगा’ का 26 को लोकार्पण

: शूद्रों का प्राचीनतम इतिहास : एसके पंजम की पुस्तक ‘शूद्रों का प्राचीनतम इतिहास’ में वैज्ञानिक व तर्कसंगत तरीके से इस सवाल का जवाब खोजा गया है कि शूद्र वर्ग कौन है, इसकी उत्पति कैसे हुई ? इसी क्रम में सृष्टि, पृथ्वी व जीव की उत्पति से होते हुए भारत में नस्लों की उत्पति तथा शूद्र वर्ण एवं जाति नहीं, बल्कि नस्ल हैं, इसका विशद अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। वैदिक काल में शिक्षा, सभ्यता और संस्कृति की क्या स्थिति रही है, बौद्ध काल में शिक्षा, आर्थिक व सामाजिक व्यवस्था कैसी रही है, भारतीय समाज में दास प्रथा और वर्ण व्यवस्था व उसकी संस्कृति व संस्कार किस रूप में रहे हैं आदि का वृहत वर्णन है।

परवेज अहमद के नाट्य संग्रह का लोकार्पण

इंदौर और उज्जैन में आयोजित कार्यक्रमों में प्रेस क्लब आफ इंडिया के अध्यक्ष परवेज अहमद के नाट्य संग्रह ”ये धुआं कहां से उठता है’ का लोकार्पण किया गया. शिक्षक दिवस और हिन्दी पखवाड़ा के तहत इंदौर और उज्जैन में आयोजित इस कार्यक्रम में भारतीय हिन्दी पत्रकारिता के पुरोधा राजेन्द्र माथुर को याद किया गया.