117 करोड़ की अमर उजाला-डीई शॉ डील की ईडी जांच करे : आरबीआई

रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने केंद्र सरकार को सलाह दी है कि वह 117 करोड़ रुपये की अमर उजाला-डीई शॉ डील में विदेशी विनिमय नियमों के उल्लंघन के आरोपों की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से कराए. अमर उजाला ने अमेरिकी कंपनी डीई शा पर आरोप लगाया है कि उसने डील में धोखाधड़ी की है. रिजर्व बैंक आफ इंडिया को दिल्ली हाईकोर्ट ने डीईशा- अमर उजाला मामले की सुनवाई के दौरान अपनी राय देने के लिए नोटिस जारी किया हुआ था. इस प्रकरण से संबंधित पीटीआई की खबर इस प्रकार है–

अमर उजाला और डीई शॉ के झगड़े की चर्चा दुनिया भर में

अमर उजाला और डीई शॉ के बीच का विवाद अब ग्लोबल होता जा रहा है. विदेशों में भी इसकी खबरें छपने लगी हैं. वाल स्ट्रीट जर्नल में नुपूर आचार्य की एक खबर छपी है जिसमें उन्होंने ग्लोबल प्राइवेट इक्विटी फर्म डीई शॉ एंड कंपनी का पक्ष प्रमुखता से रखा है. डीई शॉ ने वर्ष 2007 में करीब 18 फीसदी स्टेक प्रिंट मीडिया कंपनी अमर उजाला में खरीदा था. इसके बदले डीई शॉ ने अमर उजाला को करीब 1.17 बिलियन रुपये (38.2 मिलियन डालर) अदा किए.

अमर उजाला में अमर उजाला से धोखाधड़ी की खबर

डीई शॉ और अमर उजाला के बीच चल रही लड़ाई में कल दिल्ली हाईकोर्ट ने जो आदेश दिए, उसके बारे में अमर उजाला में आज खबर प्रकाशित हुई है. खुद अपने बारे में अपने यहां खबर प्रकाशित कर अमर उजाला प्रबंधन ने स्वस्थ पत्रकारिता का परिचय दिया है लेकिन दुर्भाग्य यह कि इसके पहले जितने विवाद अमर उजाला घराने में हुए, उससे संबंधित खबरें अमर उजाला में प्रकाशित नहीं की गईं.

अमर उजाला को नहीं मिली अंतरिम राहत, डीई शॉ समेत कई को नोटिस

अमर उजाला और डीई शॉ की लड़ाई रोचक मोड़ पर पहुंच गई है. दिल्ली हाईकोर्ट ने डीई शॉ, रिजर्व बैंक आफ इंडिया, फारेन इनवेस्टमेंट क्लीयरेंस बाडी और कारपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री को नोटिस जारी कर उनसे अमर उजाला-डीई शॉ डील पर उनका विस्तृत अभिमत / जवाब मांगा है. कोर्ट ने डीई शॉ से दो हफ्ते में और बाकियों से अगली सुनवाई की तारीख 14 जुलाई को अपना जवाब पेश करने को कहा है.

तेरा क्या होगा अमर उजाला!

अतुल जी चले गए. किसी के जाने के बाद कुछ दिन तक चीजें थम जाती हैं. लेकिन राजुल माहेश्वरी ने एक प्रोफेशनल टीम लीडर की भांति कुछ भी थमने नहीं दिया. बड़े भाई के अचानक चले जाने से अंदर से अपार दुखी होते हुए भी बाहर से अपनी टीम के सभी लोगों को प्रेतिर-उत्प्रेरित करते रहे और ऐसे नाजुक मोड़ पर भावुक होने की बजाय ज्यादा ऊर्जा से काम कर अतुल जी के सपने को पूरा करने का आह्वान करते रहे. राजुल के इस स्नेह और प्रेरणा से सभी विभागों और सभी यूनिटों के लीडर्स ज्यादा एक्टिव हो गए और एक मुश्किल घड़ी को सबों ने अदभुत एकजुटता से पार कर लिया.