मेरे दुखी पत्रकार साथी, न बनिए सर्कस का हाथी

सर, आजकल मैं बहुत परेशान हूं। नौकरी तो कर रहा हूं लेकिन सही सेलरी और सही पद से दूर हूं। अन्य जगहों पर कोशिश की पर सभी मंदी की बात कह रहे। आईबीएन7 और जी, यूपी में सेलेक्शन हुआ, पर हाथ में कुछ न आया। सिर्फ निराशा मिल रही है। सात साल से एक ही जगह काम करने से मेरी इमेज भी डाउन हो गई है। साथ ही, मेरी किस्मत भी कुछ अच्छी नहीं है। मेरे जूनियर अच्छे जगहों पर, बड़े पदों काम कर रहे हैं। समझ में नहीं आता है किधर जाऊं?एक पत्रकार, दिल्ली।