ईटी के पत्रकार ने रामदेव को दी ‘बीफ’ खाने की सलाह

[caption id="attachment_20555" align="alignleft" width="122"]जोजी फिलिप थामसजोजी फिलिप थामस[/caption]: ट्विटर पर बवाल : जोजी फिलिप थामस. नाम से जाहिर है कि ये क्रिश्चियन हैं. पत्रकार भी हैं. इकोनामिक टाइम्स, दिल्ली में काम करते हैं. ट्विटर पर इन्होंने बाबा रामदेव को सलाह दी कि अनशन के दौरान जो कमजोरी आ रही है, उसे दूर करने के लिए और स्टेमिना बढ़ाने के लिए वे ‘बीफ’ का सेवन करें. बीफ माने गो मांस.

ये है ईटी / ईटी नाऊ की आचार संहिता

: Introduction: What We Stand For : As a brand, The Economic Times / ET Now (hereinafter referred to as ET) draws its power and influence from two things: 1. Our ability to deliver the complete story: making sure our facts are correct, citing our sources, and providing analysis and context 2. The confidence of our readers that we are unbiased in our reporting and have no agenda to further save that of accurate reporting.

ईटी के 50 साल और स्वर्णिम प्रतिज्ञा

कॉलेज छोड़े 11 साल हो गए लेकिन अर्थशास्त्र के प्रोफेसर रमेश गर्ग की बात  आज भी याद आती है, ‘वाणिज्य (कॉमर्स) के छात्र हो, रोज इकनॉमिक टाइम्स (ई.टी.) जरूर पढ़ा करो’. वही इकानॉमिक टाइम्स, जो देश का सबसे बड़ा और दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा अखबार होने का दावा करता है, 7 मार्च, 2011 को पूरे 50 साल का हो गया. और अपने 50वें जन्मदिन पर इससे बेहतर कोई अखबार कुछ और कर भी नहीं सकता, जो ई.टी. ने किया.