ग्रहण सूर्य पर या मीडिया पर !

शेष नारायण सिंहएक सूर्यग्रहण आया और चला गया। प्रकृति का नियम है। हर साल कई बार सूर्य और चंद्र ग्रहण लगते हैं। उसका खगोल शास्त्रीय महत्व होता है, वैज्ञानिक उस पर रिसर्च करते हैं, जो भी नतीजे होते हैं, संभाल कर रख लिए जाते हैं। हो सकता है कि उसका ज्योतिष पर भी कोई असर पड़ता हो, भविष्यवाणी करने या प्राकृतिक आपदा की पूर्व सूचना होती हो, साधारण आदमी के लिए कुछ कहना संभव नहीं है। साधारण आदमी के लिए जो संभव है, वह ये कि न्यूज के नाम पर टीवी चैनलों को देखना बंद कर दें क्योंकि वह उसके बस में है। इस बार के सूर्य ग्रहण की कवरेज में टीवी न्यूज की कमजोरी पूरी तरह से रेखांकित हो गयी है। आज के टीवी चैनलों के कुछ पुरोधा यह तर्क देते हैं कि अब पत्रकारिता वह वाली नहीं रह गयी है, जो पहले हुआ करती थी। कहते हैं कि पत्रकारिता अब आधुनिक हो गयी है, इसके मुहावरे बदल गये हैं, उसका व्याकरण बदल गया है। इसलिए अब टीवी चैनल पर जो कुछ दिखाया जायेगा, वह बिल्कुल आधुनिक होगा और उसके संदर्भ पुरानी पत्रकारिता से नहीं लिये जायेंगे। यह तर्क बहुत ही जोर-शोर से दिया जा रहा है और सूर्य ग्रहण लगने के तीन दिन पहले से जिस तरह की कवरेज शुरू हुई, लगता है कि अब इस पर अमल भी हो गया है…इस देश की पत्रकारिता देश के आम आदमी के लिए दुर्भाग्य की बात है, क्योंकि राजनीतिक नेताओं ने तो आम आदमी की खैरियत पूछना बहुत पहले बंद कर दिया था। वे उन्हीं मुद्दों पर ध्यान देते थे, जो मीडिया में उछल जाते थे। नेता बिरादरी की पूरी कोशिश रहती है कि वे मुद्दे मीडिया में न आयें जो उनके लिए असुविधाजनक हों।

ज्योतिषी कैसे डराते हैं, मैंने देखा है

विनय बिहारी सिंहकुछ ज्योतिषियों का कारोबार तो भय दिखा कर ही चल रहा है। एक घटना का जिक्र मैं यहां करना चाहता हूं जो अत्यंत रोचक तो है ही, आंखे खोलने वाला भी है। बात उन दिनों की है जब मैं युवा हुआ करता था। कोलकाता से कुछ दिनों के लिए मैं अपने जन्म स्थान उत्तर प्रदेश गया। वहीं पड़ोस में एक ज्योतिषी दो तीन वर्षों से आ कर रह रहे थे। उनका बड़ा नाम था। मैं पहले से ही ज्योतिष का विद्यार्थी था। घर वालों ने उनके बारे में बताया तो उनसे मिलने मैं जा पहुंचा ताकि ज्योतिषीय मुद्दों पर उनसे बातचीत कर सकूं। वे बूढ़े से व्यक्ति थे। उस दिन उनका मौन था। वे स्लेट पर लिख कर बातों का जवाब दे रहे थे। वे किसी की कुंडली देख रहे थे। उनकी भविष्यवाणी मैं गौर से सुन रहा था। जब वह कुंडली देख चुके तो मुझे अकेले देख कर उन्होंने मुझे कोई यजमान समझा और तुरंत स्लेट पर लिख दिया- आपके जीवन में एक खतरा आ गया है। मैंने उन्हें बताया कि मैं तो कल कोलकाता जा रहा हूं। खतरा कैसा? उन्होंने कहा कि ट्रेन में भी खतरा हो सकता है। उन्होंने फिर स्लेट पर लिखा- आपकी रक्षा के लिए मैं कोई अनुष्ठान कर सकता हूं। मुझे यह स्थिति बहुत रोचक लगी।