काश! मैंने थोड़ी जल्‍दबाजी दिखाई होती

होली के रंग और बधाईयों के माहौल में जब हमने अपना कम्प्यूटर खोला और फेसबुक पर आनलाइन हुए तो एक दुखदायी खबर वहां इंतजार कर रही थी। हमें जानकारी मिली की वरिष्ठ पत्रकार और पत्रकारिता की स्वंय में एक संस्था माने जाने वाले आलोक तोमर जी का निधन हो गया। इस खबर को सुनकर मन एकदम से भारी हो गया। होली की खुशियां एक दर्द में बदल गई।