‘कादंबिनी’ के दो-दो संपादक!

मृणाल पांडेय के जमाने में विष्णु नागर ‘कादंबिनी’ छोड़ नई दुनिया गए तो विजय किशोर मानव को इस पत्रिका का संपादक बना दिया गया. यह बात अगस्त महीने 2008 की है. समय का पहिया ऐसा चला कि हिंदुस्तान प्रबंधन ने मृणाल पांडेय के हाथों ‘हिंदुस्तानियों’ की जमकर छंटनी कराने के बाद उनके भी चले जाने की स्थितियां निर्मित कर दी.