महुआ छोड़ मायानगरी पहुंचे महमूद

महोदय, मैं पांच साल से अपनी एक भोजपुरी फिल्‍म की स्‍टोरी पर काम कर रहा था, जब मेरी स्‍टोरी पूरी हो गई तब मैं अपनी फिल्‍म का कांसेप्‍ट लेकर एमडीवी मोशन पिक्‍चर के प्रोड्यूसर प्रवीण कुमार के पास गया. उन्‍होंने मेरी स्‍टोरी सुनी और मेरी 35 एमएम की भोजपुरी फिल्‍म पर पैसा लगाने के लिए तैयार हो गए.