साहित्य संसार में महिलाएं दलितों जैसीं

मैत्रेयी पुष्पामशहूर लेखिका मैत्रेयी पुष्पा का कहना है कि साहित्य जगत में ईमानदारी से लिखने के लिए हिम्मत और हौसला चाहिए क्योंकि सच लिखना ख़तरे से खाली नहीं है. समाचार चैनल न्यूज एक्सप्रेस के मंथन कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत करते हुए मैत्रेयी पुष्पा ने बेबाक अंदाज में कहा कि साहित्य जगत में भी सियासत हावी है. मसलन किस पुस्तक को पुरस्कार मिलना चाहिए.