‘ग्लोबल गांव के देवता’ के लिए रणेंद्र सम्मानित

: पाखी का वार्षिक महोत्सव 18 सितंबर को संपन्न : वाराणसी । काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के कला संकाय के प्रेक्षागृह में 18 सितंबर को साहित्यिक मासिक पत्रिका ‘पाखी’ का वार्षिक महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर जे.सी. जोशी स्मृति साहित्य सम्मान समारोह के साथ-साथ परंपरा और सृजनात्मकता विषय पर एक संगोष्ठी आयोजित की गयी।

श्रीलाल शुक्ल समेत 7 पुरोधा सम्मानित

[caption id="attachment_15638" align="alignnone"]पाखी के प्रथम वर्षगांठ पर आयोजित सम्मान समारोह में उपस्थित मीडिया और साहित्य क्षेत्र के दिग्गजपाखी के प्रथम वर्षगांठ पर आयोजित सम्मान समारोह में उपस्थित मीडिया और साहित्य क्षेत्र के दिग्गज[/caption]

राजधानी के हिन्दी भवन में हिन्दी की साहित्यिक पत्रिका ‘पाखी‘ के प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर एक साहित्य समारोह का आयोजन हुआ। यह समारोह तीन चरणों में था। प्रथम चरण में ‘जेसी जोशी स्मृति साहित्य सम्मान’ से सात साहित्यकारों को सम्मानित किया गया। इसके तहत ‘शब्द साधक शिखर सम्मान’ ‘राग दरबारी’ जैसी कालजयी कृति के रचनाकार श्रीलाल शुक्ल को प्रतीक चिन्ह, प्रशस्ति पत्र और 51 हजार रुपये का चेक भेंट कर सम्मानित किया गया। श्रीलाल शुक्ल की अस्वस्थता की वजह से यह सम्मान उनके पुत्र आशुतोष शुक्ल ने ‘पाखी’ के संपादक अपूर्व जोशी की मां श्रीमती जया जोशी से ग्रहण किया।