2010 कनपुरिया पत्रकारों के मानमर्दन का वर्ष

: चौथा कोना – खुद सुधरो फिर छेड़ो सुधार की मुहिम : एक आईपीएस अधिकारी ने कानपुर प्रेस को सिखाया सबक : दिसम्बर के आखिरी हफ्ते में पलटकर देखा जाता है बीते साल को. चौथा कोने से पलटकर देखने में 2010 कनपुरिया पत्रकार के मानमर्दन का वर्ष कहा जायेगा. एक आईपीएस अधिकारी ने कानपुर प्रेस को यह सबक दिया है कि चाहे नौकरी वाले पत्रकार हों या फैक्ट्री (प्रेस) मालिक वाले पत्रकार अगर अपने गरेबान में झांके बगैर दूसरे में खोट निकालने का धन्धा करोगे तो मारे जाओगे…. तन से भी, मन से भी और धन से भी.

यशवंत जी, डीआईजी प्रेम प्रकाश को हीरो न बनाएं

: दिव्या प्रकरण में कानपुर पुलिस झुकी : प्रबंधक के बेटे को गिरफ्तार करना पड़ा : यशवंत जी, दिव्या प्रकरण में हिन्दुस्तान की तथ्यपरक रिपोर्टिंग के बाद आखिरकार कानपुर पुलिस को स्कूल प्रबंधक के बेटे को गिरफ्तार करना पड़ा। पुलिस शुरू से ही इस मामले में लीपापोती में लगी रही यह प्रमाणित करने के लिए इस केस में पुलिस द्वारा 19 दिनों में दिए गए बयान, उनकी करतूत काफी है। इतना ही नहीं इसी बौखलाहट का नतीजा है कि कानपुर पुलिस प्रशासन ने हिन्दुस्तान पर चौतरफा हमला बोल दिया।