जितनी बड़ी पूंजी, उतना बड़ा स्वार्थ : शीतला सिंह

[caption id="attachment_18138" align="alignleft" width="122"]शीतला सिंहशीतला सिंह[/caption]इंटरव्यू : शीतला सिंह (वरिष्ठ पत्रकार और ‘जनमोर्चा’ के संपादक) : ‘जनमोर्चा’ के पहले संपादक हरगोविंदजी कहते थे- जिसमें जन हित हो उसी को पत्रकारिता का अंतिम सत्य मानो : पत्रकार को हर प्रकार के विचारों को समान रूप से देखना चाहिए : लालकृष्ण आडवाणी ने पत्रकारिता में भारी मात्रा में दक्षिणपंथी विचारधारा के लोगों को घुसाया : पूंजीवादी अखबारों ने पब्लिक सेक्टर को बर्बाद करा दिया :