स्टार न्यूज पर कब्जे के लिए स्टार समूह और आनंद बाजार पत्रिका में जंग

मुंबई : वे पहले चुपके से आए. धीमे-धीमे छाए. और फिर पूरी तरह कब्जा गए. विदेशी ऐसा ही करते रहे हैं भारत के साथ. वो चाहे शक-हूण हों या मुगल हों या अंग्रेज रहे हों. कब्जाने का दौर अब भी जारी है, बस, फार्मेट बदल गया है. नई गुलामी की व्यवस्था इस दौर में कारपोरेट कंपनियों के माध्यम से हो रही है. ध्यान से पढ़िए-देखिए. वो दौर शुरू हो चुका है. स्टार न्यूज ताजा उदाहरण है.

स्टार न्यूज में 650 रुपये प्रति घंटे की दर से स्क्राल बुक कराएं

अपनी खबरों तथा बेहतरीन समाचार कवरेज करने वाले न्‍यूज चैनल के रूप में पहचान रखने वाला स्‍टार न्‍यूज भी लोकल चैनलों की कटेगरी में आ गया है. घबराइये मत, खबरों के मामले में नहीं बल्कि विज्ञापन दर के मामले में. अब आप भी स्‍टार न्‍यूज पर आप कुछ घंटों तक पट्टी पर अपना नाम, पता या जो कुछ भी चाहें लोगों को दिखा सकते हैं, बिल्‍कुल ही सस्‍ती दर पर.

एनडीटीवी ने किया विज्ञापन के लिए स्‍टार इंडिया से समझौता

एनडीटीवी ग्रुप अब अपने तीन चैनलों तथा वेबसाइट को विज्ञापन उपलब्‍ध कराने के लिए स्‍टार इंडिया के साथ करार कर लिया है. अब एनडीटीवी के इन चैनलों के लिए विज्ञापन स्टार इंडिया की एड सेल्स टीम हैंडल करेगी. दोनों ग्रुपों के बीच यह समझौता पांच सालों के लिए हुआ है. इस समझौते के साथ ही स्टार इंडिया को एनडीटीवी इंडिया के वाणिज्यिक अधिकार प्राप्‍त हो गए हैं. इसके साथ ही लगभग नौ साल के बाद प्रणव राय और रूपर्ट मर्डोक एक साथ आ गए हैं.

एनडीटीवी के लिए पैसा जुटाएगा स्‍टार!

: दोनों कंपनियों में विज्ञापन के लिए समझौता होने के आसार : एनडीटीवी ग्रुप अब अपने तीन चैनलों तथा वेबसाइट को विज्ञापन उपलब्‍ध कराने के लिए स्‍टार इंडिया के साथ करार करने वाला है. लगभग नौ साल के बाद प्रणव राय और रूपर्ट मर्डोक एक साथ आ रहे हैं. खबर है कि स्‍टार इंडिया प्राइवेट लिमिटेड एनडीटीवी के लिए विज्ञापन के अलावा डिस्ट्रिब्‍यूशन भी देखेगा. अगले महीने दोनों ग्रुपों के बीच इसे अंजाम दिए जाने की संभावना है.