सेलरी के लिए टीवीकर्मी श्रमायुक्त से मिले

टाइम टुडे न्यूज़ चैनल से खबर है कि इसके रायपुर ब्यूरो में पदस्थ कर्मचारियों ने चार महीने से रुकी सेलरी के लिए प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पीड़ित कर्मचारियों ने श्रमायुक्त से मिलकर लिखित शिकायत दर्ज कराई है. टाइम टुडे से जुड़े रहे नितिन चौबे बताते हैं कि ग्वालियर के आदर्श सिंह कुशवाहा नाम के बिल्डर ने चंडीगढ़ की ‘पवितर टीवी’ पर दिसंबर 2009 से टाइम स्लोट खरीद कर ‘टाइम टुडे न्यूज़’ नाम का चैनल सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की अनुमति के बिना शुरू किया.

शुरुवात में बड़े पैमाने पर चैनल की ब्रांडिंग करने की कोशिश भी की. इसके लिए सहारा और दूसरे रीजनल चैनलों से रिपोर्टरों और कैमरामैनों की भर्ती कर ली गई. जनवरी में छत्तीसगढ़ में रायपुर के देवेंद्रनगर सेक्टर 5 में अपना ऑफिस खोल कर काम शुरू कर दिया. जनवरी बीतने के बाद से ही कर्मचारियों को सेलरी देने को लेकर प्रबंधन ने हील हवाला शुरू कर दिया. एडिटोरियल, मार्केटिंग और ऑफिस के अन्य दूसरे कर्मचारियों को मिलाकर कुल 15 लोगों को पिछले 4 महीनों से सेलरी के नाम पर लटकाए रखा गया.

छत्तीसगढ़ के सीओओ रहे नितिन चौबे कहते हैं कि इस बारे में उन्होंने चैनल के मालिक आदर्श सिंह कुशवाहा, सीईओ अरविन्द गौर और एचआर हेड आरपी सिंह को लगातार मेल के जरिये सेलरी को लेकर बात की लेकिन हर बार आश्वासन की पुड़िया थमा कर प्रबंधन खामोश बैठा रहा. पिछले दिनों जब कर्मचारियों ने वेतन न मिलने पर काम बंद कर हड़ताल करने की कोशिश की तो प्रबंधन ने मेरे (नितिन चौबे) पर कर्मचारियों को भड़काने का झूठा आरोप लगाते हुआ बिना किसी पूर्व लिखित सूचना के चैनल से निकाले  जाने की खबर प्रसारित करनी शुरू कर दी. नितिन के मुताबिक आज आलम ये है कि सेलरी ना मिलने की वजह से रायपुर ब्यूरो के सभी रिपोर्टर और कैमरामैनों ने काम करना बंद कर दिया है. चैनलवालों की हकीकत ये है कि ऑफिस बॉय कमलेश शर्मा जिसकी हर महीने की सलेरी महज तीन हजार रुपये है, उसे भी उसकी सेलरी नहीं दी जा रही है.

टीवीकर्मियों ने श्रमायुक्त को जो ज्ञापन दिया, उसे पढ़ने के लिए क्लिक करें- ज्ञापन

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “सेलरी के लिए टीवीकर्मी श्रमायुक्त से मिले

  • vaise apni is halat ke liye ye log khud hi jimmedaar hai.. 2 – 2 baar dhakke dekar channel se bhaga diye gaye tab bhi ye log in choron ke paas hi jaatey hain kaam karne…ye log kangaal hai aur chanel ki aad me paison ki bhookh mitaa chahta hai.. patrakarita randee banakar use bajaar me patrakaron ke jariye bechna chahte hain..

    Reply
  • Media paise walon ki kathputali ban gai hai public directly media walon ko doshi samajhti hai jabki hakikat yeh hai ki ye reporter or camera man ka soshan kar rahe hain. yahi wajah hai ki media me dalali badh gayi hai. jisko achha paisa mil jata hai wo apni hi biradari ki tang khinchne me lag jata hai.bhagwan bache ish upbhoktawad se……

    Reply
  • keshav pate; says:

    ye sab us ramesh lamba ka kiya dhara hai .is chor ne na kitno ko loota hai.kabad gadiyo ka dandha karne wale in logo ko cgurahe me aakar joota marna chuye

    Reply
  • gyanendra tiwari says:

    aise chaannel ko na to chalaane ka adhikaar milna chahiye aur naa hi kisi samajhdaar patrkaar ko aisi jagah jaakar inlogon kaa manobal badhana chaiye yahi haal raha to aise main naye log jo bhi patrkaarita main aana chahte hain unke liye ye badi dukh ki baat hai kyun ki naye log kaam ke talaash main aisi jagah chale to jaate hain lekin na to patraarita seekh paate hain aur na hi kisi channel main sahi kaam karne kaa tareeka

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *