‘आज के पत्रकार मनोज कुमार से पीडि़त हूं’

आदरणीय सम्पादक जी, भडास4मीडिया, महोदय, मैं एक शिक्षक हूं और झारखंड के झुमरी तिलैया में रहता हूं। यहां दैनिक आज के पत्रकार मनोज कुमार झुन्नू से पीडित हूं और इस संबंध में मैंने सनहा भी दर्ज कराया था।

साथ ही डीजीपी के अलावा सभी अधिकारियों के साथ-साथ आज के सम्पादक से भी गुहार लगाया। कोडरमा जिले के पत्रकारों को भी मैंने लिखित आपबीती सुनाई। अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई और उक्त पत्रकार तिलैया थाना प्रभारी के साथ मिलकर मुझे धमकी भी दे रहे हैं। आपसे निवेदन है कि मेरी आपबीती को सामने लाने और कार्रवाई कर इंसाफ हो इसका प्रयास करेंगे।

श्यामदेव सिंह

शिक्षक

झुमरीतिलैया, कोडरमा

मोबाइल- 09386218653

पीपी

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “‘आज के पत्रकार मनोज कुमार से पीडि़त हूं’

    • Rajeev sharma says:

      Bhai is bande ke baare mein pata karo ye bohot thuggi Insaan tha. Bohot logo ka paisa lekr bhaga hai. Phle case jaane fir kisi mein comment kre. Koderma Ko Garv hai jhunnu ji mein. Phle yaha aaye or case Jane fir jhunnu ji jaise Insaan mein ungli uthaye.

      Reply
  • chunnilal Dewangan says:

    2-4 Patrakaron ki vajah se pura patrakar jagat sharmsar ho jata hai aese patrakaron ko to bich sadak me khade kar ke juto se marna chahiye taki logbag dekhe to aese kam karne se pahle pachaso bar soche.

    Reply
  • chunnilal Dewangan says:

    2-4 atrakaron ki wajah se pura midia jagat sarmsar ho jata hai aese patrakaron ko to bich road men khade kar ke itne jute marna chahiyi ki aur patrakar bandhu dekhe to aese karne ke bare me sochane me hi ruh kanp jai.

    Reply
  • chunnilal Dewangan says:

    2-4 atrakaron ki wajah se pura midia jagat sarmsar ho jata hai aese patrakaron ko to bich road men khade kar ke itne jute marna chahiyi ki aur patrakar bandhu dekhe to aese karne ke bare me sochane me hi ruh kanp jai.

    Reply
  • Ashish Singh says:

    मै इस केस को बोहोत सामने से देखा था। ये आदमी एक ठगी था। बोहोत लोगो के पैसा लेने के बाद ना देने के कारण बदनाम था। उस समय झुन्नू जी ने ही सबकी मदत की थी। और बदले में उन्हें क्या मिला ये गालियां। मुझे शरम आती है उन लोगो में जो बिना बात जाने ही झुन्नू जी में उंगली उठा रहे है। कोडरमा को गर्व है झुन्नू जी जैसे एक महापुरुष में , जिन्होंने ना जाने बिना अपना सोचे कई लोगो का कष्ट निवारण किया। झुन्नू जी जैसे पत्रकार के कारण ही आज कोडरमा में कोई अधिकारी आम जनता में उंगली उठाने में सोचता है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *