एक हजार में बिक गए महासमुंद के पत्रकार!

छत्तीसगढ़ राज्य का महासमुंद जिला न केवल देश स्तर पर वरन विश्व में सर्वाधिक कुष्ठ रोगियों के लिए चिन्हांकित किया गया। ऐसा हम नहीं स्वास्थ्य विभाग कहता है। इस जिले को कुष्ठ मुक्त बनाने बीते 14 फरवरी से अभियान चल रहा है। मुख्यमंत्री डा. रमनसिंह ने एक मशाल जलाकर जिले के कलेक्टर और स्वास्थ्य अधिकारी के हाथ में सौंपी थी। कुष्ठ मुक्ति का अभियान 7 अप्रैल विश्व स्वास्थ्य दिवस के दिन महाभियान बन गया।

जिला प्रशासन ने अपनी पूरी ताकत झोंककर जिले के 10 लाख से अधिक रहवासियों का एक ही दिन में कथित तौर पर परीक्षण करा लिया। कहा तो यहां तक जाता है कि इसे बड़ा रिकार्ड बताकर लिमका बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज कराए जाने तक की योजना बनाई गई है। इस महाभियान का कवरेज करने के लिए जिला मुख्यालय महासमुंद के अनेक पत्रकारों को एक-एक हजार रूपए यह कहकर दिया गया कि वे विज्ञापन नहीं दे पा रहे हैं, उन्हें विज्ञापन का कमीशन दे रहे हैं। कुछ सिद्धांतवादी पत्रकारों ने जिला प्रशासन के इस पेशकश को यह कहकर ठुकरा दिया कि उन्हें ऐसा कमीशन नहीं चाहिए।

वहीं ज्यादातर इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया के पत्रकारों ने जिला जनसंपर्क अधिकारी से बड़ी ही बेशर्मी के साथ एक-एक हजार रूपए कमीशन ले लिया। इतना ही नहीं तथाकथित भारत के सबसे बड़े समाचार पत्र समूह के पत्रकार तो इस एक हजार रूपए के बदले जिला प्रशासन का ऋण तीन दिन तक लगातार खबर प्रकाशित कर चुका रहे हैं। तब जनसामान्य के बीच इस बात की जमकर चर्चा हो रही है कि क्या पत्रकार अब बिकने लगे हैं। चंद भारतीय मुद्रा देकर कोई भी कुछ भी करा सकता है। एक ओर जिले को कुष्ठ मुक्त करने अभियान चलाया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को जो कुष्ठ का रोग लग रहा है, उसका उपचार कौन करेगा?

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए पत्र पर आधारित.

Comments on “एक हजार में बिक गए महासमुंद के पत्रकार!

  • Ye bare sarm ki baat hai ki 1000 me journalist bik rahe hain. Aage ane wala samay me patrakaro ki isthiti kharab hone wali hai, kisi ek patrakar ki bajah se aache patrakar bhi pise chale ja rahe hin. patrakaro ka chunw ache dang se karni chaheye. anpar patrakar bahut bhar gaye hain, jine ek line likhna bhi nahi aata.
    Thanks

    Reply
  • ्मदन कुमार तिवारी says:

    एक बात बताओ अगर एक हजार नही मिलता तो खबर नही छपती । यार पत्रकारो की हालत पर भी ध्यान दो , यह कोई बहुत बडी बात नही है । भ्रष्टाचारियों की जेब से कुछ पैसा तो गरीब पत्रकारो की जेब मे गया वरना कितना वेतन मिलता है पता हीं होगा । यह कोई इतना बडा भ्रष्टाचार का मुद्दा नही है ।

    Reply
  • sharmsar kar dene wali ghatna hai lekin imandar patrakaron ki wajah se hi khulasa hua hai. PRO ko samjhna chahiye ki har patrakar beiman nahi hai. sarkari tantra ke bhrasht log sabko apni tarah samjhate hain.
    iski ninda ki jani chahiye

    Reply
  • krishnanand dubey, ratnesh soni, ashutosh tiwari, dhananjay tripathi, vipin dubey, raju dewangan, janmajay sinha, says:

    sampadak mahoday,
    aapke site main chhapi khabar “1000 mane bike patrkar” behad aapattijanak, aadhaarheen v patrkaaron ko badnaam karne ki sajish hai. khabar ka aadhar, samachar bhejne wale ka naam batayen, anyatha hamare sarwajanik apmaan ke jawabdaar aap honge.
    yeh khabar ho sakta hai kisi kunthhit mansikta se grast wyakti / patrkaar ka hai. hum is khabar ka khandan karte hain v aapkse nivedan hai ki bhawishy main aisa dobara naa ho.
    – krishnanand dubey(sahara samay), ratnesh soni(haribhoomi), dhananjay tripathi(zee 24 ghante), ashutosh tiwari(doordarshan), janmajay sinha(sadhna tv), raju dewangan(ani), vipin dubey(samwad sadhana), awam samast sadasy mahasamund jila press club, reg. no. 15608.

    Reply
  • ek hajar ka etana halla ho raha hai, press ke malik kitne me bik rahe hai.uske liye bhi to magajmari karo yaron.

    Reply
  • ashutosh tiwari says:

    sampadak mahoday,
    aapke site main chhapi khabar “1000 mane bike patrkar” behad aapattijanak, aadhaarheen v patrkaaron ko badnaam karne ki sajish hai. khabar ka aadhar, samachar bhejne wale ka naam batayen, anyatha hamare sarwajanik apmaan ke jawabdaar aap honge.
    yeh khabar ho sakta hai kisi kunthhit mansikta se grast wyakti / patrkaar ka hai. hum is khabar ka khandan karte hain v aapko aagah kiya jata hai ki bhawishy main aisa dobara naa ho.
    – krishnanand dubey(sahara samay), ratnesh soni(haribhoomi), dhananjay tripathi(zee 24 ghante), ashutosh tiwari(doordarshan), janmajay sinha(sadhna tv), raju dewangan(ani), vipin dubey(samwad sadhana), awam samast sadasy mahasamund jila press club, reg. no. 15608.

    Reply
  • Janmjay sinha says:

    Apke is khabar se sirf etna andaza lagaya ja sakta hai ki aapke is saite me aisi KANAFUSI se pura media jagat aaj sirf aahat ho raha hai.Hum esase pahle in samaacharo ko padha karte the.Magar ab pata chala ki yaha chapi khabro ka koi aadhar ya viswaniyata nahi hota.Ye mahaj manoranjan karne ke liye badiya hai.
    JANMJAY SINHA Mahasamund(Chattisgarh)

    Reply
  • sampadakji ye bat sahi h ki PRO ne kuchh patrakaron ko ye kahkar Rs1000-1000 diya h ki collector mahodaya ki or se de rhe hai, aap logo ki madad se kust mukti abhiyan me itihas rachne ja rhe h. rha sval kuchh patrakaron dwara aapke sahi khabar k khandan ka to sabji-bhaji tak k liye 50-100 rupye mangne wale log kya bat karenge.mahasamund me kuchh logon ke bikau hone se sabhi patrakaron ki badnami ho rhi h.eske liye jila prashasan aur PRO jimmedar hai

    Reply
  • rajesh shrma says:

    Its very objectionable to blame all press and journalist in such a gossip colum. You are requested to disclose source and name of benefitiaries otherwise confess infront of media world and bag pardon.

    Reply
  • mohit, anil ,vijay, says:

    sampadak mahoday,,,1000 rs me bike msmd ke patrakar ke sambhandh me ishpashat jankari jarur de.is masale me kitani sachchai hai khulkar bataye. varna is tarah ki betuki gossip baate bekar hai.patrakar kaum ke sath bhadda majaak hai.aur apaake site me is tarah ke baato ke liye jagah bhi nahi hona chahiye.

    Reply
  • mohit, anil ,vijay, says:

    sampadak mahodaya ,, 1000 rs me bike mahasamund ke patrakar ke sambandh me ishapashat jankari de . varna aise masale khabar bhejane vaala patrakar , patrakar nahi hoga.jiski aukat nahi patrakarita ki.jo jile ke anya muddo ko chhodkar betuki batoo me apana samay kharab karte hai ,aisi bekar baato se patrakar kaum ka majaak hi banta hai. aisi baato ke liye aapake site me jagah hona aapake site ka majaak hai.

    Reply
  • anand sahu,mahasamund. says:

    एक सडी मछ्ली पूरे तालाब को गन्दा कर देती है.ऎसे ही कुछ अधिकारियो ने लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ को गन्दा कर दिया. आज जब भ्रस्टाचार पर आंकुश लगाने लोकपाल विधेयक के लिये पूरा देश एक पाव पर खडा है. अन्ना हजारे के अनशन ने सरकार हिला दी है. तब समाज के प्रहरी साथी ये किस दिशा मे जा रहे है. ”एक हजार मे बिक गये महासमुन्द के पत्रकार” यह खबर पढ्कर अंतर्मन व्यथित है. प्रदेशभर के पत्रकार साथियो का फोन मे इस सम्बन्ध मे जानकारी लेने से बेहद शर्मिन्दगी भी महसूस कर रहे है. महासमुन्द को राजनीति और पत्रकारिता के क्षेत्र मे नैतिक मूल्यो का महासमुद्र होने का गौरव प्राप्त है. इसके पहले ऎसी कीचड यहा मीडिया पर कभी नही उछ्ली. महासमुन्द का नाम गर्व से लिया जाता रहा है. किंतु, प्रशासन के कुछ भ्रस्ट लोगो की करतूत ने महासमुन्द के मीडिया जगत को शर्मसार कर दिया. बहुत से पत्रकार साथियो ने इस बात पर जोर दिया है कि लेनदेन की ये खबर लिक आउट कैसे हुई ? कुछ लोग यह भी कह रहे है कि जिसे नही मिला उसने भडास निकालने भडास मे डाल दिया. सवाल ये है कि “मीडिया” की अस्मिता को एक-एक हजार रुपए मे खरीदने का क्या वास्तव मे प्रयास हुआ है? यह जांच का विशय है? यदि नही तो जिला प्रशासन और खासकर जिला जनसपर्क अधिकारी की ओर से इस बात का खंडन क्यो नही आया, कि किसी पत्रकार को रुपये नही दिये गये. मेरा ऎसा मानना है कि आग लगने पर ही धुआ निकलता है. मै पत्रकार साथियो से विनम्र अनुरोध करना चाहता हू कि ऎसी गन्दगी से बचे, जिससे पूरे कौम की बदनामी होती है. महासमुन्द की स्वच्छ पत्रकारिता वाली छवि को कायम रखे. इसी मे सभी की भलाई है. हमे अपनी छवि ऎसा बनाकर रखने की जरुरत है कि कोई ऎसे पेशकश की हिम्मत ही ना कर सके.
    – आनन्द साहू, पत्रकार, जिला महासमुन्द. छ्ग.
    [b][/b]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *