गोरखपुर में पांच सौ रुपये मूल्‍य के पत्रकार!

: स्‍वतंत्र भारत के पत्रकार ने किया पैसा देने का विरोध : अभी तक अखबारों में विज्ञापनों की कीमत होती थी. पेड न्‍यूज में समाचारों की कीमत लगने लगी. अब लगाने वाले पत्रकारों की भी कीमत लगाने लगे हैं. कहीं सौ रुपये,  कहीं पांच सौ रुपये तो कहीं औकात देखकर. और जगह भी पत्रकारों की कीमत लगती होगी, जहां सभी बिक जाते होंगे. पर कुछेक जगह के इक्‍का-दुक्‍का पत्रकार अपनी कीमत लगने से भड़क जाते हैं, जो खबर बनते हैं. ताजा मामला गोखरपुर का है, जहां पत्रकारों की कीमत लगाई गई पांच सौ रुपये.

समाजवादी पार्टी के नेता लाल अमीन खान, जो बसपा में रहने के बाद सपा में आ गए हैं तथा गोरखपुर ग्रामीण क्षेत्र से विधानसभा टिकट की दावेदारी में लगे हुए हैं, ने कल एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी. गौरतलब है कि 15 अप्रैल को पिपराइच विधानसभा उप चुनाव के लिए पार्टी के घोषित उम्मीदवार श्रीमती राजमती देवी के पक्ष में उनकी पत्रकार वार्ता थी. प्रेस कांफ्रेंस में बड़े-छोटे अखबारों और सिटी केबल से जुड़े लगभग बीस पत्रकार पहुंचे थे. प्रेस कांफ्रेंस में बातें हुई. मुलाकातें हुईं, नाश्‍ता मिला, पानी मिला. इसके बाद जब सभी पत्रकार बंधु चलने लगे तो डग्‍गा के रूप में एक लिफाफा थमाया जाने लगा.

कुछ पत्रकार लिफाफे के भीतर मौजूद संभावना को समझते-बूझते-अनुमान लगाते निकल लिए.  सभी पत्रकारों को उनके अखबारों की हैसियत और औकात के अनुसार लिफाफे दिए गए. किसी ने इस लिफाफा को मौके पर खोलकर देखने या पूछने की हिम्‍मत नहीं किया कि इसमें क्‍या है. जब ऐसा ही एक लिफाफा स्‍वतंत्र भारत के पत्रकार शिवम सिंह को पकड़ाया गया तो उन्‍होंने पूछ‍ लिया इसमें क्‍या है. जवाब मिल कुछ ज्‍यादा नहीं पांच सौ रुपये हैं. बस तोहफा समझकर रख लीजिए.

इसके बाद शिवम सिंह ने अपना विरोध दर्ज कराते हुए लिफाफा वापस कर दिया तथा चेतावनी देते हुए कहा कि कम से कम उन्‍हें तो इस तरह का लिफाफा देने की कोशिश आइंदा न किया जाए. शिवम ने कहा कि समाचार बिना पैसा के छपता है और आपका भी छपेगा. हालांकि इस दौरान वहां मौजूद अन्‍य पत्रकारों ने कोई विरोध दर्ज नहीं कराया और पैसा चुपचाप लेकर चलते बने. क्‍योंकि सिर्फ पांच सौ ही नहीं औकात देखकर पचीस सौ तक रुपये दिए गए.

अभी ऐसा ही मामला पिछले दिनों बनारस और गाजियाबाद में घटा था, जब बनारस में सौ रुपये और गाजियाबाद में पांच सौ रुपये पकड़ाए जा रहे थे. दोनों जगहों पर कुछ पत्रकारों ने इसका विरोध किया था. जिसके बाद आयोजक क्षमा मांग कर अपनी लाज बचाए थे.

Comments on “गोरखपुर में पांच सौ रुपये मूल्‍य के पत्रकार!

  • मदन कुमार तिवारी says:

    पैसे ले लो , लेकिन छापो वही जो सही हो ।

    Reply
  • Thanks, shivam you are good journlist. Your action is like journlist and activst. Dalali ke liye abhi bhut se khetra pade hai. God help you.
    K. Mishra
    Lucknow (U.P)

    Reply
  • MANISH KUMAR PANDEY says:

    भइया
    ये गोरखपुर है यहाँ कुछ भी हो सकता है भला हो शिवम् जी का जिसने इस दुर्घटना के जग जाहिर किया
    वैसे ये आइडिया किसी बड़े मठाधीश का ही होगा अगर शिवम् जी ने उसका भी खुलेआम विरोध किया
    होता तो लोगो की जानकारी थोड़ी और बडती
    जय हो गोरखपुर

    Reply
  • vijai kumar jaiswal,gen.sec gorakhpur press club says:

    shivam aap ne patrakarita ka dharm nibhaya iske liye gorakhpur press club aap ko salam karta hai,agar aap ka sath confrence me upasthit sabhi patrakaro ne diya hota to LAL AMEEN KHAN ko uske kiye ki saza wahi mil jati,lekin apna emaan-dharm bech kar patrakarita ko badnam karne wale chand patrakar apne emaan ka sauda kahi bhe kar dete hai.
    vijai kumar jaiswal,gen.sec gorakhpur press club

    Reply
  • vijai kumar jaiswal says:

    press confrance me kuch patrakaro dwara paisa liye jane ki ghatna se gorakhpur media sarmsar hai,gorakhpur press club kari ninda karta hai. PRESS CLUB karyakarini is ghatna ki janch kar rahi hai,isme lipt paye jane wale patrakaro ki GORAKHPUR PRESS CLUB ki sadasyata samapt kar ke unke khilaf kathor karrwahi ke liye sambandhit editor ko later likha jayega.
    . vijai kumar jaiswal,gen.sec gkp press club

    Reply
  • MANISH KUMAR MISHRA says:

    bhai Yashwant ji
    jis press varta ka aap jikr kar rahe hai. usme Siwam ke alawa doo aur patrkaro ne bhi sapa neta ke diye hue lifafe ko thukra diya tha. unke naam Pioneer se Indrabhushan dube aur Hindustan se Ved prakash phatak hai. mai inhe bhi bhadhi deta hoo..

    Reply
  • MANISH KUMAR MISHRA says:

    yeh ghatna eek sabak hai.. mai isme rupey dene wale neta see jade dosi uss lifafe ko hath me lene wale patrkar ko manta hoo…
    lekin wo khabarnawis kya kare , jisss patrkarita me paid news waidh hoo gaya hoo…waha per patrkaro ko bhi neta se sareaam rupey lene ki chut honi chaey….. akhir hummm bhi tooo usi system ke ek hissse hai….

    Reply
  • ved prakash pathak says:

    main bhi us pc me gaya tha. sabse akhir me main hi pahuncha mujhe press note me lapet kar paisa diya ja raha tha. maine turant aitraj jataya aur lalamin ke admi ko paisa vapas kar diya. lal amin ne mujhse mafi bhi mangi thi.
    ved prakash pathak
    staff reporter
    hindustan.gorakhpur city.

    Reply
  • MANISH KUMAR MISHRA says:

    iss mamlee me Press club ne Aaroopi Neta par to one year ka prtibandh laga diya hai…
    Ab dekhna yeh hai ki Press club ki karyakarinee rupey lene wale patrkaro ko kase chinhit karti hai aur unhe kya saja deti hai… ?????

    Reply
  • HANUMAN SINGH BAGHEL says:

    Vijai jaiswal ji pahle aap apne sanstha ke naam ko to sahi likhe,baad
    me karyawhi ki baat kare,app ke sanstha GORAKHPUR
    JOURNALIST PRESS CLUB hall me hi yah patrakar warta hui thi aur
    aap ne karyahi ki baat tab ki jab yah mudda GORAKHPUR JORNALIST ASSOSIATION ke 17 april ko huye sapatha grahan samaroh me isse muddey ko manch par uthaya gaya our iss ki ninda hindi patrkarita ke ek hastakchhar sri MADHUKAR UPADHYAY sahit AMAR UJJALA ke sampadkiya prabhari sri MRITUNJAY KUMAR, RASTRIYA SAHARA ke sthaniya sampadaksri MANOJ TIWARI,our Go.J.A.President sri RATNAKAR SINGH ne ki.. Jiswal ji aap ke hall me yah ghatna hui iski naitik jimedari se aap log bach nahi sakte, ham thanks un patrkaro ka kar rahe hai jinhone iss baat ka virodh kiya our patrkariya sarokaro ka sahi mane me palan kiyasath hi ham in parkaro ko sammanit karne ka prastav apne karyakarini ki baithak me karenge.
    HANUMAN SINGH BAGHEL
    Joint Secratory
    PRESS CLUB,GORAKHPUR

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *