दैनिक नवज्‍योति, कोटा के कर्मचारी हड़ताल पर, तीन दिन से नहीं छप रहा अखबार

दैनिक नवज्‍योति, कोटा में प्रबंधन के रवैये से नाराज दो दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारी हड़ताल पर बैठे हुए हैं. जिसके चलते पिछले तीन दिनों से कोटा में अखबार का प्रकाशन पूरी तरह बंद पड़ा हुआ है. प्रबंधन के समझाने के बावजूद कर्मचारी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं हैं. उनका कहना है कि प्रबंधन पहले यह आश्‍वासन दे कि वो उन लोगों को प्रताडि़त करना बंद करेगा. प्रबंधन लगातार स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहा है परन्‍तु कर्मचारी टस से मस नहीं हो रहे हैं.

जानकारी के अनुसार प्रबंधन कुछ स्‍थायी कर्मियों के साथ लगातार सौतेला व्‍यवहार कर रहा था. इन लोगों को परेशान किए जाने के उद्देश्‍य से लगातार कुछ-कुछ महीनों के बाद अजमेर, भीलवाडा़ और जयपुर तबादला कर दे रहा था. इसके चलते कर्मचारी पूरी तरह परेशान हो गए थे. कर्मचारियों का आरोप है कि प्रबंधन जानबूझकर उनको परेशान और प्रताडि़त करता था, ताकि हमलोग खुद अखबार से इस्‍तीफा देकर चले जाएं.

नवज्‍योति

कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि मालिक-संपादक नरेंद्र चौधरी  बिना वजह पुराने लोगों को भी परेशान कर रहे हैं. कर्मचारियों ने कहा कि जब पानी सिर से ऊपर हो गया तब हमलोगों को यह कदम उठाना पड़ा. प्रबंधन कई लोगों का तबादला बिनावजह दूसरे एडिशनों में कर दिए थे.

कर्मचारियों के इस हड़ताल के चलते दैनिक नवज्‍योति का प्रकाशन पिछले तीन दिनों से ठप पड़ा हुआ है. एक भी अखबार प्रकाशित नहीं हुआ. बताया जा रहा है कि हड़तालरत कर्मचारी किसी को भी कार्यालय के अंदर घुसने नहीं दे रहे हैं. मालिक को भी इन लोगों ने अंदर घुसने नहीं दिया था. प्रबंधन भी इन लोगों को अपने तरीके से समझाने की कोशिश कर रहा है, पर यह अपनी समस्‍याओं के समाधान के प्रति स्‍पष्‍ट आश्‍वासन और कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “दैनिक नवज्‍योति, कोटा के कर्मचारी हड़ताल पर, तीन दिन से नहीं छप रहा अखबार

  • narendra chaudary chutiya hai…..
    baap ki birasat ko mitti me mila raha hi…..
    aapne paw par kulhhadi mar chuka hai….
    narendra ka baap to samjhadar hai…. par bechhare D.b. C. kare to to kya karen….

    narendra chaudhar…. ko dikh nahi raha hai ki uska patan ho raha hai…
    vinas kale viparit buddhiii……

    Reply
  • 😀
    gaun ki sari agenciyo ne bhakar patrika le li hai…
    gramin sambadata v karmchriyo ke samrthan me aa gye hai….
    narendra ro ab paagal ho chuka hai…

    Reply
  • ye sanjai swadesh hai jo ..neeche ke dono fake comment likkha hai ye itna kameena hai ki ese aata jata kuch nahi aur sabhi ke samne bejjat hai aur doosro ki bejjti karna ise aata hai….nav jyoti ka staff kafi aacha …sabhi acche wa samajhdar log hai…ye kamina jab se aaya hai mahol kharab hai …yaswant ji aap to waha ki hakeekat jante nahi hai ..kewal mail se bhiji khabro wa phone se mili jankari ko khabar banate hai….aur sabhi aamo khash ke saath khade rahte hai….accchi bat hai…par kuch logo ko vyaktigat paresani ho jati hai….aapko batana cahunga sanjai swadesh ko seway rajnity karne ke kuch nahi aata….

    Reply
  • sarpanch kota says:

    union baji kisi bhi sansthan ke liea achhi bat nahi hei, sutro ke anusar nvjyot me kuch purane log union baji kar sansthan ke khilf hi kamkarte hei, un purane logo ko yeh sochna chiyea ki esi sansthan se oonki roji roti chalti hei, oose hi agar union baji kar khtam kar denge to kya fayda, aapas me mil baithkar sansthan ki bhali ke liea kam karna chiea,, kyonki hadtal se nuksan hi hota hei, , dhanywad, saBHI PATRKAR BHAI SAMJHDAR HEI,

    Reply
  • in sab ke peeche sanjai swadesh hi hai…wahi andar se is ansan ko saport kar raha hai bahar se maliko ko bhi bewkoof bana raha hai…

    Reply
  • narendra chaudary kota me navjyoti ke sansthan me lage talo ko kholne me rahe nakam panchva din bhi rahi hadtal jari. es des ka koi bhi patrakar agar apne man samman ke liya ladata he to ve rajniti nahi vah uska man samman he. har patrakar ka kartvya hota he ki ve ek dusre ka sath de navjyoti ke is hadtal me sath de. ye to pahle hi ho jana tha gorav chaturvadi

    Reply
  • S.N.Maurya says:

    main v navjyoti me kam kar chuka hun…..anubhaw bahut bure hai….
    band cebin me yaha me malik narendra chaudhry ne mera band cebin me mansik rup se balatkar kiya…phir mere hisab kitab kar diya…
    yaha se nikal kar maine dainik bhakar me v kam karne ki kosish ki…. lekin navjyoti se etna aahat huwa tha ki waha achha pardarshan nahi kar paya aur bhaskar me v mujhe job nahi mili….
    narendra chaudary se shailesh, sanjay aur gaurav jaise gunde paal rakhe hai… enki badmsi ki had tab ho gyee jab enhone narendra ke kahne par mujhe room me aakar pita….badi muskil se jaan bachaakr kota se nikala….
    .. yaha se nikalne ka baad jaha jaha naukri mangane gya… kahi navjyoti ke anubhaw par job nahi mili…
    filhal gaun aakar balrampur me hi sukun ki jindgi bita raha hun..

    Reply
  • कोटा में नवज्योति के कर्मचारियों के हालात बहुत ख़राब है . पुराने कर्मचारियों को सोची – समझी राजनीती के तहत तंग किया जा रहा है . कई कर्मचारियों का तबादला जानबुझ कर ऐसे जगहों पर किया जा रहा है ताकि वे नौकरी छोड़ कर चलें जाएँ .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *