दैनिक भास्‍कर के संपादक नरेंद्र सिंह अकेला के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव

: भास्‍कर के सिटी चीफ को प्रताडि़त करने का आरोप : अखिल भारतीय कायस्‍थ महासभा ने दैनिक भास्‍कर सागर यूनिट के संपादक नरेंद्र सिंह अकेला के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव पारित किया है. कायस्‍थ महासभा ने आरोप लगाया है कि नरेंद्र सिंह अकेला ने दैनिक भास्‍कर, सागर के सिटी चीफ अजय खरे को प्रताडि़त किया. सभा का कहना है कि अजय को प्रताडि़त करने का कारण मात्र इतना है कि वे कायस्‍थ महासभा के सदस्‍य हैं और उनके फोटो कई बैनरों तथा होर्डिंगों में छपे. जो संपादक महोदय को नागवार गुजरे.

नीचे पढि़ए भास्‍कर के सागर संपादक पर कायस्‍थ महासभा द्वारा लगाया गया आरोप तथा निंदा प्रस्‍ताव. इस निंदा प्रस्‍ताव को राज्‍य स्‍तरीय कई अखबारों ने प्रकाशित भी किया.

अकेला

अकेला

सागर के आचरण अखबार में निंदा प्रस्‍ताव के संदर्भ में छपी खबर.

Comments on “दैनिक भास्‍कर के संपादक नरेंद्र सिंह अकेला के खिलाफ निंदा प्रस्‍ताव

  • rajesh kumar says:

    is ghtna ko ochi kahne se ochi ke liye vi sharm ki bat hogi. ak unche ohde par bedhe vyakti ko jatiya vemansta nahi rakhni chahiye. karm pradhan is des me savi jati ko sthan prapt hai. aviyakti ki swatantra har bhartiya nagrik ko prapt hai.kayasth maha sava ka nirnay swagat yogya hai.bhaskar ke sagar sampadak ke karname ninda yogya hai.iski jitni vi ninda ki jaye kam hai.

    Reply
  • chetan saxena says:

    bahut bura laga—–rijnal incharge prahalad nayak to bhaskar sagar ki jan the jinhone sagar bhaskar me unit chalu karne ke liye din rat mehnat ki jiska natija unko pramotion karne ki jagah transfer diya gaya , yaha prabhandhak ji se nivedan hai ki unko wapas laker sampadak banaya jaye to sagar bhaskar garentee se sagar me business or circulation ne double ho jaeya,

    Reply
  • Shyam Sundar says:

    Akela ji…Ye Bahut Galat baat hai…Sampadak jaise varishtha pad par rehte huye is tarah ki Ghatiya Soch Nahi Honi Chahiye…Manushya, Samaaj ka Ang hota hai..Usey Koi Newspaper Akela Nahi kar sakta…Samajh me aaya Mr.Akela Ji…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *