नितिन और कुणाल ने जागरण को बॉय बोला

: हिन्‍दुस्‍तान से सिद्दीकी को हटाया गया : पिछले दिनों दिल्‍ली प्रेस की पत्रिका मनोहर कहानियां व सत्‍यकथा से इस्‍तीफा देकर दैनिक जागरण, मेरठ से जुड़ने वाले नितिन सबरंगी ने घर वापसी कर ली है. नितिन मनोहर कहानियां और सत्‍य कथा के लिए पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश एवं उत्‍तराखंड से अपराध बीट की कमान संभालते थे. क्राइम बीट पर उनकी गहरी पकड़ थी.

सूत्रों का कहना है कि नितिन जागरण, मेरठ की अंदरुनी राजनीति के शिकार हो गए. दो गुटों की लड़ाई में नितिन शहीद कर दिए गए. बताया जा रहा है कि एक गुट नितिन को रिर्पोटिंग में लाना चाहता था, जबकि दूसरा गुट इसका विरोध कर रहा था. विरोध क्राइम बीट को लेकर था. नितिन दिल्‍ली प्रेस में भी क्राइम एक्‍सपर्ट के तौर पर काम करते थे. दूसरा गुट भारी पड़ा नितिन को क्राइम बीट की बजाय डेस्‍क पर बैठा दिया गया.

इसके बाद भी नितिन ने डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल ली. अगले दिन उन्‍होंने डेस्‍क पर रहते हुए क्राइम की एक बड़ी खबर ब्रेक की. इस खबर को लेकर राजनीति हो गई. खबर को बिना किसी कारण बताए रोक दिया गया. इसका प्रकाशन नहीं किया गया. अपनी कलम पर ढक्‍कन लगने से नितिन काफी आहत हुए.

यही खबर अमर उजाला ने तीन दिन बाद प्रकाशित की. इस राजनीति से परेशान नितिन ने अपने पुराने घर लौटने में ही समझदारी समझी. वैसे चर्चाएं ये भी हैं कि नितिन जनवाणी का दामन भी थाम सकते हैं. गौरतलब है कि जागरण के कई पत्रकार जनवाणी का साथ जुड़ चुके हैं.

दैनिक जागरण, मेरठ से कुणाल के इस्‍तीफा देने की खबर है. वे अपनी नई पारी कहां से शुरु कर रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

हिन्‍दुस्‍तान, बदायूं में तैनात स्ट्रिंगर मोहम्‍मद सि‍द्दीकी को हटा दिया गया है. उनके खिलाफ कई शिकायतें मिलने के बाद मैनेजमेंट ने उन्‍हें हटाने का फैसला किया.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “नितिन और कुणाल ने जागरण को बॉय बोला

  • siddik k mamale men main yhan yh kahna chahoonga ki office ki rajniti k chalte patrakaaron ki shikayaten hoti rahtin hain’ par un shikayton ko upar k logon ko shi-galat ki chhalni men dal kar parkhna chahiye’ khair’ shaikayat shi payi gyi to bhi siddik ka itna bda crime nhin hai ki use nikal diya jaye’ rajniti shant karne k liyr tabadla shi tha’ sath hi ab taukir k tabdle ki bhi charcha hai to us ki kya galti hai’ vo to abhi 4 din bhi tik se nhin baithha hai……….akhbar k hani-labh ki baat ki jaye to nye aadmi ko karne-samjhne ka 2-4 mahine ka time milna chahiye ya nhin’—————-is liye adhikariyon ko yh samjhna chahiye ki yh sab koi janboojh k karaa rha hai’ jis k anusar vh kaam karte ja rhe hain’ vaise hindustan se mera koi lena-dena nhin hai aur na hi siddik mera dost tha’

    Reply
  • sudhir sharma says:

    Gautam bhayya kya siddque ko bahla rahe ho ya tauqir k bhale banana chah rahe ho. kya KHUSRO chod kar HINDUSTAN me ghusne ka irrada hai. lekin ye chaal kaamyab nahi hoge Kyoki HINDUSTAN waale SAB JAANTE HAI.

    Reply
  • siddquee ko hatakar HIndustan ne aage k liye apne saakh bacha li hai. us jaise reporter ko patrakarita me rahne ka koi hak nahi hai. bhai tauqir ko bhi use jyada najdeek laane ke saza mili hai.:):):):):):):):):):):):):)8):P

    Reply
  • nitin bhai sahi faisla liya. badaun me siddique ko hatakar management ne izzat bacha li. agar ye thoda din aur rahta to HINDUSTAN ko bech deta.

    Reply
  • nitin ji apke kadam ki jitni tarif ki jaye wo kam hai. aap jesa kalamkar bhala ye kase bardas kar sakta hai. apki lekhni apki pahachan hai. may apki bahut purani pathak hun.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.