न्‍यूज ऑफ द वर्ल्‍ड के पूर्व संपादक एंडी कौलसन गिरफ्तार

लंदन :  ‘ न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ‘ के पूर्व सम्पादक एंडी कौलसन को फोन हैकिंग और भ्रष्टाचार के आरोप में शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया। साथ ही, 168 वर्ष पुराने इस समाचार पत्र को बंद किए जाने की भी घोषणा की गई। रविवार का इसका संस्करण अंतिम होगा।यह गिरफ्तारी ऐसे समय हुई है, जबकि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने कौलसन को ‘ दूसरा मौका ‘ दिए जाने और उन्हें अपना संचार निदेशक नियुक्त किए जाने के अपने फैसले का बचाव किया है, जो नौकरी वह छोड़ चुके हैं।

बीबीसी के अनुसार, प्रधानमंत्री कैमरन ने फोन हैकिंग के आरोपों और समाचार पत्र की नीतियों को लेकर दो जांच करवाए जाने की घोषणा की, जिनमें से एक जांच न्यायाधीश के नेतृत्व में होगी। कौलसन (43) ने हालांकि ‘ न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ‘ का सम्पादक रहते हुए फोन हैकिंग के बारे में किसी तरह की जानकारी होने से इंकार किया। प्रधानमंत्री कैमरन ने कौलसन के बारे में कहा, ‘ मैं उनका दोस्त बन गया। मैं समझता हूं कि उन्होंने मेरे लिए अपना काम बड़े प्रभावी ढंग से किया। वह दोस्त बन गए और दोस्त हैं। ‘ इस बीच, ‘ न्यूज इंटरनेशनल ‘ ने कहा कि नए खुलासों के बाद इसने समाचार पत्र बंद करने का फैसला किया है। रविवार का संस्करण अंतिम होगा।

करीब 168 साल पुराने इस टेबलॉयड पर अपराध पीडि़तों, सिलेब्रिटी और राजनीतिज्ञों के फोन हैकिंग का आरोप है। पुलिस ने 4,000 सम्भावित निशानों की पहचान की है। कैमरन ने कहा, ‘ न्यायाधीश के नेतृत्व में होने वाली जांच में इसका पता लगाया जाएगा कि इस दिशा में पहली पुलिस जांच क्यों विफल हो गई, ‘ न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ‘ में क्या हो रहा है और दूसरे समाचार पत्रों में क्या हो रहा है? ‘ उन्होंने ‘न्यूज इंटरनेशनल’ की मुख्य कार्यकारी अधिकारी के रूप में रेबेका ब्रूक्स की विश्वसनीयता पर भी सवाल खड़े किए, जो मिली डॉवलर के फोन हैकिंग के वक्त ‘ न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ‘ की सम्पादक थीं।

जनवरी 2007 में ‘ न्यूज ऑफ द वर्ल्ड ‘ के शाही सम्पादक क्लाइव गुडमैन और एक निजी जांचकर्ता ग्लेन मुलकेयर को राजशाही के करीबियों के फोन हैकिंग की साजिश करने के लिए जेल भेज दिया गया था। कौलसन उस वक्त समाचार पत्र के सम्पादक थे और उन्होंने मामले की ‘ पूरी जिम्मेदारी ‘ लेने की बात कही थी। लेकिन उन्होंने बार-बार कहा कि उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि उनके पत्रकार फोन हैकिंग कर रहे हैं। कौलसन 2007 में कैमरन के संचार निदेशक थे। ‘ गार्जियन ‘ के सम्पादक एलन रसब्रिगर का दावा है कि उन्होंने कैमरन की टीम को चेतावनी दी थी कि कौलसन को नियुक्त न किया जाए। लेकिन कैमरन का कहना है कि उन्हें ‘ एंडी कौलसन के बारे में ऐसे किसी विशेष कदम या सूचना ‘ की याद नहीं है। फिर भी वह अधिकारियों से इसकी जांच कराएंगे। साभार : नभाटा

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *