पत्रकार सीएम डॉ. निशंक की डाक्टरी का पोस्टमार्टम

दीपक आजाद
शिशु मंदिर की मास्टरी से पत्रकार बने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की डाक्टरी इन दिनों चर्चा में है। सवाल उनकी साहित्यिक रचनाशीलता पर भी उठते रहे हैं। उनका पत्रकारीय कौशल उनके ही स्वामित्व वाले दोयम दर्जे के दैनिक अखबार सीमांत वार्ता में देखा-समझा जा सकता है।

बहरहाल, जब से निशंक ने खुदको डाक्टर घोषित किया, तब से उत्तराखंड में उनकी डाक्टरी पर भी राजनीतिक और मीडिया हलको में सवाल उठते रहे हैं। निशंक जब स्वतंत्रता दिवस पर अपना जन्मदिन मनाते हैं तो लोग उस पर भी शक-सुबहा करने लगते हैं। और तो और उनकी शैक्षिक योग्यता पर तो उनके ही संगी साथी रहे नेता प्रतिपक्ष हरक सिंह रावत तक ने सवाल उठा दिए। अब दिल्ली से प्रकाशित अंग्रेजी टैबलायड मेल टुडे ने तो अपनी एक रिपोर्ट में निशंक की डाक्टरी को ही फर्जी करार दे दिया है।

निशंक को सालों पहले इंटरनेशनल ओपन यूनिवर्सिटी श्रीलंका ने डाक्टरेट की मानद उपाधि का तमगा दिया, लेकिन यह विश्वविद्यालय ही फर्जी निकला। इसी दौरान 1998 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने देशभर के विश्वविद्यालयों को सर्कुलर जारी कर कहा कि श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी एक फर्जीवाड़ा है, लिहाजा इसकी कोई भी डिग्री भारत में मान्य नहीं है। लेकिन इधर, श्रीलंका से संचालित होने वाली इस फेक यूनिवर्सिटी से डाक्टरेट की मानद उपाधि लेने वाले निशंक तब से खुद को डॉ. निशंक घोषित करते फिर रहे हैं।

हालांकि मुख्यमंत्री बनने के बाद उत्तराखंड की दो यूनिवर्सिटी से भी निशंक डाक्टरेट की मानद उपाधि का तमगा ले चुके हैं। निशंक दावा करते हैं कि उनकी कथा-कहानियों पर कई छात्र शोध कर रहे हैं, पर यह भी एक विरोधाभास ही है कि निशंक खुद मानद उपाधि का तमगा लिए शौक से घूम रहे हैं। निशंक की रचनाधर्मिता से ईर्ष्या करने वाले कहते हैं एक ऐसा शख्स जो बहुमुखी प्रतिभा का धनी होने का दुनियाभर में ढोल पीटता हो, वह आदमी आखिर क्यों डाक्टरेट होने का एक छदम आवरण ओढ़ता है? दुनिया को छोड़ भी दें तो भारत में ही शायद कोई ऐसी बड़ी शख्सियत होगी जो विश्वविद्यालयों से मिलने वाली मानद उपाधि को सार्वजनिक जीवन में अपने नाम के साथ नत्थी करती हो! उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के तौर पर निशंक ही इसके अपवाद माने जा सकते हैं?

कानूनी प्रावधानों में उलझे बगैर नैतिक तौर भी इसे उचित नहीं माना जा सकता। ऐसे में क्या निशंक को डाक्टरी की इस ढकोसलेबाजी से मुक्त नहीं होना चाहिए? हंस में डॉ. निशंक की रचनाशीलता को सलाम करने वाले संपादक राजेन्द्र यादव चाहें तो इस फर्जीवाड़े से किसी निष्कर्ष पर पहुंच सकते हैं।

नीचे मेल टुडे में पब्लिश रिपोर्ट.


 

Doctored degree for Dr Nishank?

By Raju Gusain in Dehradun

: Uttarakhand CM has fake degrees &two birth dates : UTTARAKHAND chief minister Ramesh Pokhriyal Nishanks unflinching obsession for the Dr suffix could become a major embarrassment for him as well as the ruling BJP in the state.It has been alleged that he received two honorary doctorate degrees from a fictitious Sri Lanka- based international university.

And to make matters worse, it has also been alleged that Nishanks date of birth in his official biodata and passport dont match.

The Open International University ( OIU) of Colombo conferred an honorary DLitt to him for his contribution to literature in the late 90s and a second one –  a doctorate in science –  a couple of years ago.

This apart, he managed two more DLitt honorary degrees from the state- run Uttarakhand Sanskrit University and Graphic Era Deemed University after becoming chief minister.

The OIU is neither registered as a foreign university nor as a domestic one in Sri Lanka. It has not been registered as an institute at all.

‘The Open International University is not a higher educational institution that come under the purview of the University Grants Commission or established under the Universities Act ( No. 16 of 1978) in Sri Lanka.Therefore, the University Grants Commission is not in a position to comment on the qualifications awarded by the said university,’ Priyantha Premakumara, the additional secretary of academic affairs and university admissions at the University Grants Commission ( Sri Lanka), said.

Sri Lankas University Grants Commission recognises only those foreign universities and higher educational institutes which are accepted internationally.

Institutes mentioned in the Commonwealth Universities Yearbook and the International Handbook of Universities get recognition in Sri Lanka. The OIU is not mentioned on either of these standard lists.

Last year, when Anil Chand Baluni of Green Force Forum in Dehradun filed an RTI seeking information about Nishanks doctorate degrees he was provided incomplete information and merely a copy of the CMs biodata.

The biodata reveals that Nishank was born on August 15, 1959.

The official website of Uttarakhand ( http:// cm. uk. gov. in/) also corroborates this. But his passport says he was born on July 15, 1959 – a discrepancy of exactly 30 days.

Seizing the opportunity to pin down Nishank over his academic degrees and date of birth, a Congress delegation complained to governor Margaret Alva about the ‘ confusion’. Party leader Harak Singh Rawat said :  ‘I want the CM to show us his degrees. People dont use the Dr honorific for an honorary degree.’

When asked about the legality of the honorary degrees, an official at the CMs office said : ‘ He has not obtained a government job by dint of his degree. He has not broken any law.’ Uttarakhand government media adviser Devendra Bhasin defended the CM, saying : ‘ The literary works of Dr Ramesh Pokhriyal Nishank have been praised not only in our country but abroad as well.Phd students are doing research on books written by Nishank. The Congress allegations are baseless.’  He didnt provide any details to substantiate his claims.

State BJP chief Bishan Singh Chufal called the Congress remarks ‘cheap tricks’. ‘They are using their imagination. How can a person have multiple dates of birth?’

ABOUT THE UNIVERSITY

OIUs website says : ‘An international organisation formed in 1962 congruent to the policy objectives of the World Health Organization. Repeated emails to the university on several queries, including those on Nishank,’  failed to elicit any reply.

THE RTI WHICH WAS FILED

Anil Chand Baluni sought information on the CMs academic qualification. His office gave a copy of a CV which claimed the CM was conferred a doctorate by OIU, Colombo. No photocopy of degree given.

यूजीसी व सीएसआईआर द्वारा जारी सर्कुलर

Copy of CSIR letter No. 17/66/27/94-PPS  dated 18.11.1998 to all Heads of national Labs./Instts.

*Sub: D.Sc. Degree awarded by Open International University for Complimentary Medicines, Colombo- No recognition to be given.

I am directed to forward herewith a copy of letter No. IOE/D/98/1381 dated 27.8.98 from Dr. S.K. Jain, Director, Institute of Ethnobiology, C/o NBRI, Lucknow alongwith a copy of letter dated 12.8.98 from UGC regarding nonvalidity of D.Sc. Degree awarded by Open International University for Complimentary Medicines, Colombo and informing that no recognition should be given to the Degree/Diploma or any other academic distinction conferred by this University, for your information and record.

* Subject provided by editors.

Enclosure

Copy  of letter No. IOE/D/98/1381 dt. 27.8.1998 from Dr. S.K. Jain, Director,  Institute Of Biotechnology, c/o NBRI Lucknow  to the JS(Admn). CSIR.
Sub: Bogus D.Sc. Degree

Kindly refer to my letter/endorsement No. IOE/D/97 dated 27.10.97. Copy of a letter received from UGC is enclosed.  This ratifies what I
pointed out a year ago.

Enclosure

Copy of letter No. F.7-3/90(FU) dated 12.8.2000 from University Grants Commission, New Delhi to Dr. S.K. Jain, Director, Indian Instt. of Biotechnology, Lucknow.

The Commission is grateful to you for bringing to its Notice about the award of Ph.D. and D.Sc. degrees by the Open International University for Complimentary Medicines, Colombo,  Sri Lanka.  Subsequently to receipt of your letter No. IOE/D/97/1089 dt. 28.1.1998, the Commission also received a letter from the Vice-Chairman, the Bar Council of Gujarat informing us on the above

subject.  In support of this, he has also enclosed a letter No. UGC/L/81 dt. 9.2.1998 from the Chairman, UGC, Sri Lanka, stating that the Open International University for Complimentary Medicines has not been established or recognized as a Higher Educational Institution/Institute, under the Universities Act. No. 16 of 1978 as amended.  Therefore, any such Degree or other academic distinction issued by this institution is not valid in law in Sri Lanka.  A copy of the letter is enclosed for your information.

The Commission is issuing a circular to all the Universities/Deemed to be Universities/Institutes of National Importance/IITs asking them not to give any recognition to the Degree/Diploma or any other academic distinction conferred by The Open International University for Complimentary Medicines, Sri Lanka.

लेखक दीपक आजाद हाल-फिलहाल तक दैनिक जागरण, देहरादून में कार्यरत थे. इन दिनों स्वतंत्र पत्रकार के रूप में सक्रिय हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “पत्रकार सीएम डॉ. निशंक की डाक्टरी का पोस्टमार्टम

  • rajendra rawat says:

    ये आदमी ही फर्जी है। कालेज लाइफ से अभी तक फर्जीपने के कारण ही आगे बढ़ा है। इसकी किसी बात पर यकीन करना खुद को धोखा देने जैसा है। निशंक के मतलब है 100 फीसदी फर्जी।

    Reply
  • Girish Mishra says:

    According to a 19th century law, no honorary doctorate holder can prefix ‘doctor’ with his name. Similarly, according to a government decision, no Padma Awardee, can prefix it with his name. But in this ‘great country’ of ours, who cares? Making others aware of one’s superiority is the dominant attitude. That is why we have plenty of doctors who are just graduates or even undergraduates. We have also people like Gopal Das Neeraj with whose name his Padma Award is prefixed. Why blame Uttarakhand CM alone?

    Reply
  • डॉ निशंक की डिग्री पर चर्चा करने वाले नेता हरक सिंह रावत पहले अपनी डिग्री देख ले गढ़वाल विश्व विद्यालय से रिस्टिकेट होकर वे कहा गए थे ? और उनकी PHD किस ने लिखी? उन्होंने किस विषय पर शोध किया ? जहाँ तक मुख्यमंत्री डॉ निशंक PHD की वैधता का सवाल तो उसमे किसी को शक नहीं कि उनकी लिखी पुस्तक न केवल विश्व विद्यालयों के पाठ्यक्रम में शामिल है वरन उनकी पुस्तकों पर शोध भी हो रहे है यदि यह भी मान ले कि उन्हें मानद उपाधि मिली है तो क्या मानद उपाधि कूड़ेदान में फेकने के लिए होती है?
    फिर तो पदम् श्री, पदम् विभूषण व् भारत रतन पाने वाले भी अपने-अपने आगे पीछे पुरस्कार व् मानद उपाधियो को लिखने के हक़दार नहीं होंगे मानद उपाधि भी उसे ही मिलती है जो व्यक्ति पात्र हो कोई कुपात्र व्यक्ति यदि मानद उपाधि का प्रयोग कर रहा हो तो वह गलत है

    Reply
  • harak sing ji bhi mhan hn or nishank ji bhi. jyad chanbeen mat kro dundte rh jaoh=ge………………………………!

    Reply
  • भाइयो आप सब बिना मतलब की बहस कर रहे हैं…. डॉक्टरेट भाड़ में गया, मुझे तो इतना बता दो की दसवी के बाद के प्रमाण पत्र क्यों नहीं दिखा रहे फर्जी निशंक….बारहवी के, स्नातक के और मास्टर के डिग्री के. नेता प्रतिपक्ष हराक सिंह ५ बार ललकार चुके की अपनी शिक्षा के पेपर दिखाओ, फिर भी शर्म नहीं आ रही इनको. राजेश नाम के दलाल छोड़ दिए भड़ास पर कमेन्ट करने के लिए.

    Reply
  • अशोककुमार शर्मा says:

    प्रिय यशवंत, पत्रकार सीएम डॉ. निशंक की डाक्टरी का पोस्टमार्टम आलेख के बारे में मैं आपके मित्र (आपकी मुझसे अपार नाराजगी के बाद भी) और एक बड़ी सीमा तक प्रशंसक होने के साथ ही ‘भड़ास’ के पाठक होने के नाते अपनी प्रतिक्रिया भी व्यक्त करना चाहूँगा. पहली बात ‘शिशु मंदिर की मास्टरी से पत्रकार और फिर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बनने’ को न जाने कैसे दीपक आज़ाद जी ने अपराध या गाली की तरह ले लिया है. ‘ निशंक जी की साहित्यिक रचनाशीलता पर सवाल’ तभी से उठने शुरू हुए हैं जबसे वह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बने हैं, इसके इतर या पहले का उदाहरण हो तो दीपक जी बताएं. ‘उनका पत्रकारीय कौशल उनके ही स्वामित्व वाले दोयम दर्जे के दैनिक अखबार सीमांत वार्ता में देखा-समझा जा सकता है।’ इस टिप्पणी पर दीपक जी के प्रति आभार व्यक्त करना चाहूँगा कि उन्होने यह उजागर किया है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ. निशंक ने अपनी हैसियत और क्षमता का दुरूपयोग अपने अख़बार को पनपने के लिए नहीं किया है और अपने दायित्व निभाने के चक्कर में अपने अख़बार को सिरे से नज़रंदाज़ कर रखा है.
    दीपक जी लम्बे समय से डॉ.निशंक और उत्तराखंड के विभिन्न मुद्दों पर लिख रहे हैं, मगर उनके आलेख में बिना किसी विवरण के सिर्फ सतही आरोप ही लगाये गए हैं कि ‘जब से निशंक ने खुदको डाक्टर घोषित किया,तब से उत्तराखंड में उनकी डाक्टरी पर भी राजनीतिक और मीडिया हलको में सवाल उठते रहे हैं’ दीपक जी को यह भी बताना चाहिए कि कांग्रेसी नेताओं के अलावा ये सवाल किन्होने उठाये हैं? और जब डॉ. निशंक स्वतंत्रता दिवस पर अपना जन्मदिन मनाते हैं तो कांग्रेस के इक्का दुक्का नेताओं के अलावा कौन लोग उन पर क्यों शक-सुबहा करने लगते हैं? एक सुधार भी कराना है कि दिल्ली से प्रकाशित अंग्रेजी टैबलायड ‘मेल टुडे’ ने पत्रकारिता के मापदंडों को धता बता कर जो एकतरफा खबर छापी है, उसमें डॉ. निशंक की डाक्टरी को फर्जी करार नहीं दिया गया है, केवल उस पर संदेह जताया है. और यह आरोप एकतरफा है. यह किसी न्यायालय का फैसला नहीं है. देखिये मेल टुडे क्या कहता है: “It has been alleged that he received two honorary doctorate degrees from a fictitious Sri Lanka- based international university.” दीपक भाई, क्या आपको मालूम है कि दुनिया के कई प्रसिद्द विश्वविद्यालयों और प्रसिद्द मेडिकल कॉलेजों की डिग्रियों को भारत में मान्यता नहीं है और भारत के यूजीसी अनुमोदित लगभग 97 प्रतिशत प्रसिद्द विश्वविद्यालयों और प्रसिद्द मेडिकल कॉलेजों की डिग्रियों को विदेशों में मान्यता नहीं है? हमारे छात्रों को विदेशों में प्रवेश के लिए अलग से परीक्षा देनी होती है. तो क्या भारत की डिग्रियां अवैध हैं?

    दीपक भाई ने लिखा है कि ‘निशंक को सालों पहले इंटरनेशनल ओपन यूनिवर्सिटी श्रीलंका ने डाक्टरेट की मानद उपाधि का तमगा दिया लेकिन यह विश्वविद्यालय ही फर्जी निकला. कैसे फर्जी निकला? किसने फर्जी करार दिया? फिर यह विश्व विद्यालय श्रीलंका में चल ही क्यों रहा है? दीपक भाई ने मेल टुडे के लेख से नतीजा निकला है, ‘इसी दौरान 1998 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने देशभर के विश्वविद्यालयों को सर्कुलर जारी कर कहा कि श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी एक फर्जीवाड़ा है, लिहाजा इसकी कोई भी डिग्री भारत में मान्य नहीं है.’ यह निष्कर्र्ष ही गलत है. श्रीलंका की यूजीसी के पत्र में श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी को कहीं भी फर्जीवाड़ा नहीं कहा गया है बल्कि यह पत्र मेडिकल की दो डिग्रियों के श्री लंका में अमान्य होने को को लेकर 1998 में लिखा गया था ना कि विश्वविद्यालय की नब्बे के दशक में डॉ. निशंक को दी गयी मानद उपाधियों को लेकर. श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी उसी तरह की नौकरशाही से अपने मुल्क में लड़ रही है जिससे अभी कुछ दिन पहले अन्ना हजारे पंजा लड़ा रहे थे. वैसे पूरे विश्व में मानद अलंकरणों के जारी किये जाने की लंबी और विशिष्ट परंपरा है. कानूनी तौर पर ‘मानद उपाधियाँ एक प्रकार से सार्वजनिक अलंकरण हैं, जो किसी व्यक्ति के किसी क्षेत्र में विशिष्ट योगदान हेतु किसी विधिमान्य संस्था द्वारा विधिवत दिया जाता है.’

    दीपक भाई के आलेख में मेल टुडे की खबर चस्पा है, जिसमे कहा गया है ” And to make matters worse, it has also been alleged that Nishanks date of birth in his official biodata and passport dont match.” यहाँ स्तिथि समझनी होगी. आमतौर पर सरकारी दस्तावेजों में वही उम्र लिखी जाती है, जो हाई स्कूल के प्रमाण पत्र में दर्ज होती है. और वह उम्र हाई स्कूल का फॉर्म भरते समय नवीं कक्षा में, किसी भी छात्र-छात्र की 13-14 साल की उम्र में मा-बाप द्वारा फॉर्म में लिखी गयी होती है. आम तौर से पूरे देश में 1980 के दशक से पहले, स्कूली शिक्षा में नगर निगम/नगर पालिका के जन्म प्रमाणपत्र की अनिवार्यता न होने के कारण, उस दशक तक जन्मे लगभग सभी व्यक्तियों की दो जन्म तिथियाँ दर्ज हो गयीं (पाठकों, आपमें से भी कई के सरकारी कागजों में यही चक्कर हुआ होगा और आज आप कुछ कर नहीं सकते). डॉ. निशंक की जन्म हाई स्कूल के फॉर्म में दर्ज जन्म तिथि (15 जुलाई) उनकी असली जन्म तिथि (15 अगस्त) से एक महीना ज्यादा है. दीपक भाई पुराने पत्रकार हैं, मैं उनको ध्यान दिलाना चाहूँगा कि निशंक जी को राजनीती या सार्वजनिक जीवन में डॉक्टर लिखने नलिखने से कोई फायदा और नुक्सान होने वाला नहीं. इस स्वीकारोक्ति के लिए भी दीपक जी का धन्यवाद कि उन्होंने लिखा है कि ‘मुख्यमंत्री बनने के बाद उत्तराखंड की दो यूनिवर्सिटी से भी निशंक डाक्टरेट की मानद उपाधि का ले चुके हैं। कानूनी प्रावधानों में उलझे बगैर नैतिक तौर भी इसे उचित नहीं माना जा सकता। ऐसे में क्या निशंक को डाक्टरी की इस ढकोसलेबाजी से मुक्त नहीं होना चाहिए?’ ज़रूर होना चाहिए.

    Reply
  • प्रिये अशोक जी… आइये आपकी बातो का जवाब मै दे देता हूँ. एक तो आप निशंक के ओएसडी हैं. दूसरा आपकी दाल युपी में तो गली नहीं. अब आइये निशंक की श्रीदेगा लंका से ली गयी डॉक्टरेट के बारे में मै बता दूँ ….इस डिग्री को भारत सरकार फर्जी डिग्री खुद करार दे चुकी. इसके बारे में भारत सरकार द्वारा एक चिट्ठी भी जारी कर डी गयी थी की इस डिग्री को बोगस मन जाये… प्रमाण यंहा संलग्न कर रहा हूँ…. और रही बात उत्तराखंड के विश्वविध्यालयो से ली गयी डॉक्टरेट की डिग्री तो उन बेचारो की क्या हैसियत की फर्जी निशंक डॉक्टरेट की उपाधि न दे… बंद नहीं करा
    [img][/img]

    Reply
  • arvind k singh says:

    bahut herani karne vali tipniyan hai, janha knowledge ke mamle me Deepak kunye ke medhak hain,vanha Nishank ke chaaploos bhi OM PURI ki bhasha vale anpadh gwar hain…Deepak ka kaam Nishank sarkar aur Nishank ke khilaf kuchh na kuchh likhte rana hi rah gaya hai, is se un ki patarkirita ki pol khul jaati hai…shayd patarkirita ko samjhaa hi nahi……vah sirf alochnatmak nahi hoti,jab aap kisi vaykti vishesh ke khilaaf lagataar likhte ho to, to aap patarkarita nahi kar rahe hote………us vayakti ke khilaf oposition leader ki tarah khade hote ho, jis ka kaam alochna karna hi hota hai, phichhle dino inhi Deepak mahodya ne Information commissioner ke ek pad ko lekar vaihyaat kisam ki unconstitutional baaten likhi, inhone maan liya ki Utrakhand me kaam kar chuke kisi patarkar ka us pad par jaise koi adhikar thaa,jo mara gaya……constitution or kanoon ke mamle me nire gwar hi hain Deepak…….Deegrion ke baare me dunia bhar me jo chalan hai,uske baare me Ashok kumar Sharma aur Girish ne kaafi theek likha hai……Deepak ko ham yanhi par chod rahe hain…..vah HARAK SINGH RAWAT ki party ke member ya CPM ke card holder jaise lagte hain…..isiliye main stream patarkarita se bahar hain….vah Tiwari sarkar ke samay maje lete rahe hain…..khair baat Rajesh ki, vah shayad nahi jaante ki ..manad deegiyan aur Padam Shri jaise rastariya purskar aap naam ke aage,peechhe nahi laga sakte….Siraf MBBS,( us ke barabar doctor ki digree ) aur P.hd digree holder hi naam ke aage Dr. laga sakte hain. Nishank ji ko shayd mukhyamantri ka pad asthai lagta hai, vah bhi, BJP ko is chunav me chunna lagane ka poora intjaam kar diya hai Nishank ne, is liye vah mukhyamantri hote hue bhi Dr. laggane ki practice kar rahe hain……Chhoti harkato vaale Nishak ko BJP ne CM jaisa bada pad saunp kar apni imaturity ka saboot hi diya hai……….

    Reply
  • अशोककुमार शर्मा says:

    दे-गाली और गला-दाल के चक्कर में निशंक विरोध की दाल पकानेवालों का दलिया दलदली हो गया है. भाई लोगों, अब तो इस दाल की कढाई को उतार कर उत्तराखंड के भले की सोचें. आप लोगों में ऊर्जा है, नए विचार हैं और शायद आप सभी अपने प्यारे राज्य को देश का आदर्श राज्य बनाना चाहेंगे. उस और ध्यान दीजिये. चुनाव आयेंगे तो मतदाता खुद फैसला कर लेंगे कि निशंक जी, उनकी भाजपा और सरकार के काम कितने ‘नंबर’ हासिल करने लायक है.
    गुमनाम आइडेन्टिटी से ‘एक पहाडी’ नाम से मुझे जवाब देने वाले सज्जन ने लिखा है कि मेरी दाल उत्तर प्रदेश में गली नहीं. पहाडी भाई, मेरी बिना गली दाल की फ़िक्र छोडिये. मैं तो सबसे ज्यादा समय तक वहां तैनात रहा हूँ. वह रिकार्ड कोई तोड़ नहीं पाया है, मगर भाई जी, आप निशंक विरोध के नाम पर अपनी कौन सी दाल गला रहे हैं? वह दाल कितनी गली है? वैसे पहाड़ में प्रेशर ज्यादा होता है और किसी की दाल आसानी से नहीं गलती.

    Reply
  • ये आदमी ही फर्जी है। कालेज लाइफ से अभी तक फर्जीपने के कारण ही आगे बढ़ा है। इसकी किसी बात पर यकीन करना खुद को धोखा देने जैसा है। निशंक के मतलब है 100 फीसदी फर्जी।

    Reply
  • written by अशोककुमार शर्मा , August 31, 2011
    प्रिय यशवंत, पत्रकार सीएम डॉ. निशंक की डाक्टरी का पोस्टमार्टम आलेख के बारे में मैं आपके मित्र (आपकी मुझसे अपार नाराजगी के बाद भी) और एक बड़ी सीमा तक प्रशंसक होने के साथ ही ‘भड़ास’ के पाठक होने के नाते अपनी प्रतिक्रिया भी व्यक्त करना चाहूँगा. पहली बात ‘शिशु मंदिर की मास्टरी से पत्रकार और फिर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बनने’ को न जाने कैसे दीपक आज़ाद जी ने अपराध या गाली की तरह ले लिया है. ‘ निशंक जी की साहित्यिक रचनाशीलता पर सवाल’ तभी से उठने शुरू हुए हैं जबसे वह उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बने हैं, इसके इतर या पहले का उदाहरण हो तो दीपक जी बताएं. ‘उनका पत्रकारीय कौशल उनके ही स्वामित्व वाले दोयम दर्जे के दैनिक अखबार सीमांत वार्ता में देखा-समझा जा सकता है।’ इस टिप्पणी पर दीपक जी के प्रति आभार व्यक्त करना चाहूँगा कि उन्होने यह उजागर किया है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री डॉ. निशंक ने अपनी हैसियत और क्षमता का दुरूपयोग अपने अख़बार को पनपने के लिए नहीं किया है और अपने दायित्व निभाने के चक्कर में अपने अख़बार को सिरे से नज़रंदाज़ कर रखा है.
    दीपक जी लम्बे समय से डॉ.निशंक और उत्तराखंड के विभिन्न मुद्दों पर लिख रहे हैं, मगर उनके आलेख में बिना किसी विवरण के सिर्फ सतही आरोप ही लगाये गए हैं कि ‘जब से निशंक ने खुदको डाक्टर घोषित किया,तब से उत्तराखंड में उनकी डाक्टरी पर भी राजनीतिक और मीडिया हलको में सवाल उठते रहे हैं’ दीपक जी को यह भी बताना चाहिए कि कांग्रेसी नेताओं के अलावा ये सवाल किन्होने उठाये हैं? और जब डॉ. निशंक स्वतंत्रता दिवस पर अपना जन्मदिन मनाते हैं तो कांग्रेस के इक्का दुक्का नेताओं के अलावा कौन लोग उन पर क्यों शक-सुबहा करने लगते हैं? एक सुधार भी कराना है कि दिल्ली से प्रकाशित अंग्रेजी टैबलायड ‘मेल टुडे’ ने पत्रकारिता के मापदंडों को धता बता कर जो एकतरफा खबर छापी है, उसमें डॉ. निशंक की डाक्टरी को फर्जी करार नहीं दिया गया है, केवल उस पर संदेह जताया है. और यह आरोप एकतरफा है. यह किसी न्यायालय का फैसला नहीं है. देखिये मेल टुडे क्या कहता है: “It has been alleged that he received two honorary doctorate degrees from a fictitious Sri Lanka- based international university.” दीपक भाई, क्या आपको मालूम है कि दुनिया के कई प्रसिद्द विश्वविद्यालयों और प्रसिद्द मेडिकल कॉलेजों की डिग्रियों को भारत में मान्यता नहीं है और भारत के यूजीसी अनुमोदित लगभग 97 प्रतिशत प्रसिद्द विश्वविद्यालयों और प्रसिद्द मेडिकल कॉलेजों की डिग्रियों को विदेशों में मान्यता नहीं है? हमारे छात्रों को विदेशों में प्रवेश के लिए अलग से परीक्षा देनी होती है. तो क्या भारत की डिग्रियां अवैध हैं?

    दीपक भाई ने लिखा है कि ‘निशंक को सालों पहले इंटरनेशनल ओपन यूनिवर्सिटी श्रीलंका ने डाक्टरेट की मानद उपाधि का तमगा दिया लेकिन यह विश्वविद्यालय ही फर्जी निकला. कैसे फर्जी निकला? किसने फर्जी करार दिया? फिर यह विश्व विद्यालय श्रीलंका में चल ही क्यों रहा है? दीपक भाई ने मेल टुडे के लेख से नतीजा निकला है, ‘इसी दौरान 1998 में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने देशभर के विश्वविद्यालयों को सर्कुलर जारी कर कहा कि श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी एक फर्जीवाड़ा है, लिहाजा इसकी कोई भी डिग्री भारत में मान्य नहीं है.’ यह निष्कर्र्ष ही गलत है. श्रीलंका की यूजीसी के पत्र में श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी को कहीं भी फर्जीवाड़ा नहीं कहा गया है बल्कि यह पत्र मेडिकल की दो डिग्रियों के श्री लंका में अमान्य होने को को लेकर 1998 में लिखा गया था ना कि विश्वविद्यालय की नब्बे के दशक में डॉ. निशंक को दी गयी मानद उपाधियों को लेकर. श्रीलंका की यह ओपन यूनिवर्सिटी उसी तरह की नौकरशाही से अपने मुल्क में लड़ रही है जिससे अभी कुछ दिन पहले अन्ना हजारे पंजा लड़ा रहे थे. वैसे पूरे विश्व में मानद अलंकरणों के जारी किये जाने की लंबी और विशिष्ट परंपरा है. कानूनी तौर पर ‘मानद उपाधियाँ एक प्रकार से सार्वजनिक अलंकरण हैं, जो किसी व्यक्ति के किसी क्षेत्र में विशिष्ट योगदान हेतु किसी विधिमान्य संस्था द्वारा विधिवत दिया जाता है.’

    दीपक भाई के आलेख में मेल टुडे की खबर चस्पा है, जिसमे कहा गया है ” And to make matters worse, it has also been alleged that Nishanks date of birth in his official biodata and passport dont match.” यहाँ स्तिथि समझनी होगी. आमतौर पर सरकारी दस्तावेजों में वही उम्र लिखी जाती है, जो हाई स्कूल के प्रमाण पत्र में दर्ज होती है. और वह उम्र हाई स्कूल का फॉर्म भरते समय नवीं कक्षा में, किसी भी छात्र-छात्र की 13-14 साल की उम्र में मा-बाप द्वारा फॉर्म में लिखी गयी होती है. आम तौर से पूरे देश में 1980 के दशक से पहले, स्कूली शिक्षा में नगर निगम/नगर पालिका के जन्म प्रमाणपत्र की अनिवार्यता न होने के कारण, उस दशक तक जन्मे लगभग सभी व्यक्तियों की दो जन्म तिथियाँ दर्ज हो गयीं (पाठकों, आपमें से भी कई के सरकारी कागजों में यही चक्कर हुआ होगा और आज आप कुछ कर नहीं सकते). डॉ. निशंक की जन्म हाई स्कूल के फॉर्म में दर्ज जन्म तिथि (15 जुलाई) उनकी असली जन्म तिथि (15 अगस्त) से एक महीना ज्यादा है. दीपक भाई पुराने पत्रकार हैं, मैं उनको ध्यान दिलाना चाहूँगा कि निशंक जी को राजनीती या सार्वजनिक जीवन में डॉक्टर लिखने नलिखने से कोई फायदा और नुक्सान होने वाला नहीं. इस स्वीकारोक्ति के लिए भी दीपक जी का धन्यवाद कि उन्होंने लिखा है कि ‘मुख्यमंत्री बनने के बाद उत्तराखंड की दो यूनिवर्सिटी से भी निशंक डाक्टरेट की मानद उपाधि का ले चुके हैं। कानूनी प्रावधानों में उलझे बगैर नैतिक तौर भी इसे उचित नहीं माना जा सकता। ऐसे में क्या निशंक को डाक्टरी की इस ढकोसलेबाजी से मुक्त नहीं होना चाहिए?’ ज़रूर होना चाहिए.

    Reply
  • written by Ek Pahadi, September 01, 2011
    प्रिये अशोक जी… आइये आपकी बातो का जवाब मै दे देता हूँ. एक तो आप निशंक के ओएसडी हैं. दूसरा आपकी दाल युपी में तो गली नहीं. अब आइये निशंक की श्रीदेगा लंका से ली गयी डॉक्टरेट के बारे में मै बता दूँ ….इस डिग्री को भारत सरकार फर्जी डिग्री खुद करार दे चुकी. इसके बारे में भारत सरकार द्वारा एक चिट्ठी भी जारी कर डी गयी थी की इस डिग्री को बोगस मन जाये… प्रमाण यंहा संलग्न कर रहा हूँ…. और रही बात उत्तराखंड के विश्वविध्यालयो से ली गयी डॉक्टरेट की डिग्री तो उन बेचारो की क्या हैसियत की फर्जी निशंक डॉक्टरेट की उपाधि न दे… बंद नहीं करा

    Reply
  • दीपक भाई और भड़ास का शुक्रिया कि वे उत्तराखंड को दलालों का दलान बनाने वाले निशंक के काले कारनामो को बेपर्दा करने में लगे हुए है. अन्यथा निशंक ने ज्यादातर पत्रकारों को खरीद लिया है. निशंक उत्तराखंड का मधुकोरा है. इसकी जाँच हो तो इसे जेल जाने से कोई नहीं रोक सकता है. इन्तजार रहेगा…

    Reply
  • अशोक जी आप अच्छे पत्रकार रहे हैं.. क्यों इस निशंक दलाल की दलाली में हाथ काले कर रहे हो. हाथ के साथ-साथ मुह भी काला हो जायेगा

    Reply
  • Dusra Pahadi says:

    इस देश का दुर्भाग्य यही है की यहाँ उस बात पर बहस होती है… जिसका कोई मतलब ही नहीं… जब इस देश में राजनीति में आने का कोई शैक्षिक मानदंड ही नहीं है तो क्यों… आवारा कुत्तों की तरह १ बात पर चिल्ल-पौं मचा राखी है बे तुमने….. थू … थू..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *