पुलिस के हत्‍थे चढ़े चार फर्जी पत्रकार

फर्जी पत्रकारभोपाल। एक ज्योतिषी को डराकर उससे रुपए ऐंठने के मामले में कोहेफिजा पुलिस ने चार फर्जी मीडियाकर्मियों को गिरफ्तार किया है। आरोपी ज्योतिषी के खिलाफ खबर छापने के नाम पर उसे धमका रहे थे। खास बात यह है कि जब पुलिस इन्हें लेकर थाने पहुंची, तो उनमें से एक आरोपी थाने से भाग निकला। हालांकि काफी देर की मशक्कत के बाद पुलिस ने उसे फिर धर दबोचा। पुलिस ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

कोहेफिजा थाना प्रभारी जीपी दुबे के मुताबिक चारों आरोपी खुद को एस्टेट एक्सप्रेस का पत्रकार बताते हैं। बीते 2 अक्टूबर की शाम करीब 7 बजे संजय दुबे, अलंकृत दुबे और त्रिवेणी यादव रामानंद कॉलोनी निवासी ज्योतिषी भंवरलाल शर्मा के घर पहुंचे। भंवरलाल घर पर ही संगीत विद्यालय भी चलाते हैं। तीनों कथित पत्रकारों ने उनसे साक्षात्कार लेने की बात कही।

बात ही बात में आरोपी अपने अखबार में ज्योतिषियों के खिलाफ खबर छापने की बात कहकर भंवरलाल को धमकाने लगे। इतने में अलंकृत दुबे ने भंवरलाल के नाम से 1,500 रुपए की रसीद भी काट दी। ज्योतिषी के पास उस वक्त उतने रुपए नहीं थे, इसलिए उन्होंने आरोपियों को अगले दिन आने के लिए कहा। लेकिन आरोपी अगले दिन न पहुंचकर सोमवार दोपहर उनके घर पहुंचे।

आरोपियों के पहुंचते ही भंवरलाल ने पुलिस को सूचना दे दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने उनमें से दो आरोपियों त्रिवेणी यादव और संजय दुबे को गिरफ्तार कर लिया। जबकि इनकी निशानदेही पर अलंकृत दुबे और अजय दुबे को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

थाने से भागा आरोपी

अन्य दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी की कार्रवाई अभी चल ही रही थी, तभी पकड़े गए आरोपियों में से एक संजय दुबे मौका देखकर फरार हो गया। पुलिस कुछ कर पाती इससे पहले ही वह आंखों से ओझल हो चुका था। उसके पीछे पीछे थाने का स्टाफ भी दौड़ा। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने उसे धर दबोचा। साभार : भास्‍कर

 

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “पुलिस के हत्‍थे चढ़े चार फर्जी पत्रकार

  • media me kuch aapradhik logo ki ghuspaith hone se yah ek mission na rahkar ek pesha ban gaya hai, iese apradhi tatbo ko patkarita se door rakhne sampadako ko
    visesh saabdhani bartni hogi , per yeh kaam jitna sambhav dikhta hai usse kahi adhik asambav…………

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.