बहुत याद आएंगे आलोक तोमर

मनोज वाजपेयीक्रिकेट की दुनिया का हाई वोल्टेज मैच होने को है। पूरी दुनिया और सारे समाचार चैनल पाकिस्तान पर दबाव बनाने में लगे हैं कि वो किसी तरह मैच हार जाए। हर दिन के प्रोग्राम और समाचारों से सेमीफाइनल की कीमत बढ़ायी जा रही है। इस सारे हो हल्ले के बीच मुझे एक दुखद खबर मिली है कि हमारे दोस्त और मशहूर जाबांज पत्रकार आलोक तोमर इस दुनिया में नहीं रहे। एक झटका सा लग गया। अचानक ये सारी क्रिकेट की धूम बेमानी सी लगने लगी है।

इस दौर में जहां पत्रकारिता की दुनिया बाजारु हो चुकी है, उस दौर में आलोक तोमर जैसे पत्रकार के जाने से गंभीर पत्रकारिता को एक और झटका लगा। मैं भगवान से दुआ करता हूं कि आलोक आप जहां भी रहें ऊपर वाला आपकी आत्मा को भरपूर शांति दे और आपके परिवार को इस दुःख को सहने की शक्ति दे।

लेकिन सबसे बड़ा दुःख उन लोगों को हुआ है, जो अधिकांश चैनलों की बेहद सतही और रंगीन अखबारों की पीत पत्रकारिता के बीच गंभीर किस्म की पत्रकारिता को खोज रहे हैं। हिन्दी भाषा में सार्थक पत्रकारिता की आस की लगातार कोशिश करते रहने वाले आलोक के जाने से बहुत दुःख है। मुझे उनके साथ मंडी हाऊस में बिताए कई पल याद हैं।

इसी तरह, उनके जनसत्ता के दिन भी मुझे आज भी याद आते हैं। मैं अपने शब्दों में यह लिख नहीं पा रहा हूं कि आलोक तामोर के निधन की खबर ने मुझे कितना हतोत्साहित किया है। फिर भी बकौल बच्चन साहब-जो बीत गई सो बात गई। जीवन में एक सितारा था, माना वो बेहद प्यारा था, वो टूट गया सो टूट गया। अंबर के तारों को देखो, जाने कितने तारे टूटे, जाने कितने प्यारे छूटे, जो छूट गए फिर कहां मिले, पर बोलो टूटे तारों पर कब अंबर शोक मनाता है!

लेकिन अंबर शोक मनाए न मनाए हम गमगीन हैं। आलोक के जाने का शोक पता नहीं हम कब तक मनाते रहेंगे। आप सबसे भी यही निवेदन है कि अपनी प्रार्थना में आलोक की आत्मा की शांति के लिए दुआएं जरुर करें। अपने प्यारे आलोक तोमर को भारी मन से अलविदा।

आपका

मनोज बाजपेयी

यह लेख सिने स्‍टार मनोज वाजपेयी ने अपने ब्‍लाग मनोज बाजपेयी ब्‍लाग पर लिखा है. वहीं से साभार लिया गया है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *