बीपीएससी में चयन के बाद महुआ से राजेश सिंह का इस्‍तीफा

महुआ न्‍यूज से राजेश कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर आउटपुट हेड थे. वे नो‍टिस पीरियड पर चल रहे हैं. अब वे सरकारी नौकरी करने जा रहे हैं. इनका चयन बिहार पब्लिक सर्विस कमिशन के लिए हो गया है. राजेश पिछले बारह सालों से पत्रकारिता में हैं. इन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत प्रभात खबर, पटना से की थी. इसके बाद स्‍वतंत्र वार्ता, हैदराबाद को भी अपनी सेवाएं दीं. ईटीवी, हैदराबाद में बिहार डेस्‍क पर काम किया. पटना दूरदर्शन से भी जुड़े रहे. जी न्‍यूज को तीन सालों तक अपनी सेवाएं दीं. महुआ के लांचिंग के समय इन्‍होंने प्रोग्रामिंग हेड के रूप में ज्‍वाइन किया था. राजेश इतिहास में पीएचडी भी हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “बीपीएससी में चयन के बाद महुआ से राजेश सिंह का इस्‍तीफा

  • मुकेश says:

    बधाई हो ! अच्छा हुआ गंदगी से मुक्ति मिली… वैसे में अब टीवी में करने को कुछ बचा नहीं है।

    Reply
  • अजय उपाध्याय says:

    यशवंत जी, आपकी ख़बर अधूरी है… राजेश सिंह का इस्तीफा महुआ की अंदरुनी राजनीति का नतीजा है… महुआ में पिछले पांच महीनों ने पांच एडिटर बदले गए हैं… ऐसे में किसी भी इंसान के लिए सीनियर लेवल पर काम करना मुश्किल हो जाता है… महुआ की पुरानी टीम करीब-करीब यहां से विदा हो चुकी है ऐसे में राजेश सिंह का टिका रहना मुश्किल था…

    Reply
  • राग दरबारी says:

    महुआ में तो वही होता है, जो तिवारी चाहते हैं और तिवारी क्या चाहते हैं ये उन्हें भी नहीं पता… दरअसल मीडिया इंडस्ट्री चलाना तिवारी की मंशा है भी नहीं… तिवारीजी के दूसरे धंधे और कुछ शौक हैं जिन्हें वो इसी बहाने पूरा कर रहे हैं… महुआ का भगवान ही मालिक है, इसे तो राजदीप भी नहीं बचा सकते।

    Reply
  • यशवंत जी…ये खबर सही है की…राजेश सिंह ने महुआ छोड़ दिया है…पर ये भी सही नहीं है की राजेश सिंह का BPSC हो गया है….इस महीने BPSC से कोई परिणाम नहीं निकला है…वर्षो पहले किरानियो की एक बहाली BPSC से निकला था जिसमे पैसे दे कर बहाली हुई थी…और कोर्ट ने उस पर रोक लगा दिया था….वो केस घूश देने वाले जीत गए हैं…और राजेश सिंह ने भी घूश दे कर वो परीक्षा उत्तीर्ण कर ली थी…..वैसे राजेश सिंह की सही औकात किरानी बनने की ही है

    Reply
  • hemant singh, patna says:

    mai rajeshji ko tabse janta hoon jab wo katihaar ke navoday school me PGT hua kate the. ek dasak pahle ki baat hai. NET, Ph D karne ke baad lecturership ki koshish ker rahe the. baat nahi bani to media me aa gaye. ek se jyada baar pcs ko face ker chuke hai. mujhe nahi lagta ki sarkari naukari karenge. phir bhi all the best !

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *