बुलंदशहर में सीओ ने किया अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ से दुर्व्‍यवहार, पत्रकारों में रोष

बुलंदशहर में चल रहे नुमाइश की स्‍टार नाइट में सीओ और अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ के बीच विवाद हो गया. जिसके बाद इन दोनों लोगों के बीच हाथापाई भी हुई. पुलिस वालों ने ब्‍यूरोचीफ के साथ अभद्रता भी की. वहां जिले के कई आला अधिकारी भी मौजूद थे. इस मामले में सीओ के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है. पर पत्रकार आनंदोलन के मूड में हैं.

बुलंदशहर में इन दिनों नुमाइश चल रहा है. एक महीने तक चलने वाले इस कार्यक्रम में 28 मार्च की रात को स्‍टार नाइट का आयोजन किया गया था. जिसमें गायक शब्‍बीर कुमार का कार्यक्रम था. कार्यक्रम में जिले के डीएम, एसपी, जिला जज समेत कई अफसर भी मौजूद थे. काफी लोग कार्यक्रम को देखने आए हुए थे.

कार्यक्रम चल रहा था तभी अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ विजय शंकर पांडेय फोटो लेने के लिए स्‍टेज की सीढि़यों पर पहुंच गए. वो फोटो ले ही रहे थे कि पुलिस वाले उन्‍हें मना करने लगे. उन्‍होंने अपना परिचय दिया तथा फिर फोटोग्राफी शुरू की. आयोजकों के निर्देश पर सीओ संसार सिंह का एक गनर उन्‍हें जबरदस्‍ती नीचे उतार दिया.

इससे नाराज विजय शंकर ने सीओ से अपनी आपत्ति जताई. इसको लेकर विवाद शुरू हो गया. बताया जा रहा है कि इस दौरान विवाद इतना बढ़ा कि हाथापाई की नौबत आ गई. इसी बीच सीओ संसार सिंह ने विजय शंकर से बदतमीजी की. उनके ऊपर हाथ उठा दिया. हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि विजय शंकर नशे में थे तथा उन्‍होंने सीओ को अपशब्‍द कहे.

कुछ पुलिसवालों ने भी विजय के साथ बदसलूकी की. उन्‍हें धक्‍का दिया गया. पुलिस कर्मियों ने उन्‍हें रवीन्‍द्र नाट्यशाला से बाहर कर दिया. इसकी खबर जब अन्‍य पत्रकारों को हुई तो वो नाराज हो गए. वे सीओ को तत्‍काल निलंबित करने की मांग करने लगे. शोर सुनकर डीएम-एसपी भी बाहर निकले. इस विवाद के बाद कार्यक्रम को बंद कर दिया गया. पत्रकार सीओ के निलंबन की मांग पर अड़ गए. एसपी ने समझाबुझाकर और जांच की बात कहकर मामले को सलटाया.

दूसरे दिन सुबह पत्रकारों का एक प्रति‍निधिमंडल एसपी से मिला तो उन्‍होंने कहा सीओ को क्‍लीनचिट दे दी. उन्‍होंने कहा कि ब्‍यूरोचीफ नशे में थे, जिसके चलते इतना विवाद हो गया. हालांकि उन्‍होंने इस घटना को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताते हुए अफसोस जताया. परन्‍तु इसके बावजूद पत्रकार नाराज थे. उनकी मांग थी कि सीओ संसार सिंह को सस्‍पेंड किया जाए.

इस संदर्भ में जब एसएसपी आरकेएस राठौर से बात की गई तो उन्‍होंने घटना को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया तथा कहा कि मामले को शार्ट आउट कर लिया गया है. उन्‍होंने कहा कि नशे के चलते विवाद हो गया था. मामला बहुत बड़ा नहीं था. अब सब सुलझा लिया गया है. इस संदर्भ में सीओ संसार सिंह को कॉल किया गया तो उन्‍होंने मोबाइल पिक नहीं किया, जबकि विजय शंकर का मोबाइल नॉट रिचेबल बताता रहा.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “बुलंदशहर में सीओ ने किया अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ से दुर्व्‍यवहार, पत्रकारों में रोष

  • amit sharma says:

    ye jo bhe hua hai iske peeche ek electronic media k ek patrakaar ka haath hai.usne khud hi pandey k saath sharab pe aur use zabardasti stage pe chadne k liye uksaaya,uske baad pandey ji police k kehne pe neeche aa gaye,lekin sanssaar singh ne chanta markar achaa nahi kiya,vo chahte toh bina hathapayee k mamlaa nibtaa sakte the,co k khilaaf isliyee karwayi nahi hui kyonki ptrakaaar hi police ki chaplusi main lage hue hain,wo idhar bhe hain aur udhar bhe

    Reply
  • manish sharma says:

    ye jo khabar jo aap pade rahe hai,hakikat ye hai ki bulandshahar k patkaar main ekta nhi hai
    kyunki waha aadhe patrrkaar farzi the

    Reply
  • co sansar singh patrakaron se durvyavhar karne mein hi apni shaan samajhte hain. BULANDSHAHAR ki media ko batana chahuga ki wo banaras mein co cant rahte hue patrakaron ko thane mein pac se pitwa chuke hain. IS LIYE BEWARE THE Khaki dogs.

    Reply
  • kya patrkar hone ke baad kuchh bhi karne ka liecence mil jata hai. Maryada ke bahar aacharan karenge to co to dur ki baat hai homegaurd bhi jutiyaega.

    Reply
  • नरेन्द्र प्रताप says:

    यशवंतजी,
    आपको अवगत कराना चाहता हूँ कि अमर उजाला ने श्री विजयशंकर पांडेय जी की सेवायें समाप्त कर दी है। किसी भी पत्रकार की जिंदगी में इस तरह के हालात सबसे दुर्भाग्यपूर्ण होते है। मान लिया जाये कि पूरे मामले में श्री पांडेय जी की ही गलती थी, फिर भी खाकी वर्दी पहने सीओ को ये अधिकार किस कानून ने दे दिया कि वह सरेआम किसी की बेइज्जती करे और उसके ऊपर हाथ चलाये। बुलंदशहर के पत्रकारों ने सीओ के खिलाफ कार्रवाई के लिए डीएम और एसएसपी से भी बात की और वे सीओ के खिलाफ कार्रवाई करने को भी राजी नजर आये। लेकिन उससे भी दुर्भाग्यपूर्ण ये है कि अमर उजाला ने अपने पॉव पीछे खींचकर श्री पांडेय को अपने से अलग कर लिया। अमर उजाला प्रबंधन ने श्री पांडेय के अस्तित्व के अलावा उन लोगो के बारे में भी सोचा होता जो बुलंदशहर में पत्रकारिता करते है फिर चाहे वो जागरण के हो, उजाला के हो या हिन्दुस्तान के। अमर उजाला ने यदि श्री पांडेय को दोषी माना है तो मैं उसका विरोध नही कर रहा, लेकिन जिस वक्त पर उजाला प्रबंधन ने मामले से अपने पॉव पीछे खीचें है वह टाइमिंग गलत है जिसकी खामियाजा आने वाले वक्त में बुलंदशहर में पत्रकारिता करने वाले हरेक पत्रकार (अमर उजाला भी) को चुकाना पड़ेगा। बड़ा आसान होता है कि बैनर से पत्रकार को निकाल दिया जाये, लेकिन उन लोगो के बारे में भी अखबार प्रबंधन को सोचना चाहिए था जो लोग पिछले दो दिनों से श्री विजयशंकर पांडेय की लड़ाई लड़ रहे थे।

    Reply
  • यशवंत जी
    जिला प्रदर्शनी मैं स्टार नाईट के दोरान एस्थल पर लग भाग ३५०० लोग और डीएम समेत जिले के आला अधिकारी थे जब अमर उजाला के चीफ स्टेज पर फोटो खीचने गए थे गलती सिर्फ विजय संकर पांडे की नहीं है बल्कि खुद सीओ सिटी ने पहले विजय संकर पांडे को थप्पड़ जादा था जिसके गबह खुद डीएम समेत आला अधिकारी है इस मामले मैं जब खुद अमरउजाला बेक फूट पर है तो असे मैं बुलंदशहर के पत्रकार लड़ाई को केसे लडे जबकि स्टार नाईट आजतक के स्त्रेंग्गर मुकुल शर्मा करा रहे थे सूत्रों की माने तो स्टार नाईट के लिए सिटी मजिस्ट्रेड ने रकम अदा नहीं की थी तो सीओ पर पत्रकारों को भड़कता देख मुकुल जी ने प्रशासन से मिलने बालि रकम को अपने हाथ से जाता देख खुद ही पत्रकारों से भीड़ बेठे जब पत्रकारों को मुकुल से भिड़ता देख विजय संकर पांडे ने भी सीओ को अपशब्द कहे जो मामले मैं सीडी पेश का गई है उसको तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है और ज्ञात भी हुआ है की स्टार नाईट के लिए उधियोग पतियों से चंदा भी किया गया है अभी पत्कारो मैं भरी रोष है और अमर उजाला के बेक फूट पर आने से लड़ाई को नही लड़ने का फेसला किया है
    मनीष शर्मा जिला अध्यच उपजा ०९८९७६९३०२०

    Reply
  • manish sharma bulandshahr says:

    यशवंत जी
    जिला प्रदर्शनी मैं स्टार नाईट के दोरान एस्थल पर लग भाग ३५०० लोग और डीएम समेत जिले के आला अधिकारी थे जब अमर उजाला के चीफ स्टेज पर फोटो खीचने गए थे गलती सिर्फ विजय संकर पांडे की नहीं है बल्कि खुद सीओ सिटी ने पहले विजय संकर पांडे को थप्पड़ जादा था जिसके गबह खुद डीएम समेत आला अधिकारी है इस मामले मैं जब खुद अमरउजाला बेक फूट पर है तो असे मैं बुलंदशहर के पत्रकार लड़ाई को केसे लडे जबकि स्टार नाईट आजतक के स्त्रेंग्गर मुकुल शर्मा करा रहे थे सूत्रों की माने तो स्टार नाईट के लिए सिटी मजिस्ट्रेड ने रकम अदा नहीं की थी तो सीओ पर पत्रकारों को भड़कता देख मुकुल जी ने प्रशासन से मिलने बालि रकम को अपने हाथ से जाता देख खुद ही पत्रकारों से भीड़ बेठे जब पत्रकारों को मुकुल से भिड़ता देख विजय संकर पांडे ने भी सीओ को अपशब्द कहे जो मामले मैं सीडी पेश का गई है उसको तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया है और ज्ञात भी हुआ है की स्टार नाईट के लिए उधियोग पतियों से चंदा भी किया गया है अभी पत्कारो मैं भरी रोष है और अमर उजाला के बेक फूट पर आने से लड़ाई को नही लड़ने का फेसला किया है
    मनीष शर्मा जिला अध्यच उपजा ०९८९७६९३०२०

    Reply
  • amrendra tripathi says:

    vijay ji ke sath jo kuchh bhi hua achha nahi hua.kisi bhi police wale ko kanun ki kisibhi dhar main kisi bhi aadmi ko chata marne ka adhikar nahi diya hai.bharat jaise kamjor rastra main jahna rastrawad kewal cricket ke maidan main dikhata hai aisi baatain bekar ki hain. par hame sochana hoga ki hum nigeria ya yuganda main rah rahain hain ya so called ajaad bhatat main. vijay ke saath jo hua is harakat se koi bhi padha likha samajhdar aadmi aahat hoga, aur tab to aur bhi jab wah is desh ki ghatiya pokice ke baare main jaanta hoga. haan gunde to is ghatna se khus honge hi.vijay ki naukri le lena is desh ki patrakarita ki aajadi aur takat ko sabit karta hai.

    Reply
  • Panday ji ko pitwane me sabse jyada kami uske he photographer ki hai. jab Pandey Ji ne sabke samne usse photo karne ki liye kaha to vah nahi gaya aur pandey ji khud he photo karne ke liye stage par chale gaye.
    co ne amar ujala ke bureo ke sabke samne chanta markar galat kiya. waise ye sari sajesh kisi pattarkar aur amar ujala ke he photo grapher ki rahi hai.

    Reply
  • ye jo bhe hua hai iske peeche ek electronic media k ek patrakaar ka haath hai.usne khud hi pandey k saath sharab pe aur use zabardasti stage pe chadne k liye uksaaya,uske baad pandey ji police k kehne pe neeche aa gaye,lekin sanssaar singh ne chanta markar achaa nahi kiya,vo chahte toh bina hathapayee k mamlaa nibtaa sakte the,co k khilaaf isliyee karwayi nahi hui kyonki ptrakaaar hi police ki chaplusi main lage hue hain,wo idhar bhe hain aur udhar bhe
    +0

    Reply
  • sutro ke anusar pata chala hai ki upper se adesh hai pandey ji ki janch karayi jaye. agar pandey ji ki janch ho rahi hai to photographer ki bhi janch honi chahiye. kyuki photo khichne ka kam photographer ka hota hai na ki burocheif ka. vaise ye sari sajesh kisi pattarkar aur amar ujala ke he photo grapher ki rahi hai. to janch buro aur photographer ki hone chahiye

    Reply
  • Shri Yashvant ji, Bulandshahr me AMAR UJALA ke Beuiro Chief Vijay shankar panday suru se hee vivadit rahe hai. unke kai mamle meree jankari me hai.
    1. Bulandshahr office me BSNL ke Officer ko chata mara tha. is mamla me Vijay panday ko maffi magnee pari thi.
    2. Office me Advocate Suman Ragav se galli galoch kee thi. us mamle me bhi Vijay Shankar ko Maffi magni pari thi.
    3. Jila mahila hospital me Dr.Mukesh ko chata mar diya tha. us mamle mai Dr. ne FIR darj karane ke Liya tharir de the. Vijay shankar ke maffi magne ke bad mamla shant hua.
    4. Pradane Chunav ke dauran DAV Inter college me S.I. K.P.Singh se galle galoch hui. S.I. ne Vijay shankar ko vaha se Bhaga diya.
    5. DPS ke Girl Student ke sath Yamunapuram colony me galat harket karta hua pakra gya tha. Logo se maffi mangkar jaan bachai thi.
    6. kala aam chock par Daru peekar kai bar hungama kar chuke hai.
    7. Surya log me daru peena ke bad Vaiter ko chhata mar diya tha.
    8. MLA Guddu Pandit se Pistel karedne ke naam pur 50 Hazar rupee magna ka mamla pure Jila me charcha me raha tha.
    9. Jila Pradshani me Dance Party me Daru peekar Ladiko par rupee udane aur Green Room me Ratee gujarne ka bhi mamla DM aur SSP tak paucha.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *