मृणाल पांडे : संपादक से पहले अब प्रमुख का पद

Mrinal Pandeyदैनिक हिंदुस्तान की प्रधान संपादक मृणाल पांडे  के पद से प्रधान शब्द हटाकर सिर्फ संपादक बनाए जाने के बाद अब उनके पद में प्रमुख शब्द जोड़ा गया है। इस तरह अब वे प्रमुख संपादक बन गई हैं। भड़ास4मीडिया पर पिछले दिनों प्रकाशित खबर प्रधान शब्द डिलीट,  अब सिर्फ संपादक कहीं जाएंगी के प्रकाशन के बाद अब ताजे घटनाक्रम में उनकी नई पदवी प्रमुख संपादक की  हो गई है।

वकीलों के माध्यम से बात करूंगी : मृणाल पांडे

हिंदी पत्रकारिता के इतिहास में संभवतः ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी प्रधान संपादक को एक ही हफ्ते में पहले एक पद नीचे करके संपादक बनाया गया हो और फिर पद बढ़ाकर प्रमुख संपादक बना दिया गया हो। इस पूरे घटनाक्रम के बारे में बात करने के लिए आज जब मृणाल पांडे को भड़ास4मीडिया की तरफ से फोन किया गया तो उनका कहना था- ‘भड़ास4मीडिया मैं पढ़ती हूं। दैनिक हिंदुस्तान के जिन पूर्व पत्रकारों ने आपको ये सूचनाएं दी हैं, उन्हीं से आगे भी इस बारे में बात करिए। मुझे अगर बात करना होगा तो मैं वकीलों के माध्यम से बात करूंगी”।

मृणाल पांडे को जब भड़ास4मीडिया की तरफ से बताया गया कि उनका नंबर आज ही मिल सका है और नंबर मिलते ही उनका पक्ष जानने की कोशिश भड़ास4मीडिया कर रहा है तो उनका कहना था  कि नंबर न होने का तर्क गले से नीचे उतरने वाला नहीं है। वे इस बारे में कोई बात न तो अब करना चाहतीं हैं और न ही आगे करना चाहेंगी। अगर कुछ कहना होगा तो वो वकीलों के माध्यम से ही कहेंगी।

जाहिर है,  मृणाल पांडे भड़ास4मीडिया पर उनकी पदवी घटाए जाने संबंधी और उनकी विदाई के कयास लगाए जाने संबंधी खबर के प्रकाशन से विचलित हैं और इस घटनाक्रम पर बजाय अपना पक्ष रखने के,  भड़ास4मीडिया को कोर्ट में घसीटने की धमकी दे रहीं हैं। इस बारे में भड़ास4मीडिया का पक्ष इस प्रकार है-

”स्पष्ट किया जाता है कि भड़ास4मीडिया का साफ सुथरी छवि वाली और पत्रकारिता व साहित्य जगत की जानी-मानी शख्सीयत मृणाल पांडे के प्रति कोई पूर्वाग्रह नहीं है। भड़ास4मीडिया पत्रकारिता के मानदंडों के तहत ही खबरों का प्रकाशन करता है। मृणाल पांडे का फोन नंबर उपलब्ध होते ही उनसे संपर्क कर उनके पक्ष को हू-ब-हू रखने की मंशा के तहत उनसे बात करने का यास किया गया। बावजूद इसके अगर उन्हें लगता है कि भड़ास4मीडिया किसी पूर्वाग्रह से उनकी छवि धूमिल कर रहा है तो भड़ास4मीडिया टीम को इसके लिए खेद है। हमारे मन में मृणाल पांडे के प्रति गहरा सम्मान व अनुराग है। अगर मृणाल पांडे इस मामले को कोर्ट में ले जाना चाहती हैं तो भड़ास4मीडिया टीम इसके लिए  तैयार है और जेल जाने की नौबत आई तो इसके लिए भी मानसिक रूप से तैयार है।”

खर्चे में कटौती पर जोर

एक नए घटनाक्रम के तहत एचटी मीडिया की तरफ से दैनिक हिंदुस्तान से जुड़े लोगों को एक मेल जारी कर खर्चे में कटौती करने के निर्देश दिए गए हैं। दौरों से लेकर प्रिंट निकालने तक में खर्चे को ध्यान में रखने की हिदायत दी गई है साथ ही नई नियुक्तियों को बंद कर हिंदुस्तान से जुड़े लोगों को प्रमोट कर काम चलाने की सलाह दी गई है।

गोरखपुर में प्रकाशन जल्द

दैनिक हिंदुस्तान इलाहाबाद के बाद गोरखपुर में जल्द ही अपना संस्करण निकालेगा। इस यूनिट के लिए स्थानीय संपादक की तलाश की कवायद तेज कर दी गई है और जल्द ही नाम का खुलासा होने के आसार हैं।

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *