मैंने किसी जोशी-पोशी को पत्र नहीं लिखा : बर्नी

यशवंत भाई, आई हैव नाट रिटेन लेटर टू एनी जोशी-पोशी. इट इज ए पार्ट आफ साइबर वार अगेंस्ट मी. नो मैटर. दे मस्ट नो मैं वो पत्रकार हूं जिसकी एक किताब ने देश की राजनीति का एजेंडा बदल दिया. मैंने लिखा इराक पर, बुश को माफी मांगनी पड़ी. मैंने लिखा कल्याण पर, उन्हें सपा से जाना पड़ा. मैंने लिखा आतंक पर, आतंक का छुपा चेहरा सामने आ गया. असीमानंद का कनफेस, उपाध्याय पर मिलिट्री इंटेलीजेंस की रिपोर्ट, इशरत जहां केस पर सतीश वर्मा का बयान…

ये सब मेरे लिखे पर मोहर है. और याद रखें, ये सब जब मैं लिखना और बोलना शुरू करूंगा तब कश्मीर से कन्याकुमारी तक एक ही आवाज सुनाई देगी, अजीज बर्नी की आवाज.

शुक्रिया

अजीज बर्नी

(भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित खबर ”अजीज बर्नी का एक और माफीनामा” के जवाब में अजीज बर्नी ने अपनी उपरोक्त प्रतिक्रिया एसएमएस के रूप में दी है, जिसे यहां प्रकाशित कर उनका पक्ष रखा जा रहा है)

Comments on “मैंने किसी जोशी-पोशी को पत्र नहीं लिखा : बर्नी

  • anamisharanbabal says:

    AJIJ BARNI JI LAMBA 2 FEKNE KI AADAT ABI TAK NAHI GAYI ये सब मेरे लिखे पर मोहर है. और याद रखें, ये सब जब मैं लिखना और बोलना शुरू करूंगा तब कश्मीर से कन्याकुमारी तक एक ही आवाज सुनाई देगी, अजीज बर्नी की आवाज BARNI KI AAWAJ MEDIA ME DOC KI AAWAJ H JISKI GOONJ DUSRE MOHHALLE TAK NAHI JATI SARA VIVAD KYA H NAH JANTA BUT

    Reply
  • [b]HOW BIG MEGALOMANIAC IS THIS MAN, BURNY. THANK GOD HE DID NOT CLAIM THAT HE GAVE US OUR INDEPENDENCE. BLOODY FOOL..[/b]

    Reply
  • madan kumar tiwary says:

    अजीज बर्नी कभी सुब्रतो पर लिखा है ? या हिम्मत नही हुई लिखने की । बहुत अहं है , तुम्हारे अंदर , खुदा से मांगना कभी मदन तिवारी से पाला न पडे , नंगा फ़किर , तुमको भी नंगा कर देगा ।

    Reply
  • madan kumar tiwary says:

    और हा तुम्हारी आदत है लीगल नोटिस की तो डियर बर्नी मेरा पता नोट कर लो क्योंकि अब जो लिख रहा हूं शायद जरुरत पड जाये । सहारा में जो काम करते हैं वो समझौतावादी होते हैं, अपने जमीर को बेचकर जिते है । खुद्दारी नही होती उनके अंदर । एक बात और मेरी इस लडाई में भडास और यशवंत को बीच में मत लाना । तुम समझौतावादी हो , तुम्हारे अंदर खुद्दारी नही है ।
    मदन कुमार तिवारी, समीर तकिया , पुलिस चौकी के पास , गया – बिहार । ०६३१-२२२३२२३, ०९४३१२६७०२७ । अब भेजो लीगल नोटिस , अगर खुद्दार हो तब , अन्यथा तुम समझ गये ।

    Reply
  • Shahnawaz Hussain says:

    It seems this man is a nut case. He is neck deep in trouble…may face legal issue due to his utterances and irresponsible writings…which are nothing but crap…has spit venom again. he needs to be dealt with sternly and put in his place — jail.
    Shahnawaz Hussain.

    Reply
  • दानिश आज़मी ठाणे -मुंबई says:

    बर्नी साहब आप ने जोशी से नही तो सहारा के प्रथम पृष्ठ पर जो माफ़ी मांगा था वो क्या था | वो उपेन्द्र राय जी की साजिश थी या आप ने मांगा था | रही बात आप के लेखो की तो सबको पता है आतंकवाद को लेकर किसने क्या किया |बटला हाउस मामले में आप की कार क्र्दगी किसी से छुपी नही है | आप ने बीच में ही उसको क्यों घुमाया ? रही बात लेखों की तो अपने जम लोग भी मीडिया वाबस्ता है कौन क्या लिखता है यी किसी से छिपा नही है | बर्नी साहब हाथी के दांत खाने के कुछ और दिखने के और होते है |

    Reply
  • mujhe bade afsos k saath kahna pad raha hai ki azeez sahab ko wo log comment kar rahe hain jinhe Shayad media ki a,b,c tak nhi aati hogi..agar wo aisi language bol rahe hain to zaroor unhe kisi baat pe heart hua hoga..wo agar sahara k saath jude hain to isme sahara ka fayeda hai na ki barni sahab ka.. prabhu chawka, barkha dutt jaise log curruption me involve kyun hai agar kuch kahna ya puchhna hai to unse puchho…k kya ye wakai hindustani hain.

    Reply
  • Habib Ansari says:

    अज़ीज़ बर्नी कि कहानी
    अज़ीज़ बर्नी का दावे की जाँच होना ज़रूरी है वेसे बरनी साहब यह बताने की जयमत कर सकते हैं की पिछले शुक्रवार को सहारा उर्दू और हिंदी के पहले पने पर जो माफ़ी नामा छपा है किया वह भी गलत है I अगर उपेन्दर राय यह सब उर्दू अख़बार की भलाई के लिए कर रहे हैं तो उनकी सरहना की जनि चैये I सचाई यह है कि उन्हों ने उर्दू आलमी सहारा शुरू कर के एक अच्छा कम किया है वर्ना अज़ीज़ बर्नी जी तो चार साल से अपने EGO के कारण चैनल को दबये बहते हुए थे I उपेन्दर जी को अभी तो सहारा और विषस तोर पर उर्दू के लिए बहुत कुछ करना है I एक काम पहले वोह यह करने की कृपया करिएँ कि उर्दू सहारा कि वेब साईट पर बड़ी शान से अज़ीज़ बर्नी ने अपनी वेब साईट कि जो लिंक लगा राखी है जिस में दुनिया भर कि ख्रफत भरी है उसे देर किये बजाये discontinue कर दिया जाये क्यों कि इस शख्स के कारण सहारा की image को नुक्सान हुआ है I और वह ओनी वेब साईट पर मनिया सहारा श्री का फोटो लग कर उसका misuse कर रहा है I
    एक बात और बताना है कि अब भी खतरनाक विषये पर article छपे रहे हैं विशेष तोर पर मुंबई,बंगलोरे उअर हैदर बाद में यह सिलसिला बंद नहीं हुआ है I इस तरह के article से ऐसा लगता है कि सहारा जैसा सेकुलर संस्था सम्पर्दिक हो चुकी है I सब से पहले उर्दू सहारा पर लगी बर्नी जी कि वेब साईट कि लिंक को हत्या जाइये I अज़ीज़ बर्नी कि कहानी काफी लम्बी है फिर कभी सुनाई जायगी I

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *