ये हैं अमर सिंह के पांच और टेप… क्लिक करिए और सुनिए

अमर सिंह के टेपों की ये दूसरी खेप है. कुल पांच हैं इसमें. पाठकों से अनुरोध है कि वे खुद सुनें और नीचे कमेंट के जरिए बताएं कि किससे किससे बात हो रही है और क्या बात हो रही है. इन टेपों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रसारित किए जाने से रोक हटाने के बाद जारी किया जा रहा है. टेपों को सुनने के लिए आडियो प्लेयर के साउंड को फुल कर लें और प्ले के निशान पर क्लिक करें. सभी टेप एमपी3 फार्मेट में हैं. कई और टेप हैं जिन्हें कुछ देर बाद इसी साइट पर अपलोड किया जाएगा.

7–इस टेप में अमर सिंह और मुलायम सिंह यादव की बातचीत है. नेताजी और अमर सिंह, कई सारे मुद्दों पर खुलकर बतियाते हैं…

There seems to be an error with the player !

8–यूपी के एक सीनियर अफसर हैं दीपक सिंघल. उनसे अमर सिंह क्या गुफ्तगू कर रहे हैं, यह सुनिए इस टेप में…

There seems to be an error with the player !

9–इस टेप में भी अमर सिंह और दीपक सिंघल के बीच बातचीत है. अमर सिंह जिन कुछ अफसरों के सहारे यूपी की तत्कालीन सरकार में बड़े बड़े काम कराते थे, उनमें दीपक सिंघल भी हैं. इन महोदय से बातचीत क्या हो रही है, इस टेप के जरिए सुन सकते हैं…

There seems to be an error with the player !

10–अमर सिंह और अनिल अंबानी के बेहद नजदीकी रिश्ते रहे हैं. सारी बातें दोनों खुलकर किया करते थे, दलाली से लेकर कारपोरेट दुश्मनों को निपटाने के बारे में तक… सुनिए, इस टेप में अनिल अंबानी और अमर सिंह क्या बतिया रहे हैं…

There seems to be an error with the player !

11–जया से बातचीत का क्रम जारी है… बहुत सारी बातचीत करते हैं अमर सिंह.. सपा के अंदर की कहानी सुनाते हैं जया को.. ऐसा लगता है जैसे जया से सब कुछ कहकर अमर खुद को शांत और सामान्य बनाते थे या कह सकते हैं जया से बातचीत करते हुए अमर खुद को रिफ्रेश रखते थे… और, जया से वे सारी बातें करते हैं.. सुनिए… इस अमर जया वार्ता को… इस टेप के जरिए…

There seems to be an error with the player !


उपर अमर टेप कथा भाग 2 था. इसके पहले और बाद के टेप सुनने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें…

अमर टेप कथा भाग 1

अमर टेप कथा भाग 3

Comments on “ये हैं अमर सिंह के पांच और टेप… क्लिक करिए और सुनिए

  • Girish Mishra says:

    Amar Singh like the late Pramod Mahajan is a phenomenon rather than an individual. This phenomenon was witnessed in Britain, France and America during the 19th century onwards and writers like Dickens, Disraeli, Balzac, Zola, Mark Twain, Dreiser and so on wrote memorable novels. But our “great” Hindi writers seem to be fast asleep since neo-liberal era has descended on us in full force since 1990s. Why?

    Reply
  • Kamal Joshi says:

    bahut badiya tapes h…..sun ke bad man dil garden – 2 ho gaya…….in tapes ki to album nikalni chaiye….taki is mahanta ke baren mein aaau lalita ( shakti kapoor ) ki sun sake n use bhi lage ki lolita ki ijjat lootne mein vo akela nahi h….aur bhi kamine h usse bade

    Reply
  • Ab aya unt pahar ke niche , Amar singh ji taiyar ho jaye ab Janta janegi ki aap kitane mahan aur imandar hain . ab aapko janata ko jawab dena padega , sayad aapko Mukesh ya Kundan Lal Sahgal ke gane yad aayenge kyonki aapko ganon ke dwara apni feelings byakta karana jyada pasand hai.

    Reply
  • ravi kant says:

    ;D;D;D;D;D;D– AMAR SINGH jaise TUCHE logo ki bato bar rispond karana kudh ke samas ki barabadi hai,Ase jhute aue sasti pablicity ke bhukhe loga ke bare me kaya bolana

    Reply
  • Bahut khoob!!!
    afsos ho raha hai ki power ka istemaal is website par bhi ho gaya…aur jitne bhi clip hain useme se main main baate hata di gayi..!!
    jabki subah me sb maujood tha..!!
    nirasha janak!!

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *