राज एक्‍सप्रेस इंदौर में हड़कम्‍प, कई वरिष्‍ठ जबरिया छुट्टी पर भेजे गए

राज एक्‍सप्रेस इंदौर से बड़ी खबर है. यहां के सभी विभाग खाली हो चुके हैं. अधिकांश कर्मचारियों को तीन महीने की छुट्टी पर भेज दिया गया है. मार्केटिंग और सर्कुलेशन विभाग पूरा खाली हो गया है. तीन दिनों से एडिटोरियल में भी लोगों को छुट्टी पर भेजने का दौर शुरू हो गया है. इसके चलते हड़कम्‍प मचा हुआ है. पत्रकार परेशान हैं.

बारह हजार से ज्‍यादा की सेलरी पाने वाले सभी रिपोर्टरों को कंपलसरी छुट्टी दे दी गई है. वरिष्‍ठ पत्रकार शरद शिन्‍दे, सुधीर पंडित, विकास राठौर और डेस्‍क इंचार्ज एनएस रानावत को छुट्टी पर भेजने के बाद अब इंदौर के इंचार्ज मुकेश तिवारी को भी छुट्टी पर भेज दिया गया है. चर्चा है कि अब प्रदीप चौहान, मुमताज खान, सतीश दीक्षित, आरपी यादव और आनंद शिवरे को भी छुट्टी पर भेजा जाएगा. इनकी सेलरी भी दस हजार या उससे ज्‍यादा है.

मार्केटिंग के रूचिर पवार, प्रदीप दुबे, हर्ष जायसवाल भी राज को गुड बाय करने वाले हैं. कैंटीन बंद कर दिया गया है. चाय और पानी तक बंद हो गया है. वैसे डैमेज कंट्रोल शुरू किया गया है और मिलिन्‍द वायवार को कमान सौंपी गई है. इंदौर में शशि शुक्‍ला को इंचार्ज बनाया गया है. हालात बेकाबू हो गए हैं. बाकियों ने भी दूसरी जगह काम ढूंढना शुरू कर दिया है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “राज एक्‍सप्रेस इंदौर में हड़कम्‍प, कई वरिष्‍ठ जबरिया छुट्टी पर भेजे गए

  • Pt. Ravindra vyas says:

    raj express mai jisne bhi noukary ki ohh sehlot ke papon ka bhagidar ban gaya. kisi bhi patrakar ke jeevan ki sabse badi bhool thee raj ko join karna. Arun sehlot ko tab pata chalega jab vo jail main GADDHE KHODEGA.

    Reply
  • kise company ke bare me jane bina kisi bhi vyakti ko comment nahi karna chahiya ”””””’ bhai logon stop this bulset come to the paint ””””””’

    Reply
  • Raj ki starting bahot badia thi…. magar team hamesha kamjor rahi….
    pahele TV Band hua ab paper bhi band hone ki kagar per………

    Reply
  • raj sxsena says:

    इंदौर के पत्रकारो का दुर्भाग्य है कि शहर में एक संस्थान जबरिया छुट्टी पर भेज रहा है और पत्रकारों के अधिकारों का संरक्षण करने वाली संस्थाएं खामोंश बैठी है । क्यो अब आवाज नही उठाई जा रही है । क्या कोई बता सकता है की इन लोगो का घर कैसे चलेगा । बच्चों की पढाई क्या होगा ।

    Reply
  • Shubhchintak says:

    Arun Sahlot mai aaj har insaan ko kamiyaa najar aa rahi hai aap sabhi logo ki jaankaari ke liye yaad dilla du ki ye vahi akhbaar maalik hai jisne patrakaaro ki aukaat ko 3000-5000 se badhaaker 20000-40000 tak aakha aur patrakaar scooter se 4 wheeler tak aa gaye. wah re swaarthi insaan aaj uskaa wakt kharrab hai to majaak banayaa ja raha hai aur saath chooda jaa raha shaayad yahi chalan hai aaj ke is samaaj ka

    Reply
  • jabalpur me bhi yahi hal hai par arun sehlot ko sochna chahiye ki acche logon ko niikalne ki vajay un dhokhe bajon ko nikale jo ki company ki naiya dubaye pade hain jaise jabalpur me anil arya ko hi dekh lo vo to company ko dubakar hi chondega uske ane ke bad hi raj express jabalpur me ekse ek lafde huye the

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *