लोग चुप रहते हैं, इसलिए ढीठ हो जाती है पुलिस

जुगल किशोरयशवंत जी नमस्‍कार, मैंने अपने एक पुलिस अधिकारी मित्र के जानकारी देने पर आपके मां की दर्द भरी दास्‍तान पढ़ी. यद्यपि लेख के अनुसार जिम्‍मेदार भी मेरा ही महकमा है पर फिर भी कहने का साहस जुटा रहा हूं क्‍योंकि कुछ और ना सही, आपके दर्द में सहभागी ही बन सकूं. इस तरह की घटनाएं इसलिए होती हैं कि हम सब कुछ सह जाते हैं, कहने, शिकायत करने और कानूनी कदम नहीं उठाते. ऐसे में कानून को ताख पर रखने वाले लोग ढीठ व निश्चिंत हो जाते हैं.

ऐसा भी नहीं कि ऐसे कृत्‍यों पर इन्‍हें सजा ना मिलती हो पर प्रतिशत कम है, इसलिए रोक नहीं है. यह प्रकृति का नियम है कि जो अपने अधिकारों का दुरूपयोग करता है या फिर उन्‍हें प्रयोग ही नहीं करता वे अधिकार स्‍वत: समाप्‍त हो जाते हैं. आज पुलिस की यह छवि, ह्यूमन राइट, सूचना अधिकार आदि नियम निरंकुशता को रोकने के ही लिए बने हैं.

पर यशवंत जी आदमी ही हर जगह बैठा है, कोई पुलिस के नाम की जाति या रेस नहीं है, सभी इस भांग भरे कुंए से पानी पीकर निकले हैं, वे चाहे पत्रकार हों, नेता, सामाजिक कार्यकर्ता, पुलिस या कोई, आपने सबकी खबर भी ली है. ऐसे में जब तक यह सोच नहीं पैदा होगी कि आज हम जो भी समाज में बो रहे हैं, हिंसा, अपराध, नक्‍सलवाद, भ्रष्‍टाचार, जातिवाद, साम्‍प्रदायिकता या फिर इन बुराइयों को फैसिलेट कर रहे हैं, वह बहुत जल्‍दी हमारे सामने मुंह बाए हमें खाने को तैयार होगी. हमारी आने वाली जनरेशन को इनसे दो-चार होना होगा. यह हर आम और खास पर लागू है.

इसीलिए धर्म ग्रंथों में ‘आत्‍मा प्रतिकूलानी परेशम ना समाचारेत’ की बात कही गई है. समाज की दुर्गति तथा भ्रष्‍ट लोगों से सभी परिचित हैं, सो ज्‍यादा क्‍या कहना. मैं आपकी इस व्‍यथा को आज ही माननीय यूपी ह्यूमन राइट्स कमीशन के संज्ञान में लाता हूं और उम्‍मीद करता हूं कि कदाचित आयोग समानता, स्‍वतंत्रतता व व्‍यक्ति की गरिमा की रक्षा कर सके.

जुगल किशोर यूपी ह्यूमन राइटस कमीशन में एडिशनल एसपी हैं.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “लोग चुप रहते हैं, इसलिए ढीठ हो जाती है पुलिस

  • Jugal ji , Pahle to aap ko SAADHUWAAD , KYONKI APNE HI DEPARTMENT PAR UNGLI UTHAANA SABKE BUTE KI BAAT NAHI HOTI ! Par Aap ne likha ki — हम सब कुछ सह जाते हैं, कहने, शिकायत करने और कानूनी कदम नहीं उठाते. ऐसे में कानून को ताख पर रखने वाले लोग ढीठ व निश्चिंत हो जाते हैं. Sawaal ye hai ki shikaayat kis se ? Kaun sa kadam ? Ek aam aadmi Qannon ki kitni jaankaari rakhta hai ? Aam aadmi to apne khilaaf lagi dhaaraaon ke baare mein tak nahi jaanta ki kis dhaara ka matlab kya hota hai ? Police ki shikaayat kis se kare aam aadmi ? Aap police mein hain to qanoon jaante hain par am aadmi to police ko RAKSHAK maanta hai , ye aur baat hai ki Police ka role amuman BHAKSHAK hi hota hai ! Jis department ke zyaadatar karmchaari Sanskaarheen hain aur Beimaan maane jaate hain , wahaan mutthi bhar imaandaar adhikaariyon ki khoj karna, BHUSE MEIN SUI DHUNDHNA jaisa kaam hai ! Par ek baat bataaun- ki Police jitna darpok aur buzdil department ekka -dukka hi hai ! Kyonki police sirf Kamzor aur Gareebon ko hi sataati hai . Bade NETA, DON aur AMEERON ke saamne jaate hi Police ki pant geeli ho jaati hai aur Chaaplusi is kadar, ki maano ye lagta hai ki Maa-Baap ne bachpan se yahi sikhaaya hai !
    Police behad Buzdil aur Darpok hoti hai , isiliye humesha Gareebon aur kamzoron ko sataati hai ! Gar aisa na hota to POLICE DWARA ANYAAYA ka silsilaa itne saalon tak be-khauf andaaz mein yun hi nahi chalta ! Police waale ki shikaayat kis se ? Ye baat aaj bhi Hindustaan ki 90% aabaadi nahi jaanti ! Yahaan tak ki khud police waale netaaon ki galat baat maan ne ko baadhya hote hain , Netaaon ki jee huzuri karte hain, ye jaan ne ke baawjood ki ye neta corrupt aur be-imaan hai . Aur ye har jagah hota hai, jabki Police waale khud qanoon ke bade jaankaar hote hain ! Kyonki unhe apni naukari bachaani hoti hai ya Pramotion paana hota hai ! Lihaaza Police ki buzdili ba-dastur qaayam hai . To aam aadmi kya kar sakta hai, iskaa andaaz lagaana mushkil nahi ! Ummid ki Aap jaise kuch Imaandaaar afsar POLICE KE KHILAAF qanooni karyawaahi ki jaankaari aam aadmi ko muheyya karaayenge ! Again– SAADHUWAAD !

    Reply
  • pushpenra mishra says:

    adarniya jugulkishor ji aapne yashwant ji ki jang ke sipkhi bankar bata diya ki aaj bhi police mahakame me emandar officars hai jo niji hit ke bajay janhit ko bada samajhate hai . mai bhi aap ke sath me hu. aut ummid hai ki deno din … yashwant ji ko hamare jaise logo ka sahyog melata rahega.

    Reply
  • sunny chauhan says:

    sunny chauhan web news http://www.thirdeyeworldnews ke haryana , punjab, chandigarh ke chief and j&k , himachal pardesh ke chief sunny chauhan accreditation by haryana and chandigarh administration. sunny chauhan nbs news magine chief north india and daily publish news papers ke already chief of buearo chd hai.pending matter punjab kesri delhi 2008 apoint rahe 8 november 2008 ko sadak accident mein major injured and no responce and reapoint ke liye date to date and no help in accident and two years gone to week and week. i treid to mantain my stamna when i do it. or punjab kesri mein time period of my work 9 years posting in karnal, panchkula ,temprary ambala & cahnigarh. i pray me god may good thinking.
    sunny chauhan
    resident karnal
    office sec 17 cahndigarh

    I am very tahnkful to bhadas4media.com .bhadas media everyone catagiri ko nayay dilene ke liye sabse aage hai……………………………………………………………… sunny chauhan

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *