वरिष्ठ पत्रकार राघवेंद्र सिंह और सौरभ मालवीय माखनलाल विवि में

भोपाल। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल से खबर है कि इसके प्रकाशन विभाग से दो लोग जुड़े है।  ये हैं वरिष्ठ पत्रकार राघवेन्द्र सिंह और सौरभ मालवीय। राघवेन्द्र सिंह को प्रकाशन प्रभारी बनाया गया है और सौरभ मालवीय प्रकाशन अधिकारी के रूप में कामकाज देखेंगे। इससे पहले राघवेन्द्र सिंह पीपल्स समाचार, भोपाल के स्थानीय संपादक रहे हैं  तथा नई दुनिया और दैनिक जागरण जैसे संस्थानों के लिए काम कर चुके हैं। भोपाल में एक अच्छे राजनीतिक संवाददाता के रूप में उनकी खास पहचान है। जबकि श्री मालवीय, पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पूर्व छात्र हैं।

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “वरिष्ठ पत्रकार राघवेंद्र सिंह और सौरभ मालवीय माखनलाल विवि में

  • saurabh sir jee aapko kafi badhai…apne jis tarah bjp main kafi pramukhta se sakriya rahte hue..rashtriya leaders ka dil jeeta tha thik usi tarah aap apni chamta se vishwavidyalaya main apni pratibha ka parichai denge.mujhe pakka bharosa hai..aur chatra bhi aapse khub sikhenge…………
    aapka chota bhai

    manish shukla
    bureau chief
    new delhi

    Reply
  • Ravindra Nath says:

    सौरभ जी आपको बहुत बहुत बधाई, निश्चित तौर पर आपके द्वारा प्रकाशन अधिकारी का दायित्व संभालने से निश्चित तौर पर मैं गुणात्मक बेहतरी के लिए आशांवित हूँ।
    🙂

    Reply
  • Manoj Burnwal says:

    Sourav Ji.
    Aap ko nayi jimmedari ki hardik shubkamnayen. Mujhe ummed hai ki aap is jimmedari ko aachi tarah se nibhayenge.

    Reply
  • सुमित कर्ण says:

    सौरभ जी बधाई,कुछ वर्ष पूर्व जब मैं बिहार से देश की राजधानी दिल्ली में मीडिया क्षेत्र में काम करने के लिए आया तो मुझे कुछ मित्रो ने बताया की नए और संघर्षशील पत्रकारों को सहयोग करने के लिए सदैव तत्पर रहने वाला एक मोबाइल नंबर ९८११०३३५५४ मालवीय जी का है………..आपको हार्दिक शुभकामनायें.

    Reply
  • संजीव कुमार सिन्‍हा says:

    मा‍खनलाल पत्रकारिता विव‍ि के प्रकाशन अधिकारी बनने पर भाई सौरभ मालवीय को हार्दिक शुभकामनाएं। सब जानते हैं कि आप जहां रहे, राष्‍ट्रवाद की अलख जगाते रहे। आशा है आपकी उपस्थिति से माखनलाल विव‍ि राष्‍ट्रवादी विचारों का प्रकाशस्‍तंभ बनेगा।

    Reply
  • Saurv ji aap ko bahut bahut badhai. Ye aapki karismai byaktitv hai ki jahan jatei hai vahan apney kary sei sabko prabhavit kar letey hai.

    Hum aasanvit hai ki Makhanlal university aapkey dwara sahyog sei aur aagey jayega.
    [b]Dher sarey subhkamanon sahit
    [/b]
    Rajeev

    Reply
  • शुभ कामना सौरभ मालवीय जी
    मीडिया के लिए मित्रवत नाम है आप का

    Reply
  • Dharmendra Kaushal says:

    मालवीयजी को बहुत बहुत बधाई. आपके अन्दर छिपी हुई प्रतिभा को मैं बहुत दिन से महसूस कर रहा था. राष्ट्रवाद का प्रखर स्वर जो आप हमेशा से आलोकित करते आये है अब उसे एक स्वरुप देने का समय और मौका दोनों ही है.. विद्यार्थियों मैं राष्ट्रवाद की भावना गढ़ने मैं आप कामयाब हों यही प्रभु से कामना है. आपको बहुत बहुत शुभ कामना. और बहुत बहुत बधाई. धर्मेन्द्र कौशल नयी देल्ली

    Reply
  • सौमित्र रॉय says:

    अच्‍छा है। माखनलाल विश्‍वविद्यालय इसी तरह से धीरे-धीरे नौकरी से निकाले गए लोगों का विस्‍थापित पुनर्वास केंद्र बनता जाएगा। जिन्‍हें एक कॉपी ठीक से बनानी नहीं आती, वे यूनिवर्सिटी में प्रकाशन का काम देखेंगे। इस यूनिवर्सिटी की हालत पहले से ही खराब थी, अब इन थके-हारे लोगों के आने से छात्रों का बस कल्‍याण ही समझें।

    Reply
  • 2 फरवरी २००४ लोकसभा चुनाव से पूर्व भाजपा केन्‍द्रीय कार्यालय में मीडिया के कार्य हेतु सौरव जी से मेरा मिलना हुआ। और वह मुलाकात मेरे मन में ऐसी छाप छोड़ गई मानों हम वर्षों से मित्र हैं। आपकी यह प्रतिभा मित्रों की एक मजबूत फौंज खड़ी करेगी। आपके उज्‍जवल भविष्‍य के लिए हार्दिक शुभकामनाएं

    आपका

    आर.पी. त्रिपाठी

    दिल्‍ली

    Reply
  • नवीन देवांगन says:

    विलक्षण प्रतिभा के धनी मालवीय भाई को कोटी-कोटी बधाई…..

    Reply
  • roopesh kohroo,seoni(mp) says:

    sourabh ji, aapko hardik shubkamnaye. aap is jimmedaari ko purn rup se nibhaye yahi mangalkamna hai. .[b][/b]

    Reply
  • upar likhi tippni ke lekhkon se nivedan hai, hunduwadi ko rashrawadi na likhen, is hisab se hu tamam ese log jo hinduwadi nahi hai rastra ke prati apni bhumika ko lekar sandeh me aa jate hain.

    Reply
  • सौमित्र राय कुंठा के शिकार हैं. उनकी खुद की कॉपी इतनी अच्छी है की आज तक सिटी रिपोर्टिंग में काम नहीं कर पाए. तलवे चाट कर डेस्क पर तो कोई भी काम कर लेता है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *