Connect with us

Hi, what are you looking for?

हलचल

शांत होकर बोलिए वरना फोन रख दूंगा : आईजी

: आरपी सिंह ने शाम तक जांच रिपोर्ट गाजीपुर से आ जाने की बात कही : निर्दोष महिलाओं को थाने में 18 घंटे तक बंधक बनाकर रखे जाने के मामले में अभी तक कोई कार्रवाई न होते देख आज भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह ने वाराणसी जोन के आईजी आरपी सिंह से फोन पर बात की. तीन प्रयासों के बाद आईजी से बात हो सकी. उसके पहले उनके अधीनस्थ बताते रहे कि साहब शहर में गए हैं तो साहब डीआईजी साहब के साथ मीटिंग में हैं. बाद में हुई बातचीत में आईजी आरपी सिंह ने कहा कि उन्होंने गाजीपुर के एसपी से रिपोर्ट मंगाई है.

<p style="text-align: justify;">: <strong>आरपी सिंह ने शाम तक जांच रिपोर्ट गाजीपुर से आ जाने की बात कही</strong> : निर्दोष महिलाओं को थाने में 18 घंटे तक बंधक बनाकर रखे जाने के मामले में अभी तक कोई कार्रवाई न होते देख आज भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह ने वाराणसी जोन के आईजी आरपी सिंह से फोन पर बात की. तीन प्रयासों के बाद आईजी से बात हो सकी. उसके पहले उनके अधीनस्थ बताते रहे कि साहब शहर में गए हैं तो साहब डीआईजी साहब के साथ मीटिंग में हैं. बाद में हुई बातचीत में आईजी आरपी सिंह ने कहा कि उन्होंने गाजीपुर के एसपी से रिपोर्ट मंगाई है.</p>

: आरपी सिंह ने शाम तक जांच रिपोर्ट गाजीपुर से आ जाने की बात कही : निर्दोष महिलाओं को थाने में 18 घंटे तक बंधक बनाकर रखे जाने के मामले में अभी तक कोई कार्रवाई न होते देख आज भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह ने वाराणसी जोन के आईजी आरपी सिंह से फोन पर बात की. तीन प्रयासों के बाद आईजी से बात हो सकी. उसके पहले उनके अधीनस्थ बताते रहे कि साहब शहर में गए हैं तो साहब डीआईजी साहब के साथ मीटिंग में हैं. बाद में हुई बातचीत में आईजी आरपी सिंह ने कहा कि उन्होंने गाजीपुर के एसपी से रिपोर्ट मंगाई है.

जब उनसे सवाल किया गया कि गाजीपुर का एसपी तो खुद इस मामले में दोषी है तो वह कैसे निष्पक्ष जांच रिपोर्ट दे सकता है. इस पर आईजी ने कहा कि एक बार रिपोर्ट आ जाने दीजिए पर देखा जाएगा. इससे पहले जब आईजी से बातचीत की शुरुआत हुई तो आरपी सिंह ने कहा कि उन्होंने तो उस दिन बातचीत (यशवंत से) के बाद पुलिस को बोल दिया था, बोले जाने के बाद तो महिलाएं छूट गई रही होंगी. तब यशवंत ने उन्हें बताया कि आईजी के आदेश के बावजूद पुलिस ने महिलाओं को नहीं छोड़ा था क्योंकि उन्हें आरोपी के सरेंडर से पहले महिलाओं को छोड़ा जाना मंजूर नहीं था. और यह सब गाजीपुर के एसपी के इशारे पर ही संभव हुआ होगा वरना किसी थानेदार की यह क्या बिसात की वह आईजी के आदेश को न माने. इतना सुनने के बाद आईजी चुप रह गए.

आरपी सिंह से बातचीत के दौरान आक्रोश से भरे यशवंत ने जब चिल्ला कर कहा– ” …मेरे पास पैसा नहीं है, पावर नहीं है तो क्या मुझे व मेरे परिवार को इस प्रदेश देश में जीने का अधिकार नहीं है, क्या यही देश का लोकतंत्र है जिसमें निर्दोष महिलाओं को थाने पर बिठा दिया जाता है और बड़े से बड़ा अधिकारी इस परिघटना को परंपरा मान चुप बैठा रहता है…”, तब इस पर आईजी आरपी सिंह ने इस अंदाज में न बात करने, शांत होकर बात करने की बात कही और ऐसा न करने पर फोन काट देने की धमकी दी. बाद में हुई बातचीत में आईजी ने आश्वासन दिया कि वे खुद इस मामले को गंभीरता से देख रहे हैं, उनसे इस प्रकरण के संबंध में लखनऊ से रिपोर्ट मांगी गई है और आज शाम तक हर हाल में रिपोर्ट आ जाएगी व उसे लखनऊ भेज दिया जाएगा.

Click to comment

0 Comments

  1. satya prakash "azad"

    October 20, 2010 at 8:28 pm

    har police wale ka ek hi andaz hota hai….IG sahab kahan se alag honge….koi inse poochhe ki aapki ma ke sath aisa huaa hota to aap kya karte??

  2. ए एन शिबली

    October 20, 2010 at 8:28 pm

    यशवंत जी
    नमस्कार
    आप कि अम्मी और दूसरी महिलाओं पर पोलिसे ज़ुल्म के बारे में भड़ास से मालूम हुआ. इतना कुछ के बावजूद पुलिसे को अब तक होश नहीं आया है. आगे का क्या इरादा है मुझे ज़रूर बताएं मैं इस मिशन में पूरी तरह से आपके साथ हूँ. पुलिस को उसकी औकात बतानी ज़रूरी है.
    ए एन शिबली
    ब्यूरो चीफ
    हिंदुस्तान एक्सप्रेस

  3. kamaljeet singh

    October 20, 2010 at 10:53 pm

    yeah utter pradesh ki police hai ….yashwant ji …ek khawat aapne suni hogi ki seedhi hamesha upper se saaf ki jaati hai ….theek ussi tarah yadi u.p. police me upper se safai hogi toh neeche waale apne aap saaf aur durust ho jayenge… waise agar yeah ghatna kisi bade neta ke sath hoti toh syaad na jaane aab tak kitne log line hajir ho chuke hote …. yahi aache chera hai u.p. police ka …..

  4. arvind singh

    October 21, 2010 at 12:59 am

    yahwant ji aaj desh me police to jaise wardi pahan kar apraad karane ko hi apana kartaya manane lagi hai, to kya isake liye kahi na kahi prashashan aur usaki gatiwidhiyo par apratackchha roop se niyatran rakhane ka dambha bharane wale patrakaar nahi hai,sach maniye to aisi ghatanao se loktantra ki dhajjiya to udati hi hai,poori manavata kalankit ho jaati hai, lekin jab tak yah tathakathit media wastav me apani bhoomika nahi nibhayega tab tak tantra nahi ssudharega.

  5. mahandra singh rathore

    October 21, 2010 at 4:50 pm

    MAHANDRA SINGH RATHORE

    YASHWANT JI KA IG RP SINGH SE BAAT KERNE KA TARIKA GALAT NAHI THA. KYA RP SINGH YA WO LOG NAHI JANTE KI THANE MAI UNKE GHAR KI MAHILAON KO BETHANE PER KYA WO SHANT HOKER HI KOI TIPPNI KERENGE. IG RP SINGH YASHWANT JI KO BHAROSA DILA REHE HAIN AUR NICHE KE POLICE OFFICER KO BHI BHAROSA DILA REHEN HAIN KI TUM APNE HISAB SE KAAM KERTE RAHO.

  6. akash rai journalist

    October 21, 2010 at 11:06 pm

    लखनऊ से रिपोर्ट मांगी गई है
    musibat me ubharti hai shaksiyat yaro. jo pattharo se na jujhe bah aayena kya hai.
    loktantra ke chauthe saktshali stambh ke saath jo apmaan ho raha hai bah murkhta poon hi nahi kayarta poon hai iski jitni bhi ninda ki jai kamm hai .
    yasvan ji ki maa ka nahi meri maa ka apmaan hua hai . yeh koi yasvant ji ke prati shanubhuti nahi . balki patkartita dhram me har patkaar ka kartab hai ki jaydati ka
    datkar saamna karo . kalam ke sipahi ke saath ab jyadati bardaast nahi ki jyegi
    ham uska tood jabab dege . hum chup nahi baethege .

  7. sudhir

    October 22, 2010 at 5:00 am

    janta pulice ka sath kyon de? kya pulice ka ye chehra naxliyon se bhi adhik khatarnak & kroor nahin hai?

  8. Alam Khan Editor

    October 22, 2010 at 8:00 am

    (अदालतोँ मेँ “तारीखेँ” और फाइलोँ मेँ जाँचेँ “रिपोर्टस”) शोर चाहे जितना हो लेकिन इस से ज्यादा होगा क्या ?
    मेरा देश महान
    आलम खाँन एडिटर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

टीवी

विनोद कापड़ी-साक्षी जोशी की निजी तस्वीरें व निजी मेल इनकी मेल आईडी हैक करके पब्लिक डोमेन में डालने व प्रकाशित करने के प्रकरण में...

हलचल

: घोटाले में भागीदार रहे परवेज अहमद, जयंतो भट्टाचार्या और रितु वर्मा भी प्रेस क्लब से सस्पेंड : प्रेस क्लब आफ इंडिया के महासचिव...

प्रिंट

एचटी के सीईओ राजीव वर्मा के नए साल के संदेश को प्रकाशित करने के साथ मैंने अपनी जो टिप्पणी लिखी, उससे कुछ लोग आहत...

Advertisement